ब्लॉगर्स मीट वीकली (6) Eid Mubarak

Posted on
  • Monday, August 29, 2011
  • by
  • DR. ANWER JAMAL
  • in
  • Labels:
  • आदरणीय सभापति श्री रूपचंद शास्त्री 'मयंक' जी और आप सभी हिंदी ब्लॉगर्स का ‘ब्लॉगर्स मीट वीकली की छठी महफ़िल‘ में सादर स्वागत है।
    आप सभी को प्रेरणा अर्गल और अनवर जमाल का प्रणाम और सलाम !
    आप का साथ हमारी ताक़त है और आपके सुझाव हमारे लिए मार्गदीप हैं।

    दोस्तो ! इंसान की ज़िंदगी पैदाइश से शुरू होकर मौत पर ख़त्म हो जाती है और इस बीच वह कुछ खोता है तो कुछ पाता भी है। खोना उसे ग़मज़दा करता है तो पाना उसे ख़ुशी का अहसास दिलाता है। यही है ज़िंदगी।
    जिन लोगों ने ज़िंदगी के इस स्वाभाविक प्रारूप को नहीं समझा, वे हमेशा ज़िंदगी से ग़ैर मुतमइन ही रहे। उन्होंने कभी ज़िंदगी को ठुकरा दिया और कभी ज़िंदगी ने उन्हें ठुकरा दिया।

    जीने का सही तरीक़ा यह है कि जो कुछ जाता रहे, आदमी उस पर सब्र करे और जो कुछ मिले उस पर आदमी अपने दाता का शुक्र करे। दुनिया उसी की है तो यहां योजना और इच्छा भी उसी की चलती है। यह तरीक़ा तत्वदर्शियों और वलियों का तरीक़ा है। यही तरीक़ा समर्पण की उम्दा मिसाल है और यही तरीक़ा ज़िंदगी के हर सांस को भक्ति और इबादत बना देता है।
    इंसान वह है जो ज़िंदगी को अपने मालिक की दी हुई नेमत समझकर उसकी क़द्र करता है और उसके बताए हुए रास्ते पर चलकर भलाई के काम नेक नीयती से करता है चाहे उसे बदले में कुछ मिले या न मिले। यही बात भ्रष्टाचार का ख़ात्मा कर सकती है।
    अन्ना ने भ्रष्टाचार के जिस मुददे को उठाया है, उसके ख़ात्मे का तरीक़ा इसके सिवा दूसरा कोई नहीं है।
    सरकार ने अन्ना की तीन मांगों को माना है और जनता के दबाव में माना है।
    यह जनता की जीत है, चाहे कितनी ही छोटी क्यों न हो !
    सारा देश ख़ुश है, आप और हम भी ख़ुश हैं।

    ख़ुशी का यह मौक़ा एक ऐसे समय में आया है जबकि रक्षा बंधन, स्वतंत्रता दिवस और जन्माष्टमी के पर्व अभी अभी गए हैं और अब ईद भी बिल्कुल सामने ही है।
    धार्मिक-सामाजिक त्यौहारों की इस मनोहारी बेला में हम चाहते हैं कि ये ख़ुशियां और ज़्यादा बढ़ जाएं।
    आदरणीय सभापति श्री रूपचंद शास्त्री ‘मयंक‘ जी के सभापतित्व में आज हम 
    ‘हिंदी ब्लॉगिंग गाइड‘ के संक्षिप्त संस्करण का लोकार्पण कर रहे हैं।
    इस संस्करण में अभी तक कुल 31 पोस्ट्स संकलित की जा चुकी हैं और इन पोस्ट्स की मदद से एक नया ब्लॉगर अपना ब्लॉग बनाने से लेकर उसे चलाने तक सभी काम आसानी से अंजाम दे सकता है। 

    इन सभी पोस्ट्स के शीर्षक (लिंक) एक ही पेज पर नज़र आएंगे और नए लेख के शीर्षक इसमें बढ़ते रहेंगे। इस तरह हिंदी ब्लॉगिंग गाइड का काम आगे भी बढ़ता रहेगा और जितने लेख अब तक प्रकाशित हो चुके हैं, उनसे नए पुराने ब्लॉगर्स लाभ भी उठाते रहेंगे।
    इस संक्षिप्त संस्करण का फ़ायदा यह होगा कि केवल एक लिंक पर ही 31 से ज़्यादा लेख मिल जाएंगे, जो कि हिंदी ब्लॉगिंग में रीढ़ की हड्डी की हैसियत रखते हैं।
    इसके लिए हम इस गाइड की तैयारी में लगी हुई टीम के सभी सदस्यों को मुबारकबाद देते हैं और विशेष तौर पर मुबारकबाद के पात्र हैं हमारे युवा भाई श्री
    महेश बार्माटे 'माही'। इन्होंने इस गाइड के लिए कई लेख लिखे हैं और बहुत सी साइट्स पर ‘हिंदी ब्लॉगिंग गाइड‘ नेट यूज़र्स को उपलब्ध कराई और उन्हें हिंदी ब्लॉगिंग का रास्ता दिखाया। अपने काम को उन्होंने अंजाम पहले दिया और तब हमने उन्हें इस गाइड का ‘मुख्य प्रचारक‘ घोषित किया। 
    सभापति श्री रूपचंद शास्त्री 'मयंक'
    इस गाइड में लिखने वालों में शालिनी कौशिक जी, शिखा कौशिक जी, देवेन्द्र गौतम जी, कुंवर कुसुमेश जी, प्रेरणा अर्गल जी, हकीम यूनुस ख़ान साहब, डा. अयाज़ साहब और श्री रूपचंद शास्त्री जी के नाम मुख्य हैं। जनाब सलीम ख़ान साहब और जनाब एस. एम. मासूम साहब के लेख भी इस गाइड में एक ख़ास अहमियत रखते हैं। इसका ख़ूबसूरत टाइटिल भाई एजाज़ उल हक़ साहब के हुनर का कमाल है। हमें ख़ुशी है कि इस गाइड में कुछ योगदान हमारा भी है। कुछ लेखक और भी हैं जिनके लेख समय आने पर आपके सामने लाये जाते रहेंगे। हम इन सभी भाई बहनों के शुक्रगुज़ार हैं कि उन्होंने दुनिया की पहली हिंदी ब्लॉगिंग गाइड लिखकर बहुत से लोगों के लिए ब्लॉगिंग को आसान बना दिया है। सभी ने पूरी तरह निःशुल्क काम किया है जो कि इनकी निष्ठा और इनके ख़ुलूस का परिचायक है।
     
    जनाब अख़तर ख़ान अकेला साहब ने 3500 पोस्ट्स रचकर एक इतिहास रच दिया है।
    यह भी हमारे लिए ख़ुशी की बात है और यह हिंदी ब्लॉगिंग की एक बड़ी उपलब्धि है। लोगों ने उन्हें नज़रअंदाज़ किया और करने वाले तो उन्हें आज तक नज़रअंदाज़ कर रहे हैं लेकिन उन्होंने अपना सारा ध्यान लेखन पर दिया और पाठक उनके ब्लॉग को भारी संख्या में पढ़ने लगे। ब्लॉगर का काम है लिखना, पाठक तो देर सवेर अपने मतलब की चीज़ तक पहुंच ही जाते हैं।
    इन उपलब्धियों के बीच जो हमने खोया है, वह है डा. अमर कुमार जी का साथ।
    मौत एक ऐसी हक़ीक़त है जो हमारे प्यारों को हमसे जुदा कर देती है।
    क्या इन जुदा हो चुके साथियों से हम दोबारा फिर कभी मिल पाएंगे ?
    अगर हां तो किस हाल में और कहां ?
    इन सवालों के हल होने के बाद फिर जुदाई का ग़म देर तक नहीं रहता क्योंकि आज जहां एक गया है, धीरे धीरे हरेक को वहीं जाना है।
    इस अस्थायी दुनिया के वास को हम प्यार मुहब्बत से और सीखते-सिखाते हुए गुज़ार लें, इससे अच्छी और क्या बात होगी ?

    इस ब्लॉगर्स मीट वीकली का मक़सद यही है।
    तो दोस्तो, प्रेरणा अर्गल जी की कई दिनों की मेहनत अब आपकी नज़्र की जाती है और उनके साथ ही हमारा चुनाव भी मिक्स है।
    आज सबसे पहले

    "एस. एम. मासूम साहब के जन्मदिवस पर विशेष" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

    आज 26 अगस्त को सय्यद मासूम साहब को 

    उनकी यौम-ए-पैदाइश की बहुत-बहुत मुबारकबाद

    समाज, नैतिकता, धर्म और अध्यात्म पर अनवर जमाल के विचार

    बाप अपनी ही बेटियों से बरसों करता रहा बलात्कार ; मां की अहमियत समझाती हुई एक ख़बर

    ईमान की एक निशानी है रोज़ा

    कुछ कलाम पानीपत के मुशायरे से

    डा. अमर कुमार जी की ख़ुशी के लिए कम से कम एक दिन सभी लोग अपने ब्लॉग से मॉडरेशन हटा लें  ये उनके प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी

    अख़तर ख़ान अकेला साहब ने ब्लॉग की दुनिया में रच डाला इतिहास साढ़े तीन हज़ार पोस्ट्स लिख कर

    मुसलमानों की समस्याओं को बढ़ा रहे हैं बुख़ारी साहब जैसे मुस्लिम रहनुमा

    हिन्दुस्तान जॉब्स : हजारों रोजगार

    काशी की चेतना का सच और भ्रष्ट तंत्र का हिस्सा बनने लिए बाध्य 'पत्रकार जगत का चित्रण'

    हमारे मंच के एक बहुपठित लेखक महेंद्र श्रीवास्तव जी बता रहे हैं
     संसद पर हमला है ये आंदोलन..
     दिल्ली दूर है अन्ना जी...
    image

    बड़ी देर भई नंदलाला   ,हमारा देश महान 

     प्रेरणा  अर्गल

    imageभारतीय नारी , शिखा कौशिक जी

    भाई बहन के पाक रिश्तों के तार तार होने के बाद  

    १- ''गुडिया मुझे माफ़ कर देना !''

    २- विजेता बनने का मौका मत चूकिए

    अलबेला खत्री जी की अलबेली सलाह

    हरामखोरो ! चुल्लू भर पानी में डूब मरो.. पानी न हो तो मेरे आँसू ले जाओ लेकिन भगवान् के लिए अब तुम मर खप जाओ

    http://jagranjunction.com/avatar/user-390-96.pngअन्ना जी को संत बताते हुए देवेन्द्र गौतम जी बता रहे हैं

     राजनैतिक संतों की परंपरा 

     अन्ना के आन्दोलन को हिन्दू मुस्लिम साप्रदायिकता में बांटने की सरकारी साज़िश नाकाम

     जी हाँ में आज़ाद भारत का नेता हूँ ....

    नेताओं की फितरत के बारे मैं बता रहे अख्तर खान "अकेला जी "

    बीमारी हो गई दूर , आब ए ज़म ज़म का करिश्मा     ज़म ज़म पानी के अहमियत बता रहें हैं डॉ.अयाज अहमद जी

    NBT पर रेखा झा 

     आज सुबह दस बजे के आस-पास अन्ना ने अपना अनशन तोडा

    एक नई सोच का आगाज़

     


    महान गायक मुकेश जी की पुण्य तिथि (27 Aug) पर कुछ गीत --यशवंत माथुरजी पेश कर रहे हैं जरुर सुनिए /

    अब ज़रा पिछले साप्ताहिक समारोह का भी आनंद लीजिए
     ब्लॉगर्स मीट वीकली (5) Happy Janmashtami & Happy Ramzan
    ...और अब हिंदी ब्लॉग जगत से कुछ पोस्ट्स

    कल्याण के लिए हमें क्या करना होगा ?


    रमज़ान की विदाई -डा. फ़ितरतुल्लाह अंसारी ‘फ़ितरत‘

    एक उस्ताद शायर हैं मिर्जा दाग़ दहलवी का संक्षिप्त परिचय

    महंगाई के चूहे -रश्मि गौड़

    सच्चाई जी सरकार पर  व्यंग्य कर रहे हैं 

    ब्यंग - "झंडू बाम और च्विंगम "

     एक औरत   रचनाजी  औरत की हस्ती  बता रहीं हैं 

    लोकतंत्र ने लोकतंत्र को ललकारा...- शंभु चौधरी

     Bellary Iron Ore Mines : बेल्लारी की आयरन ओर माइंस 

    शिल्पा मेहता जी

    कुवंर कुसुमेश जी अन्ना की तुलना तूफां के मुक़ाबिल अन्ना

     

     


    नई ग़ज़ल / मेरे हरेक दर्द ने उनको मज़ा दिया.......?

    गिरीश पंकज 


    हर दौर ने सबको यहाँ ये ही सिला दिया
    सच बोलता था जो उसे फ़ौरन मिटा दिया

    काव्‍यजगत् के महासागर ब्‍लॉग कवि‍ताकोश का समाचार स्‍तब्‍ध कर देने वाला आकुलजी बता रहे हैं


    गांधी के दिखाए पथ पर ...

    अनुज  खरे 

    -------------- 


    अनामिका जी की

    सुन लो ..........

    ऊपर  गगन है नीचे जन
    भ्रष्ट तंत्र  -भूखे  जन-गण
    नेताओं की लूट कथा को
    बांच  रही नभ कर-कर वर्णन

    शालिनी कौशिक जी   फ़ोर्ब्स की सूची :कृपया सही करें आकलन

    दिगम्बर नासवा जी अपने सपनों का कर रहे हैं आह्वान ..

    इतिहास और पुराण की मान्यताओं के प्रति ही अपनी चिंताएं ज़ाहिर कर रहे हैं विनोद हौसलेवाला जी, और वाक़ई उनकी चिंताओं का निराकरण होना ही चाहिए।
    देखते हैं कौन करता है उन्हें संतुष्ट ?

    हमारी सबसे बड़ी दौलत , हमारे बुज़ुर्ग

    डा. दिव्या श्रीवास्तव

    अनवर जमाल का ख़ास तोहफ़ा

    हिंदी ब्लॉगिंग गाइड से

    नए पुराने हिंदी ब्लॉगर्स के लिए हिंदी ब्लॉगिंग के अनोखे राज़ देखिए इन पोस्ट्स में

    टिप्पणी को बोल्ड और इटालिक दिखाने के लिए कोड Hindi Blogging Guide (25)

    डिज़ायनर ब्लॉगिंग के ज़रिये अपने ब्लॉग को सुपर हिट बनाईये Hindi Blogging Guide (26)

    डिज़ायनर ब्लॉगिंग में रामबाण है ‘हनी बी तकनीक‘ Hindi Blogging Guide (27)

    कबूतर की तरह भी पकड़ी जाती हैं टिप्पणियां Hindi Blogging Guide (28)

    ब्लॉग जगत का नायक बना देती है ‘क्रिएट ए विलेन तकनीक‘ Hindi Blogging Guide (29)

    आपकी जेब भर सकती है ‘हातिम ताई तकनीक‘ Hindi Blogging Guide (30) 

     दुष्टों के विनाश के लिए ‘अवतार तकनीक‘ Hindi Blogging Guide (31)

    Gift with a bow
      नवभारत टाइम्स की वेबसाईट पर

    इंसानी चरित्र पर रमज़ान का प्रभाव

    अख़तर ख़ान अकेला ने रच डाला इतिहास

       और इसी साइट पर एक ही दिन में बल्कि एक घंटे में तीन पोस्ट्स का रिकॉर्ड पहली बार

    1- त्यौहारों की बुनियाद

    2- बुख़ारी का बयान इस्लाम के खि़लाफ़

    3- श्री कृष्ण जीके विषय में अनर्गल न कहें

    Star



    फ़लक के चांद को मुश्किल में डाल रखा है
    ये किसने खिड़की से चेहरा निकाल रखा है 

    'बुनियाद' पर कुछ  उम्दा शेर
    Picture 114 डा. अमर कुमार को भावपूर्ण श्रद्धांजलि 
    देने वाले  एस एम मासूम को ब्लॉगजगत 
     अमन के पैग़ाम  के  लिए जानता है . जनाब को महिला जगत के बारे में भी काफी मालूमात है.

    और दीन के साथ दुनिया

    हे विश्वासियो ! रोज़ा तुमहारे लिए निर्धारित है, रमज़ान  उल   मुबारक    

    इंसानी सेहत ,जिस्म की बीमारियाँ और इलाज ( 1 )

    इंसानी सेहत ,जिस्म की बीमारियाँ और इलाज ( 2 )

    न्याय व मानवताप्रेम के प्रतीक हज़रत अली

     एक सस्पेंस बताती हुई                                                       

    कौन है वो  मीनाक्षी पंत जी की रचना

    imageवंदना जी बता रही हैं 
    हाल अहवाल एक ब्लॉगर मीट का
    image मेरी ताजा रचनाएँ |
    -राष्ट्र नवनिर्माण के लिए एक उम्मीद की किरण दिखाती एक रचना |

    अख्तर खान अकेला जी का ऐलान

    स्वामी अग्निवेश आखिर गद्दार निकले .....कॉँग्रेस  और भाजपा भी चोर चोर मोसेरे भाई साबित हुए

    सिगरेट और शराब के सेवन  को  आज़ादी का द्योतक बता रही हैं नारी जी और कहती हैं कि आज़ादी की चाह किसे नहीं हैं ? 
    कैसी होगी यह रचना ?
    देखिये उनके ब्लॉग पर,
    http://indianwomanhasarrived.blogspot.com/2011/08/blog-post_26.html
    और कुमार राधा रमण जी कहते हैं कि

    चाय है गुटखे से भी ज्यादा नुकसानदेह


    आज हिन्दी ब्लॉगिंग में चर्चा मंच
    एक नायाब मोती की तरह चमकने लगा है! 
    khush2जो बात सबसे अच्छी है उसे ही फाइनल लोकपाल बिल में जगह दी जाए...मकसद भ्रष्टाचार को मिटाना होना चाहिए एक दूसरे को नहीं.. 
    जनलोकपाल को लेकर

    मेरे (कु)तार्किक सवाल का (सु)तार्किक जवाब दीजिए...खुशदीप

     ...और खुशदीप जी की एक अनूठी कोशिश 

     (अमर कहानियां)

    डॉक्टर अमर कुमार...श्रद्धासुमन

    इंसानी फ़ितरत...डॉ अमर कुमार (साभार- डॉ अनवर जमाल)

    दिलबाग विर्क जी की रचनाएं
    साहित्य सुरभि पर 

     अनिता निहालानी जी 
    तब और अब 
    जब छोटा सा था जीवन अपना
    दुनिया बहुत बड़ी लगती थी
     फुर्सत मिले तो चन्द्र मौलेश्वर जी का लेख भी ज़रूर देखें
    अज्ञेय पर ‘स्रवंति’ के तीन विशेषांक
    हिंदी ब्लॉग्गिंग गाइड के लिए लिखे सलीम खान जी और एस. एम. मासूम जी के लेखों को देखिये मेरी नज़र से - ( महेश बार्माटे 'माही' )

    http://meri-mahfil.blogspot.com/2011/08/6.html
    कुछ ताज़ा पोस्ट  ख़ास आपके लिए 
    *  सीमा सिंह जी को  
     ठाकरे के सुझाव पर हंसी आती है

    * प्रमोद जोशी जी बता रहे हैं  

    नरेगा के मजदूर से भी कम पैसा देने वाली व्यवस्था हिन्दी पत्रकार को कितना सम्मानित मानती है वह जाहिर है। पत्र मालिकों को साख चाहिए भी नहीं। धंधा चाहिए। अंग्रेजी पत्रकारिता का भी यही हाल है। अलबत्ता वहाँ का पत्रकार अपर-लोअर केस में कॉपी बनाने के बदले हिन्दी पत्रकार से कई गुना ज्यादा पैसा लेता है। और उससे कई गुना ज्यादा पैसा सेल्स और मार्केटिंग का सद्यः नियुक्त एक्जीक्यूटिव लेता है।

    क्या मीडिया का कारोबारी नज़रिया उसे जन-पक्षधरता से दूर तो नहीं करता?

    हरिशंकर परसाई की यह रचना रोचक है और आज के संदर्भों से जुड़ी है। इन दिनों नेट पर पढ़ी जा रही है। आपने पढ़ी न हो तो पढ़ लें। 

    * दस दिन का अनशन

    * K. D. Sharma का नुस्ख़ा ज़ुकाम के लिए

    * सारा सच का आह्वान

     आज ज़रुरत है जागने की, भ्रष्टाचार को मिटाने की....

    ( हरिवंश राय बच्चन ) from राजभाषा हिंदी by संगीता स्वरुप ( गीत )








    * अगहन में

    by मनोज कुमार

    अगहन में।

    चुटकी भर धूप की तमाखू,
    बीड़े भर दुपहर का पान,
    दोहरे भर तीसरा प्रहर,
    दाँतों में दाबे दिनमान;

    by Sadhana Vaid
    मेरा फोटोअहिंसा में कितनी ताकत होती है और शान्ति और प्रेम का कवच कितना कारगर होता है अन्ना के आंदोलन ने इस बात को सिद्ध कर दिया है !


    "अलख जगाएँ जन-जन में" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

    उठो साथियों वक्त आ गया, अपनी शक्ति दिखाने का।
    वसुन्धरा को काले अंग्रेजों से, मुक्त कराने का।।

    बहुत समय के बाद आज फिर, गांधी ने अवतार लिया।
    भ्रष्टाचार मिटाने को, सत्याग्रह का व्रत धार लिया।।

    देख आमरण अनशन को, सरकार हो गई जब आहत।
    नकली आँसू बहा-बहाकर, देती है झूठी राहत।।

    डाँवाडोल हो रहा अब तो, मक्कारों का सिंहासन।
    गद्दारों का जल्दी ही, अब छिनने वाला है आसन।।

    भोली-भाली मीनों का अब होगा काम तमाम नहीं।
    घड़ियालों का मानसरोवर में, होगा विश्राम नहीं।।

    नाती-पोतों के शासन की परम्परा नहीं छायेगी।
    जनता पर जनता के शासन की अब बारी आयेगी।।

    गर्दन को जो नाप सके, अब लोकपाल वो आयेगा।
    घूसखोर कितना बलिष्ट हो इससे बच ना पायेगा।।

    जुग-जुग जिएँ हमारे अन्ना, अलख जगाएँ जन-जन में।
    रिश्वतखोरी के विकार अब, कभी न आयें तन-मन में।।
    Gift with a bow अलविदा जुमा की मुबारकबाद Star
    प्रेरणा अर्गल
    फ़ेसबुक के साथी, डायरेक्टर श्रीपाल चौधरी और फ़िल्म एडिटर संजीव के साथ अनवर जमाल
    Gift with a bow अन्ना की जीत की शुभकामनायें 
    और ईद की मुबारकबाद Star

    33 comments:

    ana said...

    mere post ko jodne ke liye shukriya.....sabhi links ek se badhkar ek hai aur shastri ji to hamesha hi lajwab rahae hai....suprabhat

    शालिनी कौशिक said...

    bahut shandar prastuti.aapko v bloggar meet ke sabhi sadasyon ko eid kee bahut bahut mubarakbad

    SACCHAI said...

    bahut hi rochak andaz hai charcha karne ka aapka ...maja aaya ek se badhakar ek link

    meri post ko yahan jagah dene ke liye tahe dil se sukriya

    ZEAL said...

    Prerna ji , Thanks for the lovely links.

    Anita said...

    प्रेरणा जी , बहुत सुंदर चर्चा, मुझे शामिल करने के लिए आभार!

    Sadhana Vaid said...

    सभी पाठकों को ईद के मुबारक मौके पर हार्दिक बधाई ! बेहतरीन लिंक्स के साथ बहुत सुन्दर चर्चा के लिये आप सभीका आभार !

    इंजी० महेश बारमाटे "माही" said...

    सारे लेख अति उत्तम हैं,
    हिन्दी ब्लॉगिंग गाइड का नया टाइटल पेज बहुत सुंदर है अनवर जी...
    इसके सफल लोकार्पण के लिए बधाई...

    और सारे ब्लॉग जगत को ईद की बधाइयाँ...

    पर दो बातें कहनी है आपसे...
    बुरा न मानिएगा,

    पहली ये कि मेरा नाम गलत लिखा गया है, और दूसरा ये कि
    ब्लोगर्स मीट की रूप रेखा (लेख लिखने का तरीका) थोड़ा सा अस्त व्यस्त सा लगता है, इस मे थोड़े और सुधार की आवश्यकता है...

    चंद्रमौलेश्वर प्रसाद said...

    अकेला भाई ने अकेले ही साढे तीन हज़ार का आंकडा पार कर दिया\ भई वाह! बधाई।
    हमारा भी ज़िक्र उन अफ़सानों में था.... किसी शायर ने कहा था और वह आज इसलिए याद आ रहा है कि आज की मीट में हमारा भी ज़िक्र है:)
    मासूम भाई तो जन्मदिवस की बधाई॥ अब तो रोज़े-शरिफ़ चल रहे हैं, ईद के बाद मिठाई की दरकार है:)

    shilpa mehta said...

    सबको नमस्कार | ईद की बधाइयाँ, गणपति जी को नमन :)

    Kunwar Kusumesh said...

    बहुत सुंदर चर्चा, मुझे शामिल करने के लिए आभार.

    Dilbag Virk said...

    aapki mehnat saf jhalkti hai
    is sunder prstuti ke lie bdhaai svikaar kren

    aabhaar

    prerna argal said...

    आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद की आप लोग ब्लोगर्स मीट वीकली के मंच पर आये और हमारे प्रयासों की प्रशंसा की /आप सबको लिनक्स पसंद आये इसके लिए आभार /आशा है आगे भी आप सबका सहयोग हमें हमेशा मिलता रहेगा /आभार /

    Sadhana Vaid said...

    शुक्रिया अनवर भाई ! ब्लॉगर मीट में मुझे स्थान दिया इसके लिये आपका आभार !

    DR. ANWER JAMAL said...

    @ साधना जी ! आप भी तो हमारा कितना ख़याल रखती हैं !!!
    आपका ज़िक्र तो आज हमने ‘ब्लॉग की ख़बरें‘ पर भी किया है।
    देखिए -
    http://blogkikhabren.blogspot.com/2011/08/blog-post_29.html

    DR. ANWER JAMAL said...

    @ महेश जी ! अब हमने आपके नाम को उसी तरह लिख दिया है आपके भेजे हुए लेख से कॉपी पेस्ट करके।
    ईद की बधाई और सुंदर सुझाव के लिए शुक्रिया !

    संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

    बढ़िया पेशकश ..मुबारक हो ..

    prerna argal said...

    sabko ed mubaarak.sangeetaaji aapko bahut bahut dhanyawaad ki aap manch per aaiyn.aur hamaare orayaason ki sarhanaa ki.aabhaar,

    Rachana said...

    PRERNA ji kitni mehnat se aapne inko ekattha kiya hoga ek se badh kar ek link .bahut bahut dhnyavad
    rachana

    'आकुल' said...

    प्रेरणाजी
    संकलन के लि‍ए बहुत बहुत बधाई। लगता है सभी बातें कर रहे हैं। मैं भी आपको अपने समक्ष पा रहा हूँ। मेरा समाचार छाप कर उत्‍साहि‍त कर दि‍या। मेरे ब्‍लॉग पर भ्रमण करें, साहि‍त्‍य प्रेमी हूँ, केवल साहि‍त्‍य की बातें कर सकता हूँ, साहि‍त्‍यि‍क भ्रष्‍टाचार से प्रदूषण हटाने के लि‍ए समाचारों में कुछ लगता है कि‍ लोगों तक पहुँचना चाहि‍ए, इधर उधर से सूचनायें एकत्रि‍त करने का प्रयास करता हूँ, इसी लि‍ए 'सान्‍नि‍ध्‍य सेतु' आरंभ कि‍या है और 'सान्‍नि‍ध्‍य' मेरी अभि‍रुचि‍ है। कवि‍ता कोश का सदस्‍य हूँ, इसलि‍ए रचनाकारों का वहाँ स्‍वागत है, वे उसे समझें और अपने साहि‍त्‍य को मुखर करें। मेरा बस इतना आग्रह है कि‍ साहि‍त्‍य को भ्रष्‍टाचार से मुक्‍त रखें, बाजारवाद ने वैसे ही साहि‍त्‍य को अछूता नहीं रहने दि‍या है, मुंशी प्रेमचंद, नीरज जैसे साहि‍त्‍यकारों ने भी इस काजल की कोठरी से गुजरने की गुस्‍ताखी की और लौट कर आना पड़ा, प्रति‍ष्‍ठा और नाम कि‍से नहीं चाहि‍ए, मगर जि‍सने पीछे मुड़ कर देखा उसे लौटना ही पड़ा, प्रसून जोशी भी कुछ अनचाहा लि‍ख रहे हैं, नीरजजी ने खटमल तक पर लि‍खा, मुंशीजी की कहानि‍यों की जो फि‍ल्‍मों में जो गत बनी कि‍सी से छि‍पी नहीं, जि‍ससे वे आहत हुए, क्‍या यह सब आज के दौर में हम पचा पायेंगे, कवि‍ताकोश में आये तूफान से आप वाक़ि‍फ़ हो ही गये हैं, तो सोचि‍ए, साहि‍त्‍य को बाजारवाद की ओर धकेलने का जो षड्यंत्र कि‍या जा रहा है, उससे कवताकोश को ही नहीं अनेकों ब्‍लॉग्‍स और ई पत्र-पत्रि‍काओं को बचाना अत्‍यावश्‍यक है, बस, आवश्‍यकता है, मैराथन की, बाधा दौड़ या फर्राटा दौड़ की नहीं, इसलि‍ए अच्‍छे ब्‍लॉग्‍स को सुंदर से सुंदर बनाये रखने के लि‍ए अपना जि‍तना भी सहयोग दे सकें अवश्‍य दें, कि‍न्‍तु अपनी प्राथमि‍कताओं के बाद पहले नहीं, क्‍योंकि‍ साहि‍त्‍य के लि‍ए पहले घर में यदि‍ वातावरण है तो हम कुछ कर पायेंगे, अन्‍यथा मेरे एक साथी कवि‍ 'उर्मि‍ल' घर के साथ सामंजस्‍य नहीं बैठा पाये और आज उनका घर उनकी प्रतीक्षा कर रहा है, कहीं आप और हम में कोई ऐसा तो नहीं, इसलि‍ए गुलज़ार साहब की ख़ामोशी के गीत हमने देखी है उन-------की तर्ज पर साहि‍त्‍य को साहि‍त्‍य ही रहने दें--------' बस इस चर्चा को यहीं वि‍राम दे रहा हूँ, कहने को बहुत कुछ है, फि‍र कभी। आपकी इस मीट में अनेकों रचनाकारों के योगदान को नमन।

    Dr. Ayaz Ahmad said...

    ब्लॉगर्स मीट वीकली 6 की ख़ास बात यह है कि इसमें आपने बहुत आसान अल्फ़ाज़ में बता दिया है कि ज़िंदगी की हक़ीक़त असल में क्या है ?
    इसी के साथ हिंदी ब्लॉगिंग गाइड के 31 मज़ामीन भी नज़्रे अवाम किए गए हैं.
    जो कि बहुत अहम हैं. इसके आप वाक़ई मुबारकबाद के मुस्तहिक़ हैं.
    अन्ना इस मीट में भी छाये रहे, अन्ना ने जितना बड़ा आंदोलन खड़ा किया और जिस तरह जनता ने उनका साथ दिया वह बेनज़ीर है लेकिन जाने हमें अब भी यही लगता है कि सरकार जनता के साथ फ़रेब से काम ले रही है.
    पत्रकार भी झूठ का सहारा ले रहे हैं.
    मीट में इस मौज़ू पर भी कई मज़ामीन हैं.
    श्री रूपचंद जी का कलाम और एक शेर भी हमें पसंद आया और सबसे बड़ी बात तो आपसी प्यार का वह माहौल है जो यहां देखने में आ रहा है .
    यही आपका ख्वाब था जो कि अब पूरा हो रहा है .
    प्रेरणा जी को और हिंदी ब्लॉगिंग गाइड की पूरी को बहुत बहुत मुबारकबाद !!!

    आकुल जी का कमेंट और साधना वैद जी की बात पढ़कर तो यही लगता है कि सब आपस में गुफ़्तगू कर रहे हैं .
    महेश जी ने जिस बेबाक अंदाज़ में अपनी बात कही है, उससे भी यही लगता है कि लोग दिल से कहते हैं यहां.

    prerna argal said...

    rachanaaji aur aakulji aapka bahut bahut dhanyawaad ki aap is manch per padhaare aur hamaare prayaashon ki prasansha ki.aakulji aap jo saahitya ki sevaa kar rahe hain uske liye meri shubhkaamnaayen aapke saath hain.aabhaar.

    इंजी० महेश बारमाटे "माही" said...

    हा हा हा अनवर जी...

    मेरा कहना था कि मेरा नाम महेश बारमाटे है, पर आपने इसे महेश बार्माटे कर दिया है...
    एक बार फिर इसे सुधारने का कष्ट करें जरा...

    डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

    सबसे पहले तो मैं हिन्दी ब्लॉगर्स फोरम इण्टरनेशनल के सभी पाठकों से माफी माँगता हूँ। क्योंकि मेरा नेट का ब्रॉडबैण्ड का कनेक्शन कल रात से काम नहीं कर रहा है। इसलिए एयरटेल के धीमें कनेक्शन से नेट चला रहा हूँ। मगर जिसने ब्रॉडवैंड चलाया हो उसे इससे काम करने में कितनी परेशानी होती होगी यह आप अनुमान लगा सकते हैं।
    इस पोस्ट की मैं सराहना करता हूँ।
    अन्ना आजाद हिन्दुस्तान के गाँधी बन चुके हैं। और बने भी क्यों न। आज पूरा देश भ्रष्टाचार से त्रस्त जो हो रहा है।
    खुशियों के त्यौहार ईद की मैं सभी को ईद-उल-फितर के मुबारक मौके पर दिली मुबारकवाद देता हूँ।
    मैं सराहना करता हूँ बहन प्रेरणा अर्गल और डॉ. अनवर ज़माल साहब की, जिन्होंने हफ्तेभर की महत्वपूर्ण गतिविधियों को एक ही जगह पर मुहैय्या करा दिया है।
    रही बात मेरी सदारत की तो यह उनकी मेरे ऊपर आस्था ही है जो कि उन्होंने मुझ नाचीज़ को इस पद पर आसीन किया हुआ है। जबकि मुझमें ऐसा न कोई इल्म और न कोई योग्यता है।
    जिनकी पोस्ट आज की इस मीट में शामिल हुईं है उन सबको मैं बधाई देता हूँ।
    उम्मीद पर दुनिया क़ायम है, जिनकी पोस्ट यहाँ किसी कारणवश् आज नहीं दिखाई दे रही हैं मेरा विश्वास है कि आने वाली किसी न किसी वीकली मीट में उनकी भी पोस्ट यहाँ पर दिखाई देंगी।
    पत्रिका की अपनी मर्यादा होती है और जगह भी इसमें सीमित होती है। सीमित जगह में इतने सारे लिंकों का समायोजन करना इसके व्यवस्थापकों के हुनर को ज़ाहिर करता है।
    फिलहाल तो आप आपसी सद्भाव के साथ ईद मनाइए। क्योंकि हमारे वर्तमान परिवेश में आज कौमी एकता और भाईचारे की सख्त ज़रूरत है।
    धन्यवाद, शुक्रिया और मेहरबानी।
    इन्शा-अल्लाह अगले हफ्ते फिर मिर मिलेंगे।

    girish pankaj said...

    बहुत सुंदर चर्चा. आभार. ईद की बधाई

    girish pankaj said...

    अतिसुन्दर प्रयास से परिचित करने के लिये धन्यवाद. ब्लॉग की दुनिया में अनेक लोग पूरी निष्ठां के साथ लगे है. हम तो केवल लिख रहे हैं, बड़ा काम तो वे लोग कर रहे हैं, जो लिखे हुए को दूर-दूर तक पहुँचने का काम कर रहे है. अभिभूत हूँ मै, नमन इस प्रयास को.

    prerna argal said...

    बहुत बहुत धन्यवाद गिरिशजी जो आपने हमार मेहनत और प्रयासों को इतने अच्छे ढंग से सराहा है /हम पूरी कोशिश करते हैं की सप्ताह के ज्यादा से ज्यादा लिनक्स अपने चर्चा मंच में शामिल करें /और इसमे नए ब्लोगर्स की रचनाओं को भी स्थान दें /आशा है आगे भी आपका सहयोग इस मंच को मिलता रहेगा /आभार /

    prerna argal said...

    आज ईद का चाँद दिख गया है इसलिए कल ईद है/हमारे सारे ब्लोगर्स साथियों को ईद मुबारक और बहुत सारी शुभकामनाएं

    Kunwar Kusumesh said...

    जैसे ही आसमान पे देखा हिलाले-ईद.
    दुनिया ख़ुशी से झूम उठी है,मनाले ईद.
    ईद मुबारक

    Minakshi Pant said...

    कल न पाने की माफ़ी चाहती हूँ दोस्त | मेरी रचना को सम्मान देते रहने का बहुत - बहुत शुक्रिया मैं कोशिश करूंगी की मैं आप सबको ऐसी रचना लिखकर खुश कर सकूँ | एक बार फिर तहे दिल से शुक्रिया करती हूँ |

    prerna argal said...

    बहुत बहुत धन्यवाद कुशुमेश्जी और मीनाक्षीजी की आप मंच पर आये और अपने विचारों से हमें अवगत कराया /आपको ईद मुबारक और गणेश चतुर्थी की शुभकामनाएं /आशा है ऐसे ही आगे भी आपका सहयोग इस मंच को मिलता रहेगा /आभार/

    एस.एम.मासूम said...

    अच्छे लिनक्स . ईद मुबारक

    वाणी गीत said...

    विस्तृत चर्चा ..
    ईद की बहुत बधाई और शुभकामनायें !

    ईं.प्रदीप कुमार साहनी said...

    सबसे पहले माफ़ी क्योकि मैं देर से यहाँ पंहुचा |
    मेरे मोबाइल में यह ब्लॉग खुलता ही नहीं है | और मैं ज्यदातर मोबाइल में ही रहता हूँ | इसलिए कोशिश करने के बाद भी पोस्ट तक पहुच नहीं पाया था |
    बहुत बढ़िया रहा हमेशा की तरह यह मीट भी | मेरी रचनाओं को शामिल करने के लिए धन्यवाद |
    अंत में एक निवेदन-हो सके तो इस ब्लॉग का मोबाइल टेम्पलेट ओं कर दिया जाय ताकि मेरे मोबाइल में भी खुल सके |

    Read Qur'an in Hindi

    Read Qur'an in Hindi
    Translation

    Followers

    Wievers

    Gadget

    This content is not yet available over encrypted connections.

    गर्मियों की छुट्टियां

    अनवर भाई आपकी गर्मियों की छुट्टियों की दास्तान पढ़ कर हमें आपकी किस्मत से रश्क हो रहा है...ऐसे बचपन का सपना तो हर बच्चा देखता है लेकिन उसके सच होने का नसीब आप जैसे किसी किसी को ही होता है...बहुत दिलचस्प वाकये बयां किये हैं आपने...मजा आ गया. - नीरज गोस्वामी

    Check Page Rank of your blog

    This page rank checking tool is powered by Page Rank Checker service

    Hindu Rituals and Practices

    Technical Help

    • - कहीं भी अपनी भाषा में टंकण (Typing) करें - Google Input Toolsप्रयोगकर्ता को मात्र अंग्रेजी वर्णों में लिखना है जिसप्रकार से वह शब्द बोला जाता है और गूगल इन...
      4 years ago

    हिन्दी लिखने के लिए

    Transliteration by Microsoft

    Host

    Host
    Prerna Argal, Host : Bloggers' Meet Weekly, प्रत्येक सोमवार
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

    Popular Posts Weekly

    Popular Posts

    हिंदी ब्लॉगिंग गाइड Hindi Blogging Guide

    हिंदी ब्लॉगिंग गाइड Hindi Blogging Guide
    नए ब्लॉगर मैदान में आएंगे तो हिंदी ब्लॉगिंग को एक नई ऊर्जा मिलेगी।
    Powered by Blogger.
     
    Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.