कैंसर का इलाज आसान है cure for cancer

कैंसर का शुमार आज भी लाइलाज बीमारियों में होता है तो इसके पीछे सिर्फ़ पैसे की हवस है।
पैग़म्बर हज़रत मुहम्मद साहब सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फ़रमाया है कि अल्लाह ने जितनी भी बीमारियां पैदा की हैं उनकी शिफ़ा भी रखी है। (भावार्थ हदीस)
यह बात कैंसर के बारे में भी सही है।
डा. हल्डा रेगर क्लार्क (Dr. Hulda Regehr Clark) एक नेचुरोपैथ हैं।
उनकी किताब क्योर फ़ॉर ऑल डिज़ीज़िज़दुनिया भर में बहुत पसंद की गई।
डा. हल्डा ने पैरासाइट्स को बीमारी के लिए ज़िम्मेदार माना है और बैटरी से चलने वाले एक ज़ैपर के द्वारा उन्हें ख़त्म करने का तरीक़ा भी उन्होंने बताया है।
उन्होंने जीवन भर रिसर्च की है और 100 से ज़्यादा कैंसर के पेशेंट्स को ठीक करने के बाद एक किताब लिखी है-
क्योर फ़ॉर ऑल कैंसर्स
इसके बाद उन्होंने एक किताब और लिखी है-
क्योर फ़ॉर ऑल एडवांस्ड कैंसर्स
ये दोनों किताबें भारत में भी प्रकाशित की जा चुकी हैं। इन्हें आप दिल्ली के बी. जैन पब्लिशर्स से मंगा सकते हैं।
नेट पर भी आप ये दोनों किताबें कहीं कहीं पढ़ ही लेंगे।
डा. हल्डा . क्लार्क का नाम नेचुरोपैथ की दुनिया में बहुत मशहूर है लेकिन दुख की बात यह है कि भारत के पत्र पत्रिकाओं में उनकी खोज के बारे में जानकारी नहीं दी जाती।
उन्होंने एक यंत्र Zapper का अविष्कार भी किया है, जिसके द्वारा हरेक बीमारी के इलाज में मदद मिलती है और जिस तरह वह नज़ला खांसी में मदद देता है, ठीक वैसे ही वह कैंसर को भी बढ़ने से तुरंत ही रोक देता है।

Frequency Generation Dual Frequency Zapper

उसका सर्किट भी उन्होंने अपनी किताब में दे रखा है जिसे आप अपने शहर के किसी इलैक्ट्रॉनिक्स के जानकार से बहुत कम क़ीमत में तैयार करवा सकते हैं या फिर डा. हल्डा की पैथी के प्रचार केंद्रों से तैयारशुदा मंगा सकते हैं।
उनका तरीक़ा निहायत सादा और कम ख़र्चीला है।
उनके तरीक़े में अंग्रेज़ी दवाओं की ज़रूरत नहीं पड़ती है और यही बात अंग्रेज़ी दवा विक्रेताओं को पसंद नहीं है। उन्होंने डा. हल्डा के खि़लाफ़ तरह तरह से दुष्प्रचार किया लेकिन वह लगातार अपनी सेवाएं दे रही हैं और बता रही हैं कि हम अपनी ग़लतियों के नतीजे में बीमारियों के शिकार हो जाते हैं और उन ग़लतियों को दूर करके सभी बीमारियों का इलाज मुमकिन है।
पूंजीपतियों का लालच आड़े जाता तो डा. हल्डा की पैथी आज दुनिया भर में फैल चुकी होती और जो लोग बीमारी का दुख झेल रहे हैं और महंगे इलाज कराकर बर्बाद हो रहे हैं, वे उस दुख और बर्बादी से बच सकते थे।
बहरहाल यह भारत है और इसकी ख़ासियत यह है कि यहां बीमार हरेक तरीक़ा इलाज को आज़मा सकता है।
देखिए आप कि यहां कौन डा. हल्डा . क्लार्क के तरीक़े से इलाज कर रहा है ?
और इसकी जानकारी आप हमें भी दें ताकि हम दूसरों को भी वहां भेज सकें।
इस जानकारी को ज़्यादा से ज़्यादा आम कीजिए ताकि मायूस मरीज़ों के दिल में उम्मीद की शमा जल सके और वे सेहतयाब हो सकें,
मालिक सभी बीमारों को शिफ़ा अता फ़रमाए,
आमीन !

What Is A Parasite

What is a parasite?, Dr Hulda Clark explains:

A parasite is an organism that lives off the host, the host being you or me. The parasites live a parallel life inside our bodies, feeding off either our own energy, our own cells or the food we eat, and even feeding off the health supplements we use.
In recent medical studies, it has been estimated that 85% of the North American adult population has at least one form of parasite living in their bodies. Some authorities feel that this figure may be as high as 95%.

An extraordinary variety of viruses, bacteria, and parasites stand ready to attack us and feed off our bodies’ cells. Using microscopes of varying power, photographers show us a teeming microbial world that we could barely imagine without their help.

The approximate sizes of microbes can be approximated by using the following rule of thumb:

VIRUSES are the smallest of all infectious agents, averaging about 100 nanometers (100 billionths of a meter) in length. They have so few genes and proteins of their own that in order to reproduce they need to commandeer the machinery of the cells they invade.
BACTERIA vary widely in size and shape, but tend to be at least 10 times larger than viruses, or at least 1 micrometer (1 millionth of a meter) long. They are single-cell organisms that reproduce independently.
SINGLE-CELL PARASITES tend to be at least 10 times larger than bacteria, or about .01 millimeter long.
MULTI CELLULAR PARASITES are so large they can usually be seen with the naked eye. Tapeworms, for instance, can reach a length of 6 meters (20 feet).

Food and water are the most common sources of parasite transmission. Since most of us eat three times a day and drink water frequently throughout the day, our exposure to these sources is constant. Tap water has been found to be contaminated with parasitic organisms. Both plant and animal foods carry parasites, and cleaning and cooking methods often do not destroy them before ingestion. The CDC (Center for Disease Control) cites food as the catalyst behind 80 percent of the pathogenic outbreaks in the U.S. Most are linked to restaurants and delis where less than sanitary conditions exist — from food preparation and storage to the utensils and servers’ hands.

Animals, just like humans, can become infected with parasites. Internally, contaminated water and food can spread the problem to our pets. Externally, animals become infected by parasites on their bodies, especially on their fur, because of exposure to infected animal wastes. Forgetting to wash your hands even one time after handling or cleaning up after your animal can transmit the parasite to you. Pets are a wonderful part of our lives. They provide comfort, companionship, protection, amusement, and unconditional love for their owners. Yet, pets, like humans, are often victims of serious infections that can unintentionally be passed on to their owners. In fact, there is a whole set of diseases classified as ‘zoonoses’ (animal-transmitted diseases) in parasitology textbooks. Animals are major carriers of parasites, and most physicians, let alone the general public, are unaware of this fact. Experts have projected that of the 110 million pet dogs and cats in this country, over half may be infected with at least one or more different kinds of parasites. Considering these numbers, the potential for transmission of parasitic infection from animals to humans is extremely high.

The CDC estimates that the number of parasites present in the United States alone number in the thousands. These parasites are biochemically complex creatures in their life histories, development, reproductive cycles, nutritional requirements, and disease manifestation. They are categorized according to structure, shape, function, and reproductive ability. These include microscopic organisms (protozoa); roundworms, pinworms, and hookworms (nematoda); tapeworms (cestoda); and flukes (trematoda).

PROTOZOA


Making up approximately 70 percent of all parasites, protozoa are invisible to the naked eye. They are one-celled microscopic organisms, but don’t let their size fool you. Certain protoans, through their intensely rapid reproductive ability, can take over the intestinal tract of their host; and from there go on to other organs and tissues. Some feed on red blood cells. Some protozoa produce cysts – closed sacs in which they may be safely transported through food and water from one person to another. In the cyst state, protozoans are safe from destruction by human digestive juices. These one-celled ‘vampires’ can actually destroy the tissues of their hosts. According to experts, an estimated 7 million people across the U.S. have some form of protozoa living inside of them. Common protozoa include: Endolimax nana, Giardia lamblia, Entamoeba histolytica, Cryptosporidum parvum, Blastocystis hominis, Trichomonas vaginalis, Toxoplasma gondii, Cyclospora cayetanensis, Cryptosporidium muris, Pneumocystis carinii, Plasmodium malariae, Plasmodium ovale, Plasmodium vivax, Plasmodium falciparum, Leishmania donovani, Leishmania tropica, and Leishmania braziliensis.

NEMATODE

While the protozoans are only single-celled, nematode creatures are multi cellular. The adult worms multiply by producing eggs called ova or larvae. The eggs usually become infectious in soil or in an intermediate host before humans are infected. It is interesting to note that unless the worm infection is heavy, many individuals do not show signs of disease. While it may be unpleasant to consider, it is true that the human host can coexist quite comfortably with a few worms, unless they reproduce in great numbers and create organ obstruction. Experts claim that ‘some type of worm is already in the intestines of over 75 percent of the world’s population’. This is a frightening statement. Common nematode include: Roundworm (Ascaris lumbricoides), Hookworm (Necator Americanus, Ancylostoma duodenal), Pinworm (Enterobius vermicularis), Roundworm (Toxocara canis, Toxocara cati), Heart worm (Dirofilaria immitis), Strongyloides (Stronglyoides stercoralis), Trichinella (Trichinella spiralis), Filaria (Wuchereria bancrofti, Brugia malayi, Onchocerca volvulus, Loa loa, Mansonella streptocerca, Mansonella perstans, Mansonella ozzardi), and Anisakine larvae.

CESTODA

Among the oldest known parasites, tapeworms are considered humanity’s largest intestinal inhabitant. They each have a scolex (head) that attaches to the intestinal wall. As long as the head remains attached to the intestinal mucosa, a new worm can grow from it. Tapeworms do not contain digestive tracts but get their nourishment by absorbing partially digested substances from the host. They are whitish in color, flat, and ribbon-like, with a covering that is a transparent skin-like layer. Common cestoda include: Beef tapeworm (Taenia saginata), Pork tapeworm (Taenia solium), Fish tapeworm (Diphyllobothrium latum), and Dog tapeworm (Dipylidium caninum).

TREMATODE


Trematode are leaf-shaped flatworms also known as flukes. They are parasitic during nearly all of their life-cycle forms. The cycle begins when larvae are released into freshwater by infected snails. The free-swimming larvae can then directly penetrate the skin of the human host or are ingested after encysting in or on various edible, vegetation, fish, or crustaceans. Common trematode include: Intestinal fluke (Fasciolopsis buski), Blood fluke (Schistosoma japonicum, Schistosoma mansoni) Schistosoma haematobium), Liver fluke (Clonorchis sinensis), Oriental lung fluke (Paragonimus westermani), and Sheep liver fluke (Fasciola hepatica).

The most effective way to rid parasites is through a Dr Clark Digital Frequency Zapper, (Zapper Digital), Tuned to the specific frequency of the parasite (included in CAFL frequency book). Read Dr Hulda Clark “A cure for all diseases” where the various frequencies of parasites is explained, and how Dr Hulda Clark tuned her first prototype Digital Zapper to specific frequencies and destroyed them within the body.

Always use Zapper Digital MHz before and after a herbal parasite cleanse for effective elimination of parasites from the liver. Use the “Parasites – Flukes” setting on the Zapper Digital: See Frequencies Page on the menu bar. Zapper Digital can eliminate all Parasites, Worms and Fungus. In Fact the 3000 parasites are generally Sub-Species of about 10 main parasite types which include Amoeba, Ascaris, Cryptosporidium, Giardia, Lymphocytes, Macrophage, Paramecium, Cestoda, Protozoa, Trematode and Nematode.

For General Parasite Treatment we recommend the:
Parasites general comprehensive frequency set: [KHz] 0.16, 0.30, 0.68, 0.90, 2.50, 5.50, 13.93, 93.50, 356.72, 451.17

3 Digital Zapper machines are now available based on Dr Clark’s clear statement that a Digital Zapper was the “most elementary model” for your needs, go no less than this. Leave the Shoebox Zappers in the 1980′s because these Digital models are available today. A Prescription filled out in your name on page 502 of Cure for all diseases by Dr Clark herself:

DIGITAL MODELS
(1) Elementary Model is the DIAL Zapper : Zapper Digital
(2) Advanced Frequency Generator: Zapper Digital LCD
(3) Professional Clinic Model: Zapper Digital Megahertz: (Based on Dr Clark’s Clinic Model)

Use only Frequency Generator Digital Zappers, that have more power than the conventional Zapper and are the “Digital type Zapper” specifically outlined on page 502 in “Cure for all diseases”. Run a 10 frequency comprehensive parasite set on the Zapper Digital LCD or MHZ model in order to target the various parasitic pathogens, who live in these particular frequency ranges.

Good luck, Dr Clark (2008) To see more information on the Zapper Digital LCD, and other zappers click here.


The Cure and Prevention of all Cancers By Hulda R. Clark

Get 20% off until Sunday, August 28, 2011

by Dr. Hulda Regehr Clark, English including the DVD "Conversations with Dr. Clark".

To order or for more info see here.

Coupon Code: W4Weekly2

This discount is valid only until 8/28/2011

Prevention of All Cancers by Dr. Hulda R. Clark

Prevention of All Cancers by Dr. Hulda R. Clark

Get 20% off until Sunday, August 28, 2011

Cancer can now be cured, not only the early stages, but also advanced cancer, stages four and five, including imminent death.
Cancer can be cured, not just treated. Kill the malignancy-causing parasite and the tumor-causing bacteria. Learn the dietary triggers for each oncovirus that immortalizes your tumor cells. Outwit RAS, MYC, NEU, SRC, SV40, JUN, and FOS with diet. Follow a tester’s protocol that guarantees success. Get your immunity back with electricity: zapping, plate-zapping and homeography make it easier than ever to find your health again.

To order or for more info see here.

Coupon Code: W4Weekly2

This discount is valid only until 8/28/2011

Book

Cure for All Advanced Cancers by Dr. Hulda R. Clark

Get 20% off until Sunday, August 28, 2011

Cancer can now be cured, not only the early stages, but also advanced cancer, stages four and five, including imminent death.
We are not accustomed to thinking about a cure. We think of remission as the only possiblity, but this book is not about remission, it is about a cure.

To order or for more info see here.

Coupon Code: W4Weekly2

This discount is valid only until 8/28/2011

Cure for All Cancers by Dr. Hulda R. Clark

Cure for All Cancers by Dr. Hulda R. Clark

Get 20% off until Sunday, August 28, 2011

Cancer can now be cured, not just treated.
We are not accustomed to thinking about a cure for cancer. We think of remission as the only possibility. But this book is not about remission. It is about a cure.
This is possible because in 1990 Dr. Hulda Clark discovered the true cause of cancer. The cause is a certain parasite which she found evidence of in every cancer case, regardless of the type of cancer.

To order or for more info see here.

Coupon Code: W4Weekly2

This discount is valid only until 8/28/2011

Cure for All Diseases by Dr. Hulda R. Clark

Cure for All Diseases by Dr. Hulda R. Clark

Get 20% off until Sunday, August 28, 2011

This book describes the causes of both common and extraordinary diseases and gives specific instructions for their treatment.
The sick have been held hostage for their money or intangible assets since time immemorial. Doctors, even primitive and natural healers, surround themselves with mystery as they use herbs or chemicals and incantations or “prognoses” to help the sick recover.

To order or for more info see here.

Coupon Code: W4Weekly2

This discount is valid only until 8/28/2011

Cure for HIV & AIDS by Dr. Hulda R. Clark

Cure for HIV & AIDS by Dr. Hulda R. Clark

Get 20% off until Sunday, August 28, 2011

53 CURED Cases the First Year.

Cure, not treatment, is the subject of this book. In 1991 Dr. Hulda Clark discovered the source of HIV. Once the source became clear the cure became obvious, but would it work?

To order or for more info see here.

Coupon Code: W4Weekly2

This discount is valid only until 8/28/2011

Read More...

राजशाही चली गई और बादशाही भी चली गई, इसलिए नफ़रतों को भी चले जाना चाहिए

 जो लोग अकबर को महान कहने पर ऐतराज़ करते हैं वे भी यह मानते हैं कि हिंदू राजा महान होते हैं। एक महान हिंदू राजा में जो गुण होते हैं, उन गुणों को अकबर में देख लिया जाए कि वे गुण उसमें हैं कि नहीं, बात साफ़ हो जाएगी कि अकबर उनके समान ही या उनसे बढ़कर महान है। उसकी महानता के गुण उसके काल के ब्राह्मणों ने भी गाए हैं।
यहीं के हिंदू ऊंचनीच और छूतछात से मुक्ति पाने के लिए मुसलमान बने हैं, यह एक साबितशुदा हक़ीक़त है। इससे पता चलता है कि हिंदू और मुसलमान भाई भाई ही हैं। भाई भाई में झगड़े राम के दौर में भी हुए और कृष्ण के दौर में भी। झगड़ों की वजह से ख़ून के रिश्ते नहीं बदल जाते।
राजशाही चली गई और बादशाही भी चली गई, इसलिए नफ़रतों को भी चले जाना चाहिए।
अकबर महान क्यों नहीं ? और हिंदू मुसलमान भाई क्यों नहीं ?
Read More...

सतयुग कैसे आएगा ? , पर एक बहस

इस्लाम की तरफ बढ़ते रुझान से और मुसलामानों की बढ़ती तादाद से 'सतयुग' का क्या सम्बन्ध है ?
हमारी पिछली पोस्ट पर इस मौज़ू पर एक अच्छी चर्चा हुई है . 
ईश्वर सत्य है और वह एक है. उसका आदेश सबसे ऊपर होना चाहिए , सबको धर्म यही बताता है.
लोगों ने जबसे यह भुलाया है तबसे कलियुग चल रहा है.
इसे ख़त्म करने के लिए भूली हुई बात को याद करना बहुत ज़रूरी है. 
मुसलमान वही भुला दी गयी बात याद दिलाते हैं , 
देखिये इस ब्लॉग की हमारी पिछली यादगार पोस्ट :

आगे बढ़कर सत्य को मानें और दूसरों के लिए एक मिसाल बनें जैसे कि पं. श्री दुर्गाशंकर सत्यार्थी जी महाराज

Read More...

करेक्ट करें कैटरैक्ट (मोतियाबिंद)

eye420.jpg
मोतियाबिंद अंधेपन की एक बड़ी वजह है, लेकिन समय रहते अगर इसका इलाज करा लिया जाए, तो मरीज पहले की तरह न सिर्फ देख सकता है, बल्कि कुछ खास स्थितियों में उसे चश्मे से भी निजात मिल सकती है। क्या है मोतियाबिंद? क्या इसे दवाओं से रोका जा सकता है? अगर नहीं, तो फिर इसका इलाज क्या है? एक्सपर्ट्स से बात करके मोतियाबिंद के बारे में ऐसे ही तमाम सवालों के जवाब दे रहे हैं प्रभात गौड़ :

क्या है मोतियाबिंद
मोतियाबिंद का पूरा मिकेनिजम समझने के लिए हमें आंख की संरचना समझने की जरूरत है। हमारी आंख की पुतली के पीछे एक लेंस होता है। पुतली पर पड़ने वाली लाइट को यह लेंस फोकस करता है और रेटिना पर ऑब्जेक्ट की साफ इमेज बनाता है। रेटिना से यह इमेज नर्व्स तक और वहां से दिमाग तक पहुंचती है। आंख की पुतली के पीछे मौजूद यह लेंस पूरी तरह से साफ होता है, ताकि इससे लाइट आसानी से पास हो सके। कभी-कभी इस लेंस पर कुछ धुंधलापन (क्लाउडिंग) आ जाता है, जिसकी वजह से इससे पास होने वाली लाइट ब्लॉक होने लगती है। इसका नतीजा यह होता है कि पूरी लाइट पास होने पर जो ऑब्जेक्ट इंसान को बिल्कुल साफ दिखाई देता था, अब कम लाइट पास होने की वजह से वही ऑब्जेक्ट धुंधला नजर आने लगता है। लेंस पर होनेवाले इसी धुंधलेपन या क्लाउडिंग की स्थिति को कैटरैक्ट या मोतियाबिंद कहा जाता है। यह क्लाउडिंग धीरे-धीरे बढ़ती जाती है और मरीज की नजर पहले से ज्यादा धुंधली होती जाती है।

उम्र बढ़ने के साथ लगभग सभी लोगों में मोतियाबिंद हो जाता है। आमतौर पर 55 साल से ज्यादा उम्र के लोगों में यह बीमारी होती है, लेकिन कई बार यह युवाओं में भी हो सकता है और बच्चों में भी। कुछ बच्चों में यह जन्म से ही होता है और कुछ में बाद में डिवेलप हो जाता है। यह एक आंख में भी हो सकता है और दोनों में भी। हो सकता है, यह पूरे लेंस को ही प्रभावित कर दे और यह भी हो सकता है कि लेंस के कुछ हिस्से को ही प्रभावित करे। वैसे, मोतियाबिंद धीरे-धीरे डिवेलप होता है और इसमें किसी तरह का दर्द नहीं होता।

वजह
बढ़ती उम्र
आंख में लगी कोई चोट
स्टेरॉइड वाली दवाओं के ज्यादा सेवन से
अल्ट्रावॉयलेट लाइट के सामने ज्यादा एक्सपोजर (मसलन वेल्डिंग के वक्त आनेवाली लाइट आदि)
स्मोकिंग और डायबीटीज

लक्षण
धुंधला नजर आना
धीरे-धीरे नजर कमजोर होते जाना
रंगों को ठीक से न देख पाना
रात में हेडलाइट्स ज्यादा तेज नजर आना (इससे ड्राइविंग में दिक्कत)
सूरज की रोशनी को देखने में दिक्कत आना या चकाचौंध लगना
चश्मे के नंबर में बार-बार बदलाव होना।

बचना मुश्किल है इस मर्ज से
मोतियाबिंद की सबसे आम वजह है बढ़ती उम्र। जैसे उम्र बढ़ने को रोका नहीं जा सकता, वैसे ही मोतियाबिंद को रोक पाना भी मुमकिन नहीं। आमतौर पर यह 55 साल की उम्र में होता है। टीवी देखने से बचना, कम पढ़ना और आंखों का कम इस्तेमाल करना जैसी बातों से मोतियाबिंद नहीं रुकता। ऐसी कोई दवा नहीं बनी है, जिससे मोतियाबिंद को होने से रोका जा सके या फिर उसे ठीक किया जा सके।

क्या है इलाज
मोतियाबिंद का एकमात्र इलाज ऑपरेशन है और मोतियाबिंद होने के बाद जितनी जल्दी हो सके, ऑपरेशन करा लेना चाहिए। मोतियाबिंद के ऑपरेशन के दौरान सर्जन आंख की पुतली के पीछे मौजूद धुंधले पड़ चुके नैचरल लेंस को हटा देते हैं और उसकी जगह नया आर्टिफिशल लेंस लगा देते हैं। आटिर्फिशल लेंस को इंट्रा-ऑक्यूलर लेंस कहा जाता है। ऑपरेशन की आजकल तीन तकनीक हैं। पहली तरीका परंपरागत है, जिसे एक्स्ट्रा कैप्सुलर कैटरैक्ट एक्स्ट्रैक्शन यानी ईसीसीई कहा जाता है। यह काफी पहले किया जाता था। दूसरा तरीका है स्मॉल इंसिजन कैटरैक्ट सर्जरी (एसआईसीएस)। इसे भी अब कम ही इस्तेमाल किया जाता है। लेटेस्ट तरीका है, माइक्रोइंसिजन कैटरैक्ट सर्जरी यानी फैकोइमल्सिफिकेशन। इसे फैको सर्जरी भी कहते हैं। मोतियाबिंद के ऑपरेशन में आजकल इसी तरीके का इस्तेमाल किया जा रहा है।

एक्स्ट्रा कैप्सुलर कैटरैक्ट एक्स्ट्रैक्शन ( ECCE )

कॉर्निया में 10-12 मिमी का कट लगाया जाता है।
नैचरल लेंस को एक पीस में बाहर निकाला जाता है।
टांके लगाने की जरूरत होती।
ऑपरेशन के बाद यह तय करने में 10 हफ्ते तक का वक्त लग जाता है कि मरीज के चश्मे का नंबर क्या होगा।

स्मॉल इंसिजन कैटरेक्ट सर्जरी ( SICS )
4-5 मिमी का कट लगाया जाता है।
कैटरैक्ट हाथ से हटाया जाता है और फोल्डेबल इंट्रा-ऑक्युलर लेंस लगा दिया जाता है।
टांके नहीं लगते।
हीलिंग तेज होती है।

माइक्रोइंसिजन कैटरैक्ट सर्जरी (फैकोइमल्सिफिकेशन)

सिर्फ 2 मिमी का कट लगाया जाता है।
अल्ट्रासोनिक वेव्स की मदद से नैचरल लेंस को तोड़ा जाता है और फिर बाहर निकाल दिया जाता है।
खून नहीं निकलता, टांके नहीं आते और दर्द भी नहीं होता।
अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत नहीं है। 15 मिनट में ऑपरेशन हो जाता है।

फैको सर्जरी
मोतियाबिंद के ऑपरेशन की यह लेटेस्ट तकनीक है। इसमें कॉर्निया (आंख की सबसे बाहरी सफेद सतह) पर एक छोटा-सा (सिर्फ 2 मिमी) कट लगाया जाता है। इस कट की मदद से एक छोटी-सी अल्ट्रासोनिक सूई को आंख के अंदर डाल दिया जाता है। इस सूई से अल्ट्रासोनिक वेव्स निकलती हैं, जो खराब हो चुके नेचरल लेंस को छोटे-छोटे टुकड़ों में तोड़ देती हैं। इसके बाद यह सूई आहिस्ता से इन टुकड़ों को आंख से बाहर खींच लेती है। अब इस लेंस की जगह एक आटिर्फिशल लेंस (इंट्राऑक्युलर लेंस) लगा दिया जाता है। सूई डालने के लिए किया गया 2 मिमी का छेद ऑपरेशन के बाद खुद-ब-खुद भर जाता है और इसमें किसी टांके आदि की जरूरत नहीं होती। पूरे ऑपरेशन में सिर्फ 15 मिनट का वक्त लगता है और मरीज उसी दिन घर जा सकता है।

ऑपरेशन चाहे जिस भी तरीके से किया जा रहा हो, मरीज को ऐनस्थीजिआ दिया जाता है। ऐनस्थीजिआ दो तरह से दिया जा सकता है - लोकल और टॉपिकल। लोकल ऐनस्थीजिआ में आंख की मूवमेंट रुक जाती है और उसमें किसी तरह का कोई दर्द नहीं होता। टॉपिकल ऐनस्थीजिआ देने के लिए आंख में एक ड्राप डाली जाती है। इससे दर्द महसूस नहीं होता, लेकिन आंख का मूवमेंट जारी रहता है। ऐनस्थीजिआ कोई भी दिया जाए लेकिन ऑपरेशन के दौरान मरीज पूरी तरह होश में रहता है। मरीज को कौन-सा एनस्थिसिया दिया जाना है, यह मरीज की आंख की कंडिशन और किस तकनीक का इस्तेमाल हो रहा है, जैसी बातों के आधार पर डॉक्टर तय करता है।

कभी-कभी कुछ खास परिस्थितियों में डॉक्टर एक्स्ट्रा कैप्सुलर कैटरैक्ट एक्स्ट्रैक्शन का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। ऐसा तब होता है, जब मरीज सर्जरी कराने में देर कर देता है और उसका लेंस काफी हार्ड हो जाता है। इस मैथड में कॉर्निया में 10 से 12 मिमी का कट लगाया जाता है और नैचरल लेंस साबुत बाहर निकाला जाता है।

फैको सर्जरी के बाद कुछ केसों में मरीज को फौरन दिखना शुरू हो जाता है, जबकि कुछ की नजर सर्जरी के एक या दो दिन बाद ठीक होती है। आमतौर पर दोनों आंख की सर्जरी एक साथ नहीं की जाती। अगर एक आंख की रिकवरी अच्छी है, तो दूसरी आंख का ऑपरेशन अगले दिन भी किया जा सकता है।

सर्जरी के रिस्क
सर्जरी आमतौर पर सफल होती है। यह कोई रिस्की ऑपरेशन नहीं है।

सर्जरी के साइड इफेक्ट्स
सर्जरी कोई भी हो, उसके बाद दर्द, इन्फेक्शन, सूजन और ब्लीडिंग जैसी दिक्कतें हो सकती हैं, लेकिन जहां तक गंभीर साइड इफेक्ट्स की बात है तो बहुत कम मरीजों के साथ ऐसा होता है। इनके लिए आपका सर्जन कुछ दवाएं देता है।

सर्जरी के बाद चश्मा
सर्जरी के बाद मरीजों को दूर का देखने के लिए आमतौर पर चश्मे की जरूरत नहीं पड़ती, लेकिन पास का देखने के लिए चश्मा लगाना पड़ता है। ऑपरेशन के दौरान जो इंट्रा-ऑक्युलर लेंस (आईओएल) आंख में डाला जाता है, उसकी पावर का आकलन कंप्यूटर से किया जाता है और पूरी कोशिश की जाती है कि सर्जरी के बाद नजर ठीक रहे। नैचरल लेंस अलग-अलग दूरियों पर फोकस करने के लिए अपने साइज में बदलाव कर लेता है, लेकिन लेंस चूंकि प्लास्टिक का बना होता है इसलिए इसमें ऐसा मुमकिन नहीं हो पाता। ऐसे में सर्जरी के बाद आमतौर पर लोगों को नजदीक के लिए चश्मे की जरूरत पड़ ही जाती है।

चश्मे की जरूरत नहीं होगी अगर ...
सर्जरी के दौरान आजकल कुछ ऐसे अकॉमडेटिंग आईओएल का भी यूज किया जा रहा है, जिसे लगवाने के बाद न सिर्फ मोतियाबिंद, बल्कि चश्मे से भी छुटकारा मिल जाता है। ऐसा ही एक लेंस है क्रिस्टालेंस, जो बिल्कुल नैचरल लेंस के जैसा होता है। इसके इस्तेमाल से मरीज को चश्मे से भी निजात मिल जाती है। एफडीए (यूएस फूड एंड ड्रग्स एडमिनिस्ट्रेशन) अप्रूव्ड इन लेंसों की मदद से मरीज की पास, बीच और दूर तीनों तरह की नजर ठीक हो जाती है। ऐसे में बेहतर यही है कि साधारण लेंस के बजाय अकॉमडेटिंग लेंस यूज किया जाए। अगर पहले कभी आपने मोतियाबिंद का ऑपरेशन नहीं कराया है और सेहत संबंधी कोई बड़ी समस्या नहीं है तो सर्जरी कराते वक्त इन लेंसों का इस्तेमाल कर सकते हैं। बाकी सलाह आपके सर्जन देंगे।

सर्जरी के बाद केयर
मोतियाबिंद का ऑपरेशन होने के दो घंटे के भीतर मरीज घर जा सकता है।

आंखों में डालने के लिए डॉक्टर दवा देते हैं, जिसे सर्जरी की शाम से डालना शुरू किया जा सकता है। दवा डालने से पहले हाथों को साबुन से धो लेना चाहिए।

खानपान संबंधी कोई बंधन नहीं होता।

आंखों को हाथ से या रुमाल से रगड़ना नहीं है। टिश्यू पेपर से साफ करके टिश्यू पेपर फेंक दें। मकसद यह है कि आंखें किसी भी तरह के इन्फेक्शन से बची रहें।

सर्जरी के दो दिन बाद आप रूटीन के कामों पर लौट सकते हैं। मसलन टीवी देखना, पढ़ना, लिखना, घूमना-फिरना आदि।

बच्चों में भी हो सकता है
ऐसा नहीं है कि मोतियाबिंद सिर्फ उम्र बढ़ने के साथ ही हो सकता है। नवजात बच्चों की आंखों में भी कई बार मोतियाबिंद हो सकता है और युवाओं को भी यह अपनी गिरफ्त में ले सकता है। बच्चों में होने वाला कुछ मोतियाबिंद जन्म के वक्त ही मौजूद होता है। इसे कॉन्जेनिटल कैटरैक्ट कहा जाता है। कुछ बच्चों में जन्म के कुछ महीनों के बाद भी यह डिवेलप हो जाता है। अगर मोतियाबिंद है तो बच्चे की आंख के बीच में या पुतली पर एक सफेद धब्बा दिखाई देगा। घर में इसे पहचान पाना मुश्किल होता है। आमतौर पर जन्म के वक्त बाल रोग विशेषज्ञ इस लक्षण को पहचान लेते हैं। वैसे, जन्म के समय मोतियाबिंद का होना बहुत रेयर है। यहां ध्यान देने की बात यह है कि बड़ों में अगर मोतियाबिंद की सर्जरी में देर कर दी जाए तो कोई खास फर्क नहीं पड़ता, लेकिन बच्चों के मामले में सर्जरी कराने में बिल्कुल देर नहीं करनी चाहिए क्योंंकि इससे हमेशा के लिए आंख की रोशनी भी जा सकती है। फिर इस उम्र में बच्चा कई तरह की चीजें सीखता है। नजर कमजोर होने के चलते उसके विकास पर भी बुरा असर पड़ सकता है।

योग
यौगिक एक्सरसाइजों के बल पर मोतियाबिंद को पूरी तरह ठीक किया जा सकता है या नहीं, इसके कोई सबूत नहीं हैं, लेकिन हां, कुछ प्राणायाम अगर लगातार किए जाएं, तो ऐसा मुमकिन है कि मोतियाबिंद होने की नौबत ही न आए। नीचे दिए गए प्राणायाम और क्रियाओं को इसी क्रम में रोजाना किया जाए तो आंखों को सेहतमंद रखा जा सकता है।

- कपालभाति

- अनुलोम-विलोम प्राणायाम

- भस्त्रिका प्राणायाम

- आंखों की सूक्ष्म क्रियाएं

होम्योपथी
अगर मोतियाबिंद शुरुआती स्टेज में है तो होम्योपथी से इसका इलाज हो सकता है, लेकिन अगर यह बढ़ चुका है तो बेहतर यही है कि सर्जरी करा ली जाए। शुरुआती स्टेज में मोतियाबिंद होने पर नीचे दी गई दवाओं में से कोई एक लें। दवा की चार गोली दिन में तीन बार लेनी हैं और ऐसा तीन महीने तक करना है। गोली 30 नंबर में बनवाएं।

- कैलकेरिया फ्लोरिका30 Calcarea Fluorica30

- कैलकेरिया कार्ब 30 . Calcarea Carb. 30

- सेलिशिया30 Silicea 30

- जिंकम सल्फ. Zincum Sulph. x®

अगर किसी मरीज का मोतियाबिंद बढ़ (एडवांस्ड स्टेज) गया है और किसी खास वजह से वह ऑपरेशन करा पाने की स्थिति में नहीं है, तो वह इस दवा को ले सकता है।

- कोनियम30 Conium 30

कई बार मोतियाबिंद की सर्जरी करा लेने के बाद कुछ दिक्कतें और साइड इफेक्ट्स आ सकते हैं। मसलन : सूजन आ जाना, लेंस का ठीक से फिट न होना या सही से हीलिंग न होना। ऐसे में ये दवाएं इस्तेमाल करें :

- स्टैफिसैग्रिया30 Staphysagria

- आनिर्का30 Arnica

अगर मोतियाबिंद 30-35 साल के आसपास आ जाए यानी प्रीमैच्योर कैटरेक्ट है तो ये दवाएं ले सकते हैं :

- लाइकोपोडियम30 Lycopodium

- अर्जंटम नाइट्रिकम30 Argentum Nitricum

होम्योपैथी में बिना अल्कोहल वाली सिनेरेरिया मैरिटिमा भी मोतियाबिंद की अच्छी दवा है। अगर मोतियाबिंद है तो इसे डालने से वह ठीक होता है, अगर नहीं है तो इसे डालने से मोतियाबिंद होने की आशंका खत्म हो जाती है।

कैसे करें सेवन : दोनों आंखों में एक एक बूंद दिन में चार बार डालें। ऐसा दो महीने तक करें। फिर डॉक्टर को दिखाएं।

नोट : कोई भी दवा डॉक्टर की सलाह के बिना न लें।

आयुर्वेद

आयुवेर्द के मुताबिक मोतियाबिंद वात रोग है। जब आंख पर वायु का दबाव बढ़ता है तो मोतियाबिंद होता है। अगर मोतियाबिंद शुरुआती स्टेज में है तो उसे आयुवेर्द के जरिए ठीक किया जा सकता है। इसकी वजहों में शामिल हैं : ज्यादा उपवास करना, सिरका जैसी खट्टी चीजों का ज्यादा इस्तेमाल, बिना सिर ढके तेज धूप में घूमना आदि।

बचाव : बचाव के लिए सुबह जागने के बाद मुंह में ठंडा पानी भरकर आंखों पर पानी के छपाके मारें।

1 चम्मच त्रिफला चूर्ण, आधा चम्मच देसी घी और 1 चम्मच शहद को मिला लें। इसे रोज सुबह खाली पेट लेना है। जिन लोगों को मोतियाबिंद नहीं भी है, वे भी इसे लें। इससे मोतियाबिंद के साथ-साथ आंखों की कई दूसरी बीमारियों से बचाव होता है।

गाजर, संतरे, दूध और घी का भरपूर इस्तेमाल करें।

इलाज : जिन लोगों को मोतियाबिंद की शुरुआत हो चुकी है, उन्हें आरोग्यवद्धिर्नी वटी, पुनर्नवादि मंडूर और सप्तामृत लौह जैसी दवाएं दी जाती हैं, लेकिन इन दवाओं को बिना वैद्य की सलाह के नहीं लेना चाहिए।

इसके अलावा एक बूंद प्याज का रस और एक बूंद शहद मिला लें। इसे काजल की तरह आंख में रोजाना लगाएं। आंखों से पानी निकलेगा और समस्या दूर होगी।

1 चम्मच घी, दो काली मिर्च और थोड़ी-सी मिश्री मिलाकर दिन में तीन बार लें।

मिथ
1. मोतियाबिंद का ऑपरेशन लेसर से भी होता है।
मोतियाबिंद को लेसर से ठीक नहीं किया जा सकता। फैको तरीके से की गई सर्जरी को ही कुछ लोग लेसर सर्जरी कह देते हैं। हां, बहुत कम मामलों में जब मोतियाबिंद लौट आता है, तो उसे ठीक करने के लिए लेसर का इस्तेमाल किया जाता है।
2. दवाओं से ठीक हो सकता है मोतियाबिंद।
मोतियाबिंद किसी भी दवा से, अच्छे खानपान से, विटामिनों की खुराक से या एक्सरसाइज करने से ठीक नहीं होता। दवाओं से इसके बढ़ने की स्पीड को भी कम नहीं किया जा सकता और न ही इसे होने से रोका जा सकता है। इलाज का एकमात्र तरीका ऑपरेशन ही है।
3. पूरी तरह पक जाने पर ही ऑपरेशन कराना चाहिए।
ऑपरेशन कराने के लिए मोतियाबिंद का पकना जरूरी नहीं है। शुरुआती दौर में भी मोतियाबिंद का ऑपरेशन कराया जा सकता है, बल्कि ज्यादा अच्छा तो यही है कि इसे जल्दी ही करा लेना चाहिए क्योंकि बाद की स्टेज में ऑपरेशन थोड़ा मुश्किल हो जाता है।
4. सर्जरी सर्दियों में ही करानी चाहिए, बरसात और गमिर्यों से बचना चाहिए।
मोतियाबिंद की सर्जरी किसी भी सीजन में कराई जा सकती है। गमिर्यों या बरसात में कराने से सर्जरी के रिजल्ट पर कोई असर नहीं होता। हां, सर्जरी के बाद इन्फेक्शन से बचना जरूरी है और उसका मौसम से कोई लेना-देना नहीं है।
5. ज्यादा पढ़ने या आंखों का ज्यादा यूज करने से होता है मोतियाबिंद
आंखों पर पड़ने वाला ज्यादा स्टेन या आंखों का जरूरत से ज्यादा इस्तेमाल मोतियाबिंद की वजह नहीं होता। यह उम्र से संबंधित बीमारी है और उम्र के साथ-साथ ज्यादातर लोगों में हो जाती है। इसे रोका नहीं जा सकता।
6. ऑपरेशन के बाद भी मोतियाबिंद लौट सकता है।
एक बार सर्जरी करा लेने के बाद मोतियाबिंद दोबारा नहीं लौटता क्योंकि पूरा-का-पूरा खराब लेंस बाहर निकाल दिया जाता है। बहुत कम लोगांे में नया लेंस भी एक साल बाद धुंधला (क्लाउडी) हो जाता है, जिसे एक मामूली-से ऑपरेशन से ठीक कर दिया जाता है।


एक्सपर्ट्स पैनल
डॉ. महिपाल सचदेव, चेयरमैन, सेंटर फॉर साइट
डॉ. नोशिर श्रॉफ, मेडिकल डायरेक्टर, श्रॉफ आई सेंटर
डॉ. सुशील वत्स, मेंबर, इगेक्युटिव कमिटी (दिल्ली होम्योपैथी रिसर्च काउंसिल)
डॉ. सुरक्षित गोस्वामी, जाने-माने योग गुरु
डॉ. एल. के. त्रिपाठी, वरिष्ठ आयुर्वेदिक चिकित्सक
Source : http://navbharattimes.indiatimes.com/articleshow/6880403.cms
Read More...

ब्लॉगर्स मीट वीकली (28) God in Ved & Quran


ब्लॉगर्स मीट वीकली (28)
सबसे पहले ब्लॉगर साथियों को प्रेरणा अर्गल का प्रणाम और सलाम /आप सभी साथियों का आज की ब्लॉगर्स मीट वीकली में स्वागत है /आप आइये और अपने विचारों से हमें अवगत करिए /

आज सबसे पहले मंच की पोस्ट्स

अनवर जमाल जी की रचनाएँ

अयाज अहमद जी की रचना

हमदर्दी के जज़्बात से ख़ाली होकर कविताएं गाने का मतलब क्या रह जाता है ?

विधवा समस्या इस बार की मीट का ख़ास टॉपिकथा। वृंदावन में बहुत सीविधवाएं रहती हैं। जोनिर्धन विधवाएं हैं, उनकेमरने पर उनके शरीर कोस्वीपर छोटे छोट पीस मेंकाटकर थैलियों मेंभरकर फेंक देते हैं।

अंतिम संस्कार क्यों नहीं हो पाता इन विधवाओं का ?

अफसर पठान जी की रचना

प्रदीप कुमार सहनीजी की रचना प्रदीप कुमार साहनीजी की रचना

हे ज्ञान की देवी शारदे

(मेरे ब्लॉग "मेरी कविता" पर ये सौवीं पोस्ट माता शारदे को समर्पित है । मुझे इस बात से अत्यंत हर्ष हो रहा है कि आज के ही शुभ दिन यह सुअवसर आया है जिस दिन सारा देश माँ की पूजा-अर्चना में लीन होगा ।)


मंच के बाहर की पोस्ट

गाय के साथ मुसीबत भी मुफ्त में


अमित चौधरी


ज्ञानपीठ से प्रकाशित अज्ञेय की एक किताब है, 'एक बूंद सहसा उछली।' इसमें यूरोप के यात्रा-वृत्तांत हैं।...
अज्ञेय आगे लिखते हैं, 'ठीक ही तो है। जहां मनुष्य गाय को नहीं खाता, वहां गाय मनुष्य को खाती है- और मनुष्य अच्छा भोजन नहीं है इसलिए उसको खाकर भी भूखी रह जाती है। ... गोधन का संवर्द्धन तो तभी हो सकता है जब हम उसे धन मानें; अर्थात भावना को एक ओर रखकर उसे आर्थिक नियमों के अधीन मान लें। माताओं की वृद्धि नहीं की जाती, न सुधार होता है और माताओं की नस्ल के बारे में कुछ कहना तो निरा दुर्विनय है!'


दिनेशराय द्विवेदी
जी

बालक की अभिरक्षा के निर्णय में उस का हित सर्वोपरि


सर्वोच्च न्यायालय ने अपने निर्णय में कहा कि पिता के प्राकृतिक संरक्षक होते हुए भी बालक के हितों को देखते हुए न्यायालय किसी अन्य व्यक्ति को संरक्षक नियुक्त कर सकता है।

स्वामी चंदरमोली

भ्रूण हत्या हिन्दुओ मे ही क्यो ?



हमारे कुछ नेताओ ने हिंदू मुस्लिम मे नफ़रत पैदा करने के लिए इन पर रोक लगाई है,भगवान कृशन की राधा उनके ताऊ व्रषभानु की बेटी थी,कृशन ने अपनी बहन सुभद्रा की शादी अपनी बुआ कुंती के लड़के अर्जुन से की,भगवान महावीर की पत्नी उनके मामा की बेटी थी,भगवान बुद्ध की पत्नी,उनकी मोसी की बेटी थी,सम्राट अशोक की पत्नी मोसी की बेटी थी,पर्थ्वी राज चौहान की पत्नी उनके सग़ी मोसी के बेटे जैचंद की बेटी है,आज भी दक्षिण भारत के हिंदू मामा बुआ मे ही शादी करते है,इसलिए भ्रूण हत्या नही है वैदिक धर्म को अपनाने से हम इस महा पाप से मुक्त हो सकते है .

नाथूराम गोडसे को नमस्कार


पंचनामा ब्लॉग पर
संगीता जी देख रही हैं

अश्क गाँधी के

देखे थे कई ख़्वाब उसने हिन्दुस्तान के वास्ते ,
सोचा न था कि दायरों में सिमट जाएगा इंसान का वजूद ......

रंग बिरंगी एकता
हम होंगे कामयाब! - डॉक्टर मार्टिन लूथर किंग, को जन्मदिन की शुभकामनाएं! गाँधी जी जिनके प्रेरणास्रोत थे…

सुधिनामा ब्लॉग पर
साधना वैद जी ने लिखा है

साँझ के उतरने के साथ ही ..., मैं अपने मन की गहराइयों में नीचेऔर नीचे उतरती ही जाती हूँ !

आशा जी की अनुभूति यह है कि

कुछ शब्दों को
स्वर नहीं मिलते
मीनाक्षी पंतजी की रचना






हर बज्म में बैठे और खुदको साबित भी कर लिया |
फिर भी रही शिकायत की हमको कुछ नहीं मिला |

"ज़िन्दग़ी में बड़े झमेले हैं" ( डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंकजी

")

घर हमारे बने तबेले हैं
ज़िन्दग़ी में बड़े झमेले हैं

तन्त्र से लोक का नहीं नाता
हर जगह दासता के मेले हैं

ऋतुराज बसंत

महेश्वरी कनेरी जी की प्रस्तुति

राजेश कुमारी जी भी कह रही हैं

आयो रे वसंत

धामक -धूमक कर आयो रे वसंत
धन्य -धरित्री महकायो रे वसंत!
घूम रहे अलि-अलि झूम रही कलि -कलि
पुहुप -पुहुप मुस्कायो रे वसंत !
धामक -धूमक कर आयो रे वसंत!

महेंद्र श्रीवास्तव जी ताज़ा चुनाव के बारे में बता रहे हैं
चुनाव में ईमानदारी ... ना बाबा ना

जब शाम की दवा यानि दारू मंहगी हो जाए तो समझ लेना चाहिएकि सरकार की उल्टीगिनती शुरू हो गई है।वाकई इस बात काग्रामीण अंचलों में असरदेखा जा रहा है। आपयकीन माने यूपी मेंचुनाव के दौरान शराबकी कीमतों में भारीकटौती की गई है।
वात रोग
<span title=.
लेखक डॉ. कैलाश द्विवेदी


मनुष्य के शरीर का ढांचा मांसपेशियों, हड्डियों, एवं जोड़ों से बना है वात रोग इन्ही जोड़ों का रोग है | वात के अंतर्गत कई प्रकार के रोग आते हैं | रोग की प्रकृति एवं लक्षणों के आधार पर वात रोगों के विभिन्न नाम दिए गए हैं .
कुमार राधा रमण जी हस्बे आदत बता रहे हैं
स्वास्थ्य सबके लिए

मसालों में छिपी है सेहत

मसालों की प्रकृति के बारे में सही जानकारी कई बीमारियों को आपसे कोसों दूर भगा सकती है।
जनाब दिनेश कुमार गुप्ता ‘रविकर‘ जी ने चर्चामंच पर
एक लाजवाब चर्चा पेश की है

पंजाबी मजदूर जब : चर्चा-मंच : 773


ब्लॉग की ख़बरें पर

महिला के शरीर में दो जननांग, पॉर्न इंडस्ट्री से ऑफर





सौजन्य- द सन लंदन।। ब्रिटेन में एक 'खास' शारीरिक दोष ने एक महिला को 1 मिलियन डॉलर (करीब 5 करोड़) का ऑफर दिला दिया है।

चाँदनी भी कहर सा ढाती है -
रूपचंद्र शास्त्री मयंक जी
जब भी पुरवा बयार आती है
ज़िन्दगी खूब खिलखिलाती है
जब भी बादल फलक घिरते हैं
याद प्रीतम की तब सताती है
हाथ से खिलाया तो इंडियन पैरंट्स से छीने बच्चे -
सौजन्य: एनडीटीवी ओस्लो।। नॉर्व में रहने वाला एक इंडियन कपल वहां के अजीब कायदे कानूनों की वजह से अपने बच्चों से 8 महीनों स...
प्लीज़ क्रांति न करे कोई No Revolution -लोग अंग्रेज़ो से टकराए तो वे देश से चले गए और आज बहुत से लोग यह कहते हुए मिल जाएंगे कि देश में आज जो असुरक्षा के हालात हैं, ऐसे हालात अंग्रेज़ों के दौर में न थे।
कहीं ऐसा न हो कि फिर टकाराया जाए तो देश और गड्ढे में उतर जाए।
सो प्लीज़ हरेक आदमी यह भी प्रण करे कि अब हम क्रांति टाइप कोई काम नहीं करेंगे।
वेद क़ुरआन ब्लॉग पर तत्व चर्चा

वेद क़ुरआन में ईश्वर का स्वरूप God in Ved & Quran

शारदा देवी को एक वर्ग ज्ञान की देवी मानता है। आज उसकी पूजा की जा रही है।
तत्व की बात तो यह है कि इस सृष्टि का संचालन कोई देवी देवता नहीं कर रहा है बल्कि एक सर्वशक्तिमान ईश्वर ही कर रहा है।

...लै-इ-स कमिस्लिहि शैउन ...
अर्थात उसके जैसी कोई चीज़ नहीं है.
(पवित्र क़ुरआन, 42,11)

न तस्य प्रतिमा अस्ति ...
उस परमेश्वर की कोई मूर्ति नहीं बन सकती.
(यजुर्वेद, 32,3)
Read More...

Read Qur'an in Hindi

Read Qur'an in Hindi
Translation

Followers

Wievers

Gadget

This content is not yet available over encrypted connections.

गर्मियों की छुट्टियां

अनवर भाई आपकी गर्मियों की छुट्टियों की दास्तान पढ़ कर हमें आपकी किस्मत से रश्क हो रहा है...ऐसे बचपन का सपना तो हर बच्चा देखता है लेकिन उसके सच होने का नसीब आप जैसे किसी किसी को ही होता है...बहुत दिलचस्प वाकये बयां किये हैं आपने...मजा आ गया. - नीरज गोस्वामी

Check Page Rank of your blog

This page rank checking tool is powered by Page Rank Checker service

Hindu Rituals and Practices

Technical Help

  • - कहीं भी अपनी भाषा में टंकण (Typing) करें - Google Input Toolsप्रयोगकर्ता को मात्र अंग्रेजी वर्णों में लिखना है जिसप्रकार से वह शब्द बोला जाता है और गूगल इन...
    4 years ago

हिन्दी लिखने के लिए

Transliteration by Microsoft

Host

Host
Prerna Argal, Host : Bloggers' Meet Weekly, प्रत्येक सोमवार
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Popular Posts Weekly

Popular Posts

हिंदी ब्लॉगिंग गाइड Hindi Blogging Guide

हिंदी ब्लॉगिंग गाइड Hindi Blogging Guide
नए ब्लॉगर मैदान में आएंगे तो हिंदी ब्लॉगिंग को एक नई ऊर्जा मिलेगी।
Powered by Blogger.
 
Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.