दर्द

Posted on
  • Saturday, April 7, 2012
  • by
  • M. Afsar Khan
  • in
  • राम तेरी गंगा मैली हो गयी.....

    इतिहास गवाह है कि विश्व की महान मानव सभ्यताओं का विकास नदीयों के किनारे हुआ है। हर काल में मानव सभ्यता के विकास में नदीयों से गहरा रिष्ता रहा है। बात चाहे सिन्धु नदी घाटी सम्यता का हो या अमेजन की अथवा नील नदी की लें ख मोक्षदायीनी गंगा को लें। हर स्थान व काल में मानव का नदीयों से माँ-पुत्र का रिष्ता रहा है। मानव सभ्यताओं के विकास में नदीयों की अहम भूमिका रही है। अफसोसनाक बात आज यह है कि आधुनिकीकरण के अन्धि दौड़ में आकर मानव ने माँ-पुत्र के रिष्ते को कलंकित किया है। अपने उपभोग के उपरान्त कचरे व विषाक्त पदार्थों को गंगा के हवाले कर उसे दूषित करने का काम किया है।
    षिव की जटाओं से निकली मोक्षदायीनी गंगा जहाँ पूरे मानव सभ्यता को पापमुक्त करने का काम किया है वहीं पाप के स्याह रंग में डूबा मानव अपने पापों समेत दूषित कचरों व कल-कारखानों के विषाक्त पदार्थों को इसमें समाहित कर अपने को तो कुछ हद तक पाप मुक्त कर लिया है मगर माँ गंग के अस्तित्व पर प्रष्न चिन्ह सा लगा दिया है ? बात अगर पूर्वांचल की करें तो वाराणसी को छोड़ कर कहीं भी दूषित जल शोधन संयंत्र (ट्रीटमेंट प्लान्ट) नहीं है जबकि पूरे पूर्वांचल का दूषित जल, कचरा व विषाक्त पदार्थ गंगा के जिम्मे है। गंगा को दूषित करने के लिए तमाम साधन उपलब्ध हैं जैसे कि कल-कारखानों के विषाक्त पदार्थ व दूषित जल, गंगा स्नान के दौरान दूर-दराज से ढ़ोकर लाया गया कचरा समेत स्नान के दौरान साबुन व डिटेर्जंट का प्रयोग, मृत जानवरों को गंगा के हवाले करने व शवों को गंगा में मोक्ष की प्राप्ति के लिए प्रवाहित करने की संस्कृति ने भी गंगा को कुछ हद तक नुक्सान पहुँचाया है। कचरों व विषाक्त पदार्थों को ढ़ोते-ढ़ोते गंगा जल प्रदूषित होकर ठीक उसी प्रकार नीली पड़ गयी है जैसे विशपान के बाद मानव शरीर हो जाता है। भारत की जीवन रेखा मानी जाने वाली गंगा की स्थित इस हद तक बदतर हो गयी है इसका अन्दाज इसी बात से लगाया जा सकता है कि प्रति वर्ष गंगा का जल स्तर 2.5 से 3 मीटर गिर रहा है।
    पूर्वांचल की स्थित पर निगाह डालें तो केवल वाराणसी महानगर से 300 एमएलडी दूषित जल गंगा में प्रवाहित होता है, मीरजापुर से 100 टन कचरा युक्त जल, भदोहीं से 90 टन कचरा युक्त जल, चन्दौली से 110 टन कचरा युक्त जल, गाजीपुर से 5 एमएलडी दूषित जल व बलिया से 120 टन कचरा युक्त दूषित जल प्रति दिन गंगा में प्रवाहित किया जाता है। जबकि पूरे पूर्वांचतत्रल में केवल वाराणसी में ही दूषित जल शोधन संयंत्र (ट्रीटमेंट प्लान्ट) है, जिसमें केवल 100 एमएलडी दूषित जल ही शोधित हो पाता है ऐसी स्थित में गंगा का क्या होगा इस का अंदाज स्वयं लगाया जा सकता है ? परिणाम अब यह है कि नदी में लगातार आता कचरा व रेत खनन न होने से इसमे मार्च-अप्रैल के महीने में ही रेत के टीले नजर आने लगते हैं। नदी के दोनों किनारों पर कूड़ों का अम्बार अनायास ही देखने को मिलता है। जल का रंग चमकदार दूधिया से जहरीला भूरा सा हो गया है। दूर से आने वाले दर्षनार्थी यहाँ इस उम्मीदसे आते है कि उनको पापों से मुक्ति मिलेगी मगर गंगा का ये हाल देख आष्चर्यचकित हो जाते हैं। जानकारो की मानें तो दिन-प्रतिदिन गंगा नदी के सिमटने से धारा प्रवाह मध्य में हो गया है जिससे कि चलते नदी में फेंके जाने वाली गन्दगी बहने के बजाए किनारे एकत्र होकर नदी को प्रदूषित करते हैं।
    वाराणसी को मोक्ष की काषी नगरी के रूप में जाना जाता है। जहाँ विष्व के हर कोने से दर्षनार्थी पापमुक्ति के लिए तो आते ही हैं साथ में ढ़ेर सारे कूड़ा-कचरा ले आते हैं जिससे कि घाटों पर कचरों का अम्बार सा लग जाता है। स्वयं पापमुक्त तो होते हैं साथ में कचरों को भी मुक्त कर गंगा को कचरायुक्त कर देते हैं। शहरो में स्थापित कल- कारखानों से प्रतिदिन मुक्त होने वाले विषाक्त पदार्थ व कचरा युक्त जल गंगा को दूषित कर देती हैं। चन्दौली में स्थिति यह है कि जनपद के उत्तरी छोर पर स्थित ब्लाकों चहनियाँ व धानापुर के सैकड़ों तटवर्ती गाँवों के लोगों द्वारा दूषित जल गंगा में प्रवाहित किया जाता है। गंगा स्नान के नाम पर साबुन के काॅस्टिक झाग व प्लास्टिकों के अम्वार घाटों के पास लगा देते हैं। कुछ स्थानों पर तटवर्ती गाँवों के महिलाओं द्वारा बर्तनों के धोने का काम भी गंगा में किया जाता है। मारूफपुर, तिरगांवा, टांडा, सैफपुर, रामपुर दीयाँ, प्रसहटाँ, हिंगुतर, बुद्धपुर, रायपुर, धानापुर नरौली, बड़ौरा खलसा, अमादपुर, मेढ़वां, महुजी समेत दर्जनों तल्हटी के गाँवों के लोग गंगा के उपर अश्रित हैं चाहे सिंचाईं का मामला हो या जल का । जिससे कि अतिक्रमण का अन्देषा ज्यादा है। गाजीपुर में जल प्रवाह न्यून्तम है और ददरी घाट से 15 मीटर दूर तक गंगा प्रदूषित हो चुकी है। जल निगम के अभियन्ता इकबाल अहमद की माने तो यहाँ प्रति दिन 5 एमएलडी दूषित जल गंगा में प्रवाहित होता है। जबकि 61 करोड़ की लागत से दूषित जल शोधन संयंत्र (ट्रीटमेंट प्लान्ट) के लिए योजना प्रस्तावित है मगर वह भी अभी अधर में है। मीरजापुर में दर्जनों नालों द्वारा प्रतिदिन 100 टन कचरा युक्त दूषित जल गंगा में उडेला जाता है। बलिया में शहर का दूषित जल नालों द्वारा गंगा को दान दिया जाता है। इस प्रकार माँ गंगा पूरे पूर्वांचल समेत उत्त्र प्रदेष के अन्य जगहों का कचरा अपने गोद में समा कर भी अपना दर्द नहीं बयां करती हैं।
    दूषित जल व विषाक्त पदार्थों को ढ़ोते-ढ़ोते आज आलम यह है कि पूर्वांचल के आधा दर्जन जनपदों को जीवन देने वाली गंगा में अब मछलियाँ भी बमुष्किल मिलती हैं। जिससे कि मल्लाहों के पेट पर वज्रपात सा हो गया है। गंगा के जल में खतरनाक जीवाणुओं की संख्या कब की सरकारी मानक को लांघ चूकी है। वो दिन अब लद चुके जब लोग बोतलों में गंगा जल को वर्षों तक घरों में रखते थें। अब तो सप्ताह भर में जल का रंग बदल जाता है। गंगा को साफ करने के लिए वैसे तो शासन द्वारा अनेकों योजनाएं चलायी गयी जिसमें गंगा एक्षन प्लान काफी चर्चित रही। सभी योजनाओं का मूल असफलता रहा। इसके पीछे क्या कारण है सयुस के रा0 सचिव मनोज सिंह ‘डब्लू’ का मानना है कि ‘‘गंगा को तभी प्रदूषण मुक्त किया जा सकता है जब समाज का हर व्यक्ति इसपर गहन चिंतन करे तथा इसका संकल्प ले कि पूजा-पाठ के नाम पर गंगा को प्रदूषित नहीं करेगा। कल-कारखानों से मुक्त होने वाले विषाक्त पदार्थ व दूषित जल को ट्रीटमेंट प्लान्टों द्वारा वहीं पर शोधित कर दिया जाए तथा गंगा के सफाई हेतु जो भी कार्यक्रम संचालित किया जा रहा है उसमें जनता की प्रत्यक्ष सहभागिता हो और इसके प्रति व्यापक जागरूकता अभियान चलाया जाए।’’
    भारत की जीवन रेखा माने जाने वाली मोक्षदायीनी गंगा शायद आज कराह रहीं है मगर उनकी आवाज आज हमारे कानों तक नहीं पहुँच पा रही है। शासन व सत्ता के लोगों को शायद इसका भनक भी न लगे अनकरीब वह वक्त आयेगा जब माँ गंगा को नाले के रूप में हम पायेंगे। तब गंगा हमसे कह रही होगी कि...
    ‘‘ राम तेरी गंगा मैली हो गयी ,पापीयों के पाप धोते-धोते। ’’

    एम. अफसर खां सागर

    1 comments:

    S.N SHUKLA said...

    सार्थक और सामयिक प्रविष्टि, आभार.

    कृपया मेरे ब्लॉग"meri kavitayen" की नयी पोस्ट पर भी पधारें.

    Read Qur'an in Hindi

    Read Qur'an in Hindi
    Translation

    Followers

    Wievers

    Gadget

    This content is not yet available over encrypted connections.

    गर्मियों की छुट्टियां

    अनवर भाई आपकी गर्मियों की छुट्टियों की दास्तान पढ़ कर हमें आपकी किस्मत से रश्क हो रहा है...ऐसे बचपन का सपना तो हर बच्चा देखता है लेकिन उसके सच होने का नसीब आप जैसे किसी किसी को ही होता है...बहुत दिलचस्प वाकये बयां किये हैं आपने...मजा आ गया. - नीरज गोस्वामी

    Check Page Rank of your blog

    This page rank checking tool is powered by Page Rank Checker service

    Hindu Rituals and Practices

    Technical Help

    • - कहीं भी अपनी भाषा में टंकण (Typing) करें - Google Input Toolsप्रयोगकर्ता को मात्र अंग्रेजी वर्णों में लिखना है जिसप्रकार से वह शब्द बोला जाता है और गूगल इन...
      4 years ago

    हिन्दी लिखने के लिए

    Transliteration by Microsoft

    Host

    Host
    Prerna Argal, Host : Bloggers' Meet Weekly, प्रत्येक सोमवार
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

    Popular Posts Weekly

    Popular Posts

    हिंदी ब्लॉगिंग गाइड Hindi Blogging Guide

    हिंदी ब्लॉगिंग गाइड Hindi Blogging Guide
    नए ब्लॉगर मैदान में आएंगे तो हिंदी ब्लॉगिंग को एक नई ऊर्जा मिलेगी।
    Powered by Blogger.
     
    Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.