आतंकवाद का राजनीतिक लाभ किसे मिलेगा ?

किसी आदमी की हत्या के बाद पुलिस इस बात पर भी विचार करती है कि इस आदमी की हत्या रंजिशन की गयी है या फिर किसी लाभ के लिये की गयी है ?
आतंकवाद का मक़सद राजनीतिक लाभ उठाना होता है. इसलिये आतंकवादी घटनाओं के बाद यह भी देखा जाना चाहिये कि इस आतंकवादी घटना का राजनीतिक लाभ किसे मिलेगा ?

बम धमाकों का मक़सद लोगों को मारना नहीं होता. बम धमाकों से ज़्यादा लोग तो शराब पीकर मर जाते हैं या ब्याजखोर महाजन के डर से आत्महत्या कर लेते हैं.
ये आतंकवादी दरअसल अमन के दुश्मन हैं। इनके कुछ आक़ा हैं, जिनके कुछ मक़सद हैं। ये लोकल भी हो सकते हैं और विदेशी भी। जो कोई भी हो लेकिन इनके केवल राजनीतिक उद्देश्य हैं। ये लोग चाहते हैं कि भारत के समुदाय एक दूसरे को शक की नज़र से देखें और एक दूसरे को इल्ज़ाम दें। कुछ तत्व नहीं चाहते कि जनता अपनी ग़रीबी और बर्बादी के असल गुनाहगारों को कभी जान पाए। जनता का ध्यान बंटाने और उन्हें बांटकर आपस में लड़ाने की साज़िश है यह किसी की। इसकी जड़ें बहुत गहरी हैं, उन तक पहुंचना भी मुश्किल है और उन्हें खोद निकालना भी। कुछ जड़ों से तो लोग श्रृद्धा और समर्पण के रिश्ते से भी जुड़े हुए हैं। ऐसे में कोई क्या कार्रवाई करेगा ?
इस बार भी बस ग़रीब ही पिसेगा !
उसी का ख़ून पानी है वही बहेगा !!
और एक नज़र डा०  अनवर जमाल का यह मज़मून भी देखें -
Hindi Bloggers Forum International (HBFI): आतंकवाद के ख़ात्मे का एकमात्र उपाय Aatankwad Free India
Read More...

नरेन्द्र मोदी जी के प्रति मौलवी महमूद मदनी के विचारों में नरमी का कारण ? Maulana Mehmood Madni

गुजरात दंगों पर महमूद मदनी नरेन्द्र मोदी जी के अफ़सोस को पर्याप्त मानते हैं। उनकी यह नरमी प्रधानमंत्री बनने की संभावना रखने वाले व्यक्ति से मधुर रिश्ता बनाने की क़वायद है। उनके चाचा अरशद मदनी साहब ने कांग्रेस में उन्हें जमने नहीं दिया। अपनी क़िस्मत आज़माने के लिए अब महमूद मदनी के पास विकल्प ही क्या है ?
इसी तरकीब से मदनी ख़ानदान ने अरबों रूपये की संपत्ति अर्जित कर ली है। मुसलमानों के ये रहनुमा मुसलमानों को राह तो क्या दिखाते, ये तो उनके जज़्बात की भी नुमाईन्दगी नहीं करते।
नरेन्द्र मोदी जी के विषय में मौलवी महमूद मदनी के बयान को लेकर आज दैनिक ‘हिन्दुस्तान‘ में एक लेख छपा है। देखिए-
कमर वहीद नकवी, वरिष्ठ पत्रकार

मदनी साहब, आखिर यह माजरा क्या है? कयास पर कयास लग रहे हैं। लोग अपनी-अपनी अक्ल के घोड़े दौड़ा कर पता करने में लगे हैं। बीजेपी खुश है! माफ कीजिएगा, मुझे अचानक ‘रंगा खुश’ याद आ गया। बेचारी सेकुलर पार्टियों का तो मुंह ही उतर गया। सारे देश के मुल्ला-मौलवियों की नींद अचानक टूट गई। दारुल उलूम देवबंद जैसी संस्था से जुड़े और जमीयत उलेमा-ए-हिन्द के महासचिव मौलाना महमूद मदनी का दिल अगर नरेंद्र मोदी को लेकर पसीजने लगे, तो धमाका तो होगा ही।

वैसे मदनी साहब का कहना है कि उन्होंने अपने इंटरव्यू में सिर्फ जमीनी हकीकत का जिक्र किया था कि गुजरात में बहुत-से मुसलमानों ने इस बार मोदी को वोट दिया। बिहार में भी नीतीश कुमार के कारण कई जगहों पर मुसलमानों ने बीजेपी को वोट दिया है। यानी ‘बड़ा चेंज आ रहा है, सिचुएशन चेंज हो रही है और यकीनन गुजरात के लोग (मुसलमान) अलग तरीके से सोच रहे हैं।’ हालांकि, वह आगे साफ करते हैं कि जरूरी नहीं कि जो कुछ गुजरात और बिहार में घटित हो रहा है, उसका प्रतिबिंब पूरे देश में दिखे, लेकिन उन्होंने एक बेहद महत्वपूर्ण बात कही, जिसकी तरफ शायद लोगों का ध्यान नहीं गया। उन्होंने कहा, ‘2002 की दुर्घटना को जितने गर्व के साथ वह (मोदी) लेते आए हैं, वह इसमें सबसे बड़ी रुकावट है कि हम कह दें कि सब ठीक है।’ जब उनसे पूछा गया कि अब तो मोदी उन सब बातों की कोई चर्चा नहीं करते और सिर्फ विकास की बात करते हैं, तो मदनी साहब का जवाब था,‘कुछ अफसोस (गुजरात दंगों पर) होना चाहिए था। विकास इंसाफ के बगैर कैसे होगा?’ और मदनी ने यह भी साफ किया कि उनकी नजर में सेकुलर पार्टियां मोदी या बीजेपी से बेहतर नहीं हैं!

इसका क्या मतलब निकाला जाए? आखिर मौलाना महमूद मदनी अचानक ऐसी अटपटी संभावनाओं के स्वप्न क्यों बुनने लगे कि 2014 आते-आते मुसलमानों को बीजेपी और मोदी अच्छे भी लगने लग सकते हैं। और सेकुलर पार्टियों से मौलाना का मोहभंग अभी ही क्यों हुआ? क्या सचमुच मुसलमान सेकुलर पार्टियों से निराश हो चुके हैं और उन्हें नए ठिकाने की तलाश है? या फिर सचमुच मौलाना मोदी को विकास-पुरुष मानने लगे हैं और उन्हें लगता है कि अगर मोदी वाकई प्रधानमंत्री बनने ही वाले हैं, तो फिर देश के मुसलमान अपने गुजराती भाइयों से सीखते हुए क्यों न मोदी से दोस्ती के रिश्ते कायम करें। हो सकता है कि मौलाना को लगा हो कि अगर यूरोपियन यूनियन इतने बरसों के बाद मोदी से फिर संवाद शुरू करता है, तो मुसलमान भी अगर अपना नजरिया बदलने के बारे में सोचें, तो पहाड़ थोड़े ही टूट पड़ेगा। आखिर बिहार और गुजरात के उदाहरण सामने हैं।
पूरे इंटरव्यू में मौलाना मदनी ने एक बार भी नहीं कहा कि मोदी को माफी मांगनी चाहिए। शायद उन्हें मालूम है कि मोदी कतई माफी नहीं मांगेंगे, इसीलिए वह कहते हैं कि मोदी को दंगों पर अफसोस जताना चाहिए। यह सब बहुत चौंकाने वाला है, खासकर तब, जब यह शिगूफा उस देवबंद से आया हो, जिसने अभी डेढ़ साल पहले ही मोदी की तारीफ करने के आरोप में अपने गुजराती कुलपति मौलाना गुलाम वस्तानवी को बरखास्त कर दिया था और उनकी बरखास्तगी में मौलाना महमूद मदनी का बड़ा हाथ था। तब से अब तक स्थिति में सिर्फ एक बदलाव हुआ है, वह यह कि बहुत-से लोगों को लगने लगा है कि मोदी प्रधानमंत्री पद के तगड़े दावेदार हैं और अगर कहीं बाजी मोदी के हाथ लग ही गई, तो ऐसे में उनकी गोटियां सही जगह होनी चाहिए।
बहरहाल, मदनी साहब की दिली ख्वाहिश क्या है, वही जानें। यह हमारी चर्चा का विषय नहीं है। हम तो इस शिगूफे को खुरच-खुरच कर देखना चाहते हैं कि इसका मकसद आखिर क्या हो सकता है? मदनी के इंटरव्यू पर जिस तरह दनादन मुस्लिम धर्मगुरुओं की तीखी प्रतिक्रियाएं सामने आईं, उन्हें देखकर तो नहीं लगता कि मोदी के मामले में आम मुसलमानों के मन में अगले साल-डेढ़ साल में कोई नरमी आएगी। गुजरात का मुसलमान विकल्पहीनता की जिस लाचारी के तले घुट-घुटकर जीने को अभिशप्त है, वैसी कोई स्थिति देश भर में कहीं भी मुसलमानों के सामने नहीं है। उनके सामने विकल्प ही विकल्प हैं। पिछले कई चुनावों को देखें, तो मुस्लिम वोटों में एक खास तरह का पैटर्न दिखता है, वह है, वोटों के नितांत स्थानीय ध्रुवीकरण का, यानी जिस चुनाव क्षेत्र में जो उम्मीदवार बीजेपी को हराने में सबसे ज्यादा सक्षम हो, उसे वोट दिया जाए। मुझे लगता है कि इस बार यह ध्रुवीकरण पहले से और भी ज्यादा मजबूती से होगा।
तो फिर यह शिगूफा क्यों? मोदी भी जानते हैं और मदनी भी कि हमेशा से बीजेपी के विरुद्ध रहे मुस्लिम वोटर को ऐसे रातों-रात बहलाया नहीं जा सकता। लेकिन इस तरह की बातें अगर हवा में तैरती रहें, तो मोदी को दो बड़े फायदे होंगे। पहला यह कि मुसलमानों में उनके समर्थक कुछ ऐसे प्रभावशाली प्रवक्ता निकाल आएंगे, जो आम मुसलमानों के बीच धीरे-धीरे यह संदेश फैलाते रहें कि मोदी से दुश्मनी पालने में नुकसान ही नुकसान है। न गुजरा हुआ समय वापस लाया जा सकता है और न ही पहले हो चुके नुकसान की भरपायी हो सकती है। भलाई इसी में है कि मुसलमान पिछली बातों को भूलकर विकास की गाड़ी में सवार हो लें। ऐसे प्रचार से मुसलमानों के विरोध की धार कुंद होती जाएगी। दूसरा फायदा यह होगा कि मोदी एक तरफ तो दुनिया को यह दिखाने में कामयाब हो जाएंगे कि मुसलमानों में भी उनकी स्वीकार्यता धीरे-धीरे बढ़ रही है और दूसरी तरफ वह ‘सेकुलर माइंडसेट’ वाले हिंदू वोटरों के बीच भी अपनी धुली छवि के साथ विकास के अपने झुनझुने की अपील बढ़ा पाएंगे।
मोदी युद्धकला के सिद्धहस्त खिलाड़ी हैं, प्रचार युद्ध में उनका कोई जवाब नहीं। ‘इमेज वॉर’ की बारीकियों को उनसे बेहतर भला और कौन समझता है, इसका सबूत वह पिछले विधानसभा चुनाव में और अभी यूरोपियन यूनियन के मामले में दे चुके हैं। यह नया शिगूफा भी उसी की एक कड़ी है। अभी-अभी अपनी रणनीति में भी उन्होंने व्यापक बदलाव किया है और महाकुंभ में मथी गई ‘हिन्दू लहर’ पर सवार होने की बजाय फिलहाल ‘इन्क्लूसिव डेवलपमेंट’ के मुखौटे को पहनने का फैसला किया है।
Source : http://www.livehindustan.com/news/editorial/guestcolumn/article1-story-57-62-310631.html
Read More...

सादर ब्लॉगस्ते!: शोभना ब्लॉग रत्न प्रविष्टि संख्या - 8

सादर ब्लॉगस्ते!: शोभना ब्लॉग रत्न प्रविष्टि संख्या - 8: ग़ज़ल इस मतलबी जहां के तलबगार हम नहीं  दिल की सुनें सदा, करें व्यापार हम नहीं | चाहा तुझे, पूजा तुझे , माना खुदा तुझे  ये बात...
Read More...

वैदिक काल में माधवी का विवाह संस्कार vivah sanskar

इंटरनेट पर एक लेख नज़र से गुज़रा जिसमें कहा गया था कि हमारा विवाह संस्कार है। यह मुसलमानों के निकाह से उत्तम है क्योंकि वह एक क़रार होता है। उन्होंने यह अपील भी की थी कि हिन्दू विवाह को एक संस्कार ही माना जाए। इस विषय को जानने के लिए हमने वैदिक इतिहास में विवाह और स्त्री की स्थिति पर नज़र डाली तो वहां कोई एक निश्चित बात न मिली। इसी दौरान राजा ययाति की कन्या माधवी के विवाह संस्कार पर भी नज़र पड़ी।


संक्षेप में यह कथा ऑनलाइन भारतकोष के अनुसार इस प्रकार है कि गालव ब्रह्मर्षि विश्वामित्र के शिष्य थे। विश्वामित्र ने अपने शिष्य गालव से 800 ऐसे घोड़े मांगे जिनका रंग चन्द्रमा के समान सफ़ेद हो और उनके कान एक ओर से काले हों। गालव निर्धन थे। वह घोड़े जुटाने के लिए राजा ययाति के पास गया। ययाति के पास ऐसे घोड़े नहीं थे जैसे कि विश्वामित्र ने मांगे थे। ययाति ने गालव को अपनी कन्या माधवी दान में दे दी। गालव माधवी को लेकर सबसे पहले अयोध्या के राजा हर्यश्च के पास गया। उसने माधवी से वसुमना नामक राजकुमार प्राप्त किया और गालव को शुल्क के रूप में 200 घोड़े दिए। इसके बाद गालव माधवी को एक एक करके काशी के अधिपति दिवोदास के पास गया। उसने माधवी से प्रतर्दन नामक पुत्र प्राप्त किया और उसके शुल्क में गालव को 200 घोड़े दे दिए। उसके गाद गालव माधवी को लेकर भोजनगर के राजा उशीनार के पास गया। उसने भी माधवी से शिवि नामक पुत्र प्राप्त किया और उसने भी गालव को शुल्क के रूप में 200 घोड़े दिए। इसके बाद गालव और भी जगह गया और हरेक जगह से 200 घोड़े ले लेकर उसने 1000 घोड़े इकठ्ठा कर लिए। वितस्ता नदी पार करते समय उनमें से 400 घोड़े नदी में बह गए। गालव ने बचे हुए 600 घोड़े और माधवी को अपने गुरू विश्वामित्र को दे दिया। उन्होंने भी माधवी से एक बच्चा पैदा किया। उन्होंने गालव को माधवी लौटा दी और ख़ुद जंगल चले गए। गालव गुरूदक्षिणा के भार से मुक्त हो चुका था। उसने राजा ययाति को उसकी कन्या माधवी वापस दे दी और ख़ुद भी वन को प्रस्थान किया।
मशहूर लेखक भीष्म साहनी ने माधवी की कथा पर एक उपन्यास भी लिखा है जिसे राजकमल प्रकाशन से मंगाया जा सकता है।
माधवी की कथा के माध्यम से तत्कालीन वैदिक समाज में विवाह संस्कार की विविधताओं का अच्छा परिचय मिलता है।
किसी की भावनाएं आहत न हों, इसलिए हम अपना कोई नज़रिया पेश नहीं कर रहे हैं। अपना नज़रिया आप ख़ुद तय करें कि आप अपनी बहन-बेटियों का संस्कार करना पसंद करेंगे या कि क़रार ?
Read More...

Read Qur'an in Hindi

Read Qur'an in Hindi
Translation

लखनऊ के शिक्षा सम्मेलन में सलीम ख़ान को और डा. अनवर जमाल को 'Best Blogger' के ईनाम से नवाज़ा गया

Gadget

This content is not yet available over encrypted connections.

गर्मियों की छुट्टियां

अनवर भाई आपकी गर्मियों की छुट्टियों की दास्तान पढ़ कर हमें आपकी किस्मत से रश्क हो रहा है...ऐसे बचपन का सपना तो हर बच्चा देखता है लेकिन उसके सच होने का नसीब आप जैसे किसी किसी को ही होता है...बहुत दिलचस्प वाकये बयां किये हैं आपने...मजा आ गया. - नीरज गोस्वामी

Check Page Rank of your blog

This page rank checking tool is powered by Page Rank Checker service

विशेष सूचना पोस्ट पब्लिश करने के विषय में

कृप्या ध्यान दें कि
1-'हिंदी ब्लॉगिंग गाइड‘
के लोकार्पण का सिलसिला शुरू हो चुका है। इस विशेष आयोजन के मौक़े पर सभी से सहयोग की आशा की जाती है और अनुरोध किया जाता है कि जब तक यह विशेष लेखमाला पेश की जा रही है तब तक यह ध्यान रखा जाए कि ‘हिंदी ब्लॉगिंग गाइड‘ के लेख को पेश किए जाने के 8 घंटे बाद ही कोई अन्य लेख इस मंच पर प्रकाशित किया जाए।
2- ब्लॉगर्स मीट अब ब्लॉग पर आयोजित हुआ करेगी और वह भी वीकली Bloggers'Meet Weekly
यह प्रत्यके सोमवार के दिन आयोजित होगी। मंच के सभी सदस्य इस पारिवारिक समारोह को सफल बनाने का पूरा प्रयास करें। इस दिन भी इस गोष्ठी के 8 घंटे बाद ही कोई दूसरा लेख प्रकाशित किया जाए ताकि आयोजन सफल हो और मंच के सदस्यों को ज़्यादा से ज़्यादा पाठक मिल सकें। सभी सदस्य अपने लेख का लिंक रविवार तक ज़रूर भेज दें ताकि उन्हें साप्ताहिक चर्चा में शामिल किया जा सके। धन्यवाद !

Hindu Rituals and Practices

Technical Help

  • - कहीं भी अपनी भाषा में टंकण (Typing) करें - Google Input Toolsप्रयोगकर्ता को मात्र अंग्रेजी वर्णों में लिखना है जिसप्रकार से वह शब्द बोला जाता है और गूगल इन...
    4 years ago

चित्रगुप्त की स्मृति दिलाने वाला टूल

हिन्दी लिखने के लिए

Transliteration by Microsoft

Followers


Prerna Argal, Host : Bloggers' Meet Weekly, प्रत्येक सोमवार
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Popular Posts Weekly

Popular Posts

हिंदी ब्लॉगिंग गाइड Hindi Blogging Guide

हिंदी ब्लॉगिंग गाइड Hindi Blogging Guide
नए ब्लॉगर मैदान में आएंगे तो हिंदी ब्लॉगिंग को एक नई ऊर्जा मिलेगी।

Blog Archive

Powered by Blogger.
 
Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.