ब्लॉगर्स मीट वीकली (5) Happy Janmashtami & Happy Ramazan

दोस्तो और साथियो, हिंदी ब्लॉगर्स फ़ोरम इंटरनेशनल के इस गौरवशाली मंच पर आपका स्वागत है। महान भारत की महान भाषा हिंदी की सेवा में लगा यह मंच अपने आप में अदभुत है। इसकी कल्पना यह है कि राजनीतिक सीमाएं व्यर्थ हैं। ये कृत्रिम हैं और हमेशा बदलती रहती हैं। इन्हें इंसान ने खींचा है और इनकी बुनियाद संकीर्णता के सिवाय कुछ भी नहीं है। इस मंच का उद्देश्य है कि भारत अपनी प्राचीन सीमाओं को वापस पाए बल्कि प्राचीन काल से भी पहले जब संपूर्ण पृथ्वी पर महर्षि मनु को अधिकार दिया गया था, वही अधिकार अब उनके उत्तराधिकारियों को प्राप्त हो, राज्य और ऐश्वर्य भोगने के लिए नहीं बल्कि शांति और न्याय की स्थापना के लिए। हरेक कल्पना साकार हो सकती है। दीवारें आज ख़ुद हटती जा रही हैं और बाधाएं आज ख़ुद मिटती जा रही हैं लेकिन अपने अंदर की संकीर्णताओं और भेदभाव का ख़ात्मा ख़ुद ब ख़ुद नहीं हो सकता, इसका ख़ात्मा हमें करना होगा।
ब्लॉगर्स मीट वीकली का मक़सद यही है। नेट के युग में आज सारा विश्व एक जगह एकत्र हो सकता है। इसी संभावना से काम लेकर हम हिंदुस्तान का परचम सारे विश्व में फहरा सकते हैं। यह एक कॉन्सेप्ट है, जिसे लेकर हम चल रहे हैं लेकिन अगर किसी को यह ऐतराज़ है कि यह काम हम क्यों कर रहे हैं तो भाई आपका स्वागत है, आप संभालिए इस कॉन्सेप्ट को, आप लेकर चलिए हरेक वर्ग को अपने साथ, जिन्हें हमारे साथ आने में ऐतराज़ है तो वे संभालें ज़िम्मेदारी, उनका साथ हम देंगे, उनके पीछे चलने में हमें कोई झिझक और परहेज़ नहीं है।
अपने अहं के कारण हम भारत के भविष्य से न खेलें, ऐसी हमारी विनती है।

आदरणीय रूपचंद शास्त्री मयंक जी का हम अपने सभापति के तौर पर स्वागत करते हैं और उनकी निराभिमानता ने ही हमें उनके क़रीब किया है। हमने उन्हें एक सकारात्मक उद्देश्य के लिए आवाज़ दी और वे बिना किसी शर्त के सहज ही तुरंत हमारे साथ आ खड़े हुए। यह हमारी ख़ुशनसीबी है और उनका यह स्वभाव हमारे लिए अनुकरणीय है।
‘ब्लॉगर्स मीट वीकली 5‘ में हम साथ हैं तो हमारे त्यौहार भी साथ हैं। यह रमज़ान का महीना चल रहा है। इसी माह में पहले रक्षा बंधन और स्वतंत्रता दिवस आया और अब जन्माष्टमी आ गई है। त्यौहारों को साथ आने में कोई हिचकिचाहट नहीं है तो फिर हमें उन्हें साथ मनाने में ही कोई समस्या क्यों हो ?
महापुरूषों ने हमें एक करने की कोशिश की और हमने यह जुर्म किया कि उन्हीं को बांट डाला। प्रस्तुत लेख जन्माष्टमी की बधाई और शुभकामनाएं देने के साथ इसी समस्या को रेखांकित करता है -

श्री कृष्ण जी हमें भी प्रिय है और हम भी उनका आदर करते हैं - Dr. Anwer Jamal

नवभारत टाइम्स की वेबसाईट पर आज हमारे दो लेख एक साथ पब्लिश हुए हैं , उनसे भी मुहब्बत की फ़िज़ा हमवार होती है 
1- इस्लाम में कट्टरता नहीं प्रतिबद्धता है

2- दिल में भी बसे हैं गोपाल



अनवर जमाल का ख़ास तोहफ़ा
नए पुराने हिंदी ब्लॉगर्स के लिए हिंदी ब्लॉगिंग के अनोखे राज़ देखिए इन पोस्ट्स में

टिप्पणी को बोल्ड और इटालिक दिखाने के लिए कोड Hindi Blogging Guide (25)

डिज़ायनर ब्लॉगिंग के ज़रिये अपने ब्लॉग को सुपर हिट बनाईये Hindi Blogging Guide (26)

डिज़ायनर ब्लॉगिंग में रामबाण है ‘हनी बी तकनीक‘ Hindi Blogging Guide (27)

कबूतर की तरह भी पकड़ी जाती हैं टिप्पणियां Hindi Blogging Guide (28)

ब्लॉग जगत का नायक बना देती है ‘क्रिएट ए विलेन तकनीक‘ Hindi Blogging Guide (29)


नैतिकता, धर्म और अध्यात्म पर अनवर जमाल के विचार

अश्लील खेल ले गया जेल, रमेश आडवाणी को Under The Blanket

नेकी को इल्ज़ाम न दो

ईमान की एक निशानी है रोज़ा

हमें भी प्यारे हैं गोपाल -Dr. Anwer Jamal

हमारे मंच के एक बहुपठित लेखक महेंद्र श्रीवास्तव जी की क़लम से

आंदोलन या आराजकता....

चिठ्ठी: अन्ना दादा के नाम....

image

corruption in india 

प्रेरणा  अर्गल

imageभारतीय नारी का एक रूप ‘बहन‘ भी है और भारतीय पर्व और त्यौहारों की सूची में एक त्यौहार का नाम ‘रक्षा बंधन‘ भी है।
हुमायूं और कर्मावती के बीच का प्रगाढ़ रिश्ता और राखी का मर्म
अशोक कुमार पामिस्ट

Sansar: बस छोटा सा जीव हूँ मैँ

Mind and body researches: ग्वारपाठा(घृतकुमारी) पेट तथा स्किन के लिए रामबाण

http://jagranjunction.com/avatar/user-390-96.pngदेवेन्द्र गौतम जी की पेशकश 

अरे भई साधो......: मसखरे हीरो नहीं बन सकते

ग़ज़लगंगा.dg: हर लम्हा जो करीब था...

खबरगंगा: एक उजडी हुई बस्ती की दास्तां


उम्मीद  प्रदीप कुमार साहनी

"छोटू"

यात्रा  अफसर पठान

देश तुम्हारे साथ है अन्ना

रक्षा बंधन

स्लटवॉक लखनऊ में

गर्जना

आज़ादी के जश्न के बीच भ्रष्टाचार के गुलामों की तानाशाही

अब ज़रा पिछले साप्ताहिक समारोह का भी आनंद लीजिए

ब्लॉगर्स मीट वीकली (4) Happy Independence Day (India)

 
...और अब हिंदी ब्लॉग जगत से सबसे पहले रतन सिंह शेख़ावत जी की चिंता अपने इतिहास और अपने वर्तमान को लेकर

हमारी भूलें : काल चक्र से मार्ग दर्शन प्राप्त नहीं करना

विनोद हौसलेवाला जी  भी इतिहास और पुराण की मान्यताओं के प्रति ही अपनी चिंताएं ज़ाहिर कर रहे हैं और वाक़ई उनकी चिंताओं का निराकरण होना ही चाहिए।
देखते हैं कौन करता है उन्हें संतुष्ट ?

व्यक्ति बड़ा है या मुद्दा ?  

डा. दिव्या श्रीवास्तव

शगुन गुप्ता जी पूछ रही हैं कि

लड़कियाँ क्यूँ ना हाथ लगाएँ शिवलिंग को ?

धार्मिक वेबसाइट का आज कल बोलबाला है. कोई नफरत फैला रहा है कोई  गलतफहमियां फैला रहा है . मकसद केवल लोगों को गुमराह करना और धर्म के नाम पे इंसानों के दिलों मैं एक दूसरे के लिए नफरत भरता हुआ करता है. जब भी कोई धार्मिक वेबसाइट पे जाएं तो यह अवश्य जांच लें कि उसकी बात से मानवता को क्या मिल रहा है ?

इंसान की नफ़रतें ही उसके ख़ात्मे का सबब बनेंगी : क़ुर'आन की भविष्यवाणी



Picture 114 ब्लॉगजगत एस एम मासूम साहब को भलीभांति जानता है और अमन के पैग़ाम  के नाम से पहचानता भी है. जनाब को सामाजिक सरोकारों से जुड़ कर काम करना अच्छा लगता है .  अमन का पैग़ाम अब करने है लगा दिलों पे असर  लेकिन इंटरनेट के ज़रिये कुछ आमदनी भी होनी चाहिए न ?

आपके वेबसाइट बनाने से संबधित सवाल हमारे जवाब

देवेन्द्र गौतम जी ने हमें सूचित किया है कि मासूम साहब की मदद से उनकी एक वेबसाइट पर गूगल एडसेंस काम करने लगा है, मुबारक हो भाई !
मुशायरा ब्लॉग पर  शालिनी कौशिक जी

भारत वर्ष हमारा.

तू ही खल्लाक़ ,तू ही रज्ज़ाक़,तू ही मोहसिन है हमारा.
रहे सब्ज़ाज़ार ,महरे आलमताब भारत वर्ष हमारा.
 
imageवंदना जी की रचना निराशा के बीच आशा जगा रही है


आज तुम फिर धड़की हो
image प्यारी माँ ब्लॉग पर प्रसून जोशी

मां का प्यार अनकंडीशनल होता है


शिखा कौशिक जी का नया ब्लॉग 

ब्लॉग पहेली-चलो हल करते हैं

अनवर जमाल की रचना

औरत की हक़ीक़त

इस्लाम सम्पूर्ण मानव-जाति की संयुक्त निधि है

कुमार राधा रमण जी

एंटीबायोटिकःक़ायदे जरूरी हैं ज़िंदगी के लिए


आज हिन्दी ब्लॉगिंग में चर्चा मंच
एक नायाब मोती की तरह चमकने लगा है! 
khush2मक्खन जी को शेरो-शायरी की एबीसी नहीं पता...लेकिन एक बार जिद पकड़ ली कि शहर में हो रहा मुशायरा हर हाल में सुनेंगे...
 कटोरे पे कटोरा, बेटा बाप से भी गोरा...खुशदीप
दिलबाग विर्क जी की रचनाएं
साहित्य सुरभि पर 
-----------------------
फुर्सत मिले तो नीचे के लिँक को जरूर पढेँ आपका ही अरूण कुमार झा

www.drishtipatpatrika.blogspot.com,
 

www.drishtipat.com,

09471760495, ०९०३११९७५५३७ g
हिंदी ब्लॉग्गिंग गाइड के लिए लिखे सलीम खान जी और एस. एम. मासूम जी के लेखों को देखिये मेरी नज़र से - ( महेश बार्माटे 'माही' )

http://meri-mahfil.blogspot.com/2011/08/6.html
 
1. Wake up Anna Hazare - अण्णा!! तुम्हें चेतना होगा

2.
एक गाँव धुला हुआ

3.
आज़ादी की बाट जोहते आदिवासी (मूलनिवासी)



Bharat Bhushan
 
----------------
1- संगीता  स्वरुप जी
http://geet7553.blogspot.com/2011/08/blog-post_12.html

 

2. सत्यम शिवम जी
http://satyamshivam95.blogspot.com/2011/08/blog-post_21.html
 

3. सुनील  कुमार जी
http://sunilchitranshi.blogspot.com/2011/08/blog-post_19.html
 

 4. मीनाक्षी  पन्त जी
http://duniyarangili.blogspot.com/2011/08/blog-post_20.html
 

 5. नीलकमल  वैष्णव जी
http://www.upkhabar.in/2011/08/blog-post_5570.html


 6.
http://armaanokidoli.blogspot.com/2011/08/blog-post_18.html
---------------------
शिल्पा मेहता जी कह रही हैं -
बहुत अच्छी खबर :)))

मेरी छात्राओं का प्रोजेक्ट "एग्रिकल्चरल रोबोट" , "आल कर्नाटक प्रोजेक्ट्स एग्जिबिशन [जो  PESIT - शिमोगा में १९ और २० अगस्त २०११ को हुई] में "बेस्ट प्रोजेक्ट" चुना गया |
---------------- 
"बातें बनाना जानते हैं" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

मित्रों ! दो दिन के लिए नेट से दूर रहूँगा!
मेरा छोटा पुत्र बहुत बीमार है!
उसे इलाज के लिए बरेली ले जा रहा हूँ!

काम कुछ करते नही बातें बनाना जानते हैं।

ये वो नेता हैं फकत जूते ही खाना जानते हैं।।

मुफ्त का खाया अभी तक और खायेंगे सदा,
जोंक हैं ये तो वतन का खून पीना जानते हैं।

राम से रहमान को जमकर लड़ाया है सदा,
ये मजहब की आड़ में रोटी पकाना जानते हैं।

गाय की औकात क्या? ये दुह रहे हैं सांड भी,
रोजियाँ ताबूत में से ये कमाना जानते हैं।

दाँत खाने के अलग हैं और दिखाने के अलग,
थूक आँखों में लगा आँसू बहाना जानते हैं।

सज्जनों कारूपधर शैतान बैठे अर्श पर,
लोग अब गांधी कपूतों को हटाना जानते हैं।
-----------------
...अंत में रश्मि प्रभा जी के ब्लॉग 'परिचर्चा' पर देखिये हमारी एक अपील  


Gift with a bow जन्माष्टमी  की बहुत बहुत शुभकामनायें Star


 

 

 

 

 

 

प्रेरणा अर्गल और अनवर जमाल की संयुक्त पेशकश

36 comments:

शालिनी कौशिक said...

प्रेरणा अर्गल जी और डॉ.अनवर जमाल जी की ये संयुक्त प्रस्तुति बहुत ही सार्थक पहल है और जिस शालीन ढंग से यहाँ ब्लोग्स की पोस्ट की चर्चा की जाती है वह सारे ब्लॉग जगत में सराहनीय है.सही कहा कि जब त्यौहार साथ साथ हो सकते हैं तो हम उन्हें साथ साथ मनाने से गुरेज़ क्यों करें.हम तो अपने बचपन से ही सारे त्यौहार साथ साथ मनाते रहे हैं और यदि ईश्वर की और इस धरती पर बसे सत्पुरुषों की कृपा दृष्टि यूँ ही बनी रही तो सारी जिंदगी हम मिल जुल कर ही अपने जीवन को हंसी ख़ुशी बिताना चाहेंगे.

DR. ANWER JAMAL said...

@ शालिनी जी ! आपने बहुत जल्दी पोस्ट देख ली और इससे वाक़ई हमें अच्छा लगा। आपने सही कहा है कि आप हमेशा से ही मिल जुल कर त्यौहार मनाती आई हैं और इसी वजह से आप हमारे बारे में कभी किसी बदगुमानी का शिकार नहीं हुईं। जो लोग समाज में आपसी सद्भाव का माहौल बनाना चाहें उनके लिए आपका अमल एक मिसाल है ब्लॉग जगत में।
...लिंक आप इस बार भी नहीं भेज पाईं, इस तरफ़ भी प्रॉपर अटेंशन की हाजत है।

:)

शुक्रिया !

शिखा कौशिक said...

बहुत सलीके से प्रस्तुत चर्चा हेतु प्रेरणा जी व् अनवर जी को बधाई

SACCHAI said...

" bahut hi acchi post ... aapko bhi janmastami aur ramjan mubarak ho sir "

Rachana said...

prena ji aur anvar ji aap ne bahut mehnat se post ko presh kiya hai .aapdono badhai ke patr hai

aapka beta jarur achchha hojayega ayr jaldi hi sehatmand ho kr ghr loautega .bhagvan se yahi prarathna hai
saader
rachana

Sadhana Vaid said...

इस सप्ताह की पेशकश भी बहुत पसंद आई ! सभी पाठकों को जन्माष्टमी एवं पाक रमज़ान की हार्दिक शुभकामनायें !

पत्रकार-अख्तर खान "अकेला" said...

bhtrin peshksh ke liyen anvar bhai opr prerna ji ko badhaai ...akhtar khan akela kota rajsthan

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

आज तो शायद टिप्पणी का मक्ता न दे पाऊँगा!
अभी सफर में हूँ और नेटबुक से कमेंट करते हुए आज की पाँचवी ब्लॉगरमीट में सभी का इस्तकबाल करता हूँ!
--
समय मिला तो देर रात तक फिर एक बार यहाँ आकर कुछ कहूँगा!
--
देखते हैं कि पुत्र हास्पीटल में विनीत के इन्वेस्टीगेशन में कितना टाइम लगता है!
--
रमजान शरीफ और श्री कृष्ण जन्माष्टमी की शुभकामनाए!

mahendra srivastava said...

wow... Mai abhi net par aaya to laga ki mai sabse pahle blog par aaya hu...par yaha aane ke baad dekh raha ki mai kitana peeche hu...khair
Dr anvar bhai our prerana ji blogers meet par lage post dekh kar lagta hai ki aap log vakai kitna mehanat kar rahe hai..
Mujhe bhi shamil karne ke liye aapka shukriya....

prerna argal said...

आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद /आप सबने इतनी जल्दी इस मंच पर आकर हमारे प्रयासों की सरहना की और इस प्रयास मैं अपना सहयोग दिया ये काबिले तारीफ़ है /आशा है आगे भी आप सबका सहयोग इसी तरह मिलता रहेगा /डॉ.साहब अपने पुत्र की बिमारी के बबवजूद अपनी जिम्मेदारी पूरी निष्ठा से निभा रहे हैं ये बहुत बड़ी बात है /भगवान् उनके पुत्र को जल्दी ही स्वस्थ लाभ करे /बच्चा हमेशा हंसता खिलखिलाता रहे बस यही कामना है /आभार/

Khushdeep Sehgal said...

शास्त्री जी के पुत्र के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की प्रार्थना...

मेरा लिंक देने के लिए आभार..

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की बहुत बहुत बधाई...

जय हिंद...

DR. ANWER JAMAL said...

प्रेरणा जी एक अच्छी साथी हैं
@ महेंद्र जी ! इतनी उत्सुकता से आप इस ब्लॉगर्स मीट में शामिल हुए हैं, सुनकर आनंद आ गया।
प्रेरणा जी ने भी समय के साथ बहुत कुछ सीखा है।
इस बार तो उनकी कई दिन की मेहनत से तैयार फ़ाइल अचानक ही करप्ट हो गई और उन्हें और हमें नए सिरे से फिर से पूरी चर्चा तैयार करनी पड़ी।

प्रेरणा जी ने कहा कि अगर रात भर जागकर भी चर्चा तैयार करनी पड़ी तो मैं कर दूंगी।
ऐसी भावना के साथ कोई ब्लॉगिंग करे तो वाक़ई अच्छा लगता है।
प्रेरणा जी सचमुच एक अच्छी साथी हैं।

@ ख़ुशदीप जी ! आपका शुक्रिया .

आपसी सद्भाव के लिए प्रयास कुछ और बढ़ाएं
@ शिखा जी , साधना वैद जी, अख़तर ख़ान साहब, सच्चाई जी और रचना जी, आप सभी का बहुत बहुत शुक्रिया
कि आपने ब्लॉगर्स मीट वीकली की भावना को पहचाना। इस वीकली मीटिंग में आपके ज़्यादा से ज़्यादा लेख ज़्यादा से ज़्यादा पाठकों तक पहुंचें, हमारी यह कोशिश है।
आप विभिन्न ब्लॉग्स से जुड़े हुए हैं, सप्ताह भर में आप जो भी लिखें या आपको किसी की कोई रचना छू जाए तो आप एक चर्चा बनाकर हमें शनिवार तक भेज दिया करें। उसे हम यहां पेश कर देंगे।
इसके अलावा भी हिंदी और हिंदुस्तान की बेहतरी के लिए कोई विचार हो तो हम उस पर भी यहां चर्चा कर सकते हैं।
ग़लत क़िस्म के लोग हिंदी ब्लॉगिंग को बहुत नुक्सान पहुंचा चुके हैं और वे इस ब्लॉगर मीट को भी लगातार ‘नज़र अंदाज़ करके‘ इसके समाप्त देखना चाहते हैं। ऐसे में आपसी सद्भाव के इस दिए की हिफ़ाज़त और भी ज़्यादा ज़रूरी है।
इस महान मिशन में आप अपने प्रयास कुछ और बढ़ाएं, आप सभी से यह विनम्र विनती है।

शुक्रिया !

शास्त्री जी, हमारी दुआएं आपके साथ हैं
@ आदरणीय शास्त्री जी ! बेटे के साथ आप हैं और आप ख़ुद भी एक तजर्बेकार
चिकित्सक हैं। आपके बेटे की व्याधि जल्दी से दूर हो आज पूरे दिन हमारी दुआ यही रहेगी, आमीन !
इन विपरीत परिस्थिितियों में आपने यहां अपनी मौजूदगी दर्शाई, सद्भावना मिशन के प्रति आपके समर्पण को दिखाने के लिए यह काफ़ी है।
हम आपके लिए दुआ भी कर रहे हैं और आपके लिए शुक्रगुज़ार भी हैं।
कहीं आप ज़रूरत समझें तो आप बुला लीजिएगा, हम और हमारे दोस्त हरेक शहर में आपके मददगार हैं।
प्रभु पालनहार आपको हरेक परेशानी से मुक्ति दे .

shilpa mehta said...

इस ब्लोगर्स मीट के लिए शुभकामनाएं सभी को |
और सबको जन्माष्टमी और रमजान की भी बहुत शुभकामनायें | शास्त्री सर के बेटे को स्वास्थ्य लाभ के लिए शुभकामनायें |
पता नहीं क्यों - यहाँ से किसी किसी ब्लॉग में टिप्पणी कर पाती हूँ, किसी किसी में नहीं (अपने खुद के ब्लॉग में भी नहीं कर पाती ) | यह टिप्पणी भी पता नहीं जायेगी या नहीं |

Kunwar Kusumesh said...

ब्लॉगर्स मीट वीकली (5) में बढियां लिंक्स देखने को मिले.
जन्माष्टमी एवं पाक रमज़ान की हार्दिक शुभकामनायें .

शालिनी कौशिक said...

डॉ.साहब ,
हमने आपकी हिंद ब्लॉग फोरम पर कृष्ण जी की पोस्ट पर लिंक भी टिप्पणी में सम्मिलित किये थे पर शायद वे हमें आपके मेल पर भेजने थे .इस बार ये गलती हो गयी है इसके लिए हम क्षमा प्रार्थी हैं आगे से यह गलती नहीं होगी इसका हम आपको भरोसा दिलाते हैं.आपने हमारी ब्लोगर मीट की भावना को सराहा इसके लिए आभार.

दिगम्बर नासवा said...

ब्लोगर्स मीट के लिए सभी को शुभकामनाएं ...
सबको रमजान और जन्माष्टमी की भी बहुत शुभकामनायें .... शास्त्री जी के बेटे को शीघ्र स्वास्थ्य लाभ हो .... हमारी शुभकामनायें ...

एस.एम.मासूम said...

यही तो हिन्दुस्तान कि खासियत है कि सभी धर्म के लोग यहाँ एक दूसरे के त्योहारों मैं शरीक होते हैं, बधाई देते हैं. इस से आपस का प्रेम बढ़ता है. रमजान के मुबारक दिनों मैं आखरी सप्ताह कि बहुत ही अहमियत है. इस सप्ताह अल्लाह कि इबादात आप कि दुनिया और आखिरत दोनों सुधार देती है. हाँ इस सप्ताह मैं एक दुखद घटना भी है और वो है मुसलमानों के खलीफा हज़रत अली (अ.स) कि शहादत २१ रमजान (इस वर्ष २२ अगस्त को २१ रमजान थी).

prerna argal said...

डॉ.साहब आप जैसा मार्गदर्शन देने वाला कदम कदम पर साथ देनेवाला गुरु मिल जाए और जो गलती होने पर भी उत्साह बढ़ाये /तो काम करनेवाला भी मेहनत और लगन से काम करता है /आपने फाइल करप्ट हो जाने के बाद भी पोस्ट चर्चा मंच में समय पर पोस्ट कर दी ये आपकी लगन और मेहनत का ही फल है /बहुत बधाई आपको /आपका सहयोग और मार्गदर्शन इसी तरह मिलता रहे /आभार /

ईं.प्रदीप कुमार साहनी said...

Prerna ji, Bahut bahut dhanyawaad aapka meri rachnaon ko shamil karne ke liye.. Aaj ka meet bhi bahut hi acha aur safal raha..Dhanyawaad is aayojan ke liye..

सलीम ख़ान said...

achchhi charcha

Maheshwari kaneri said...

इस ब्लोगर्स मीट के लिए शुभकामनाएं सभी को |
और सबको जन्माष्टमी और रमजान की भी बहुत बधाई... |

काव्य संसार said...

बहुत बढ़िया आयोजन |
इस नए ब्लॉग में पधारें |
काव्य का संसार

सलीम ख़ान said...

rshshtri jee ke putr kii swashth kii kamna karte hain

डॉ टी एस दराल said...

एक अलग अंदाज़ में रही यह चर्चा ।
सही है , श्री कृष्ण सबके लिए अवतरित थे ।
जन्माष्टमी की बहुत बहुत शुभकामनायें ।

prerna argal said...

/बहुत बहुत धन्यवाद आप सभी का की आप सभी को हमारा ये प्रयास पसंद आ रहा है /आप इस चर्चा को और बेहतर बनाने के लिए अपने सुझाव भेज सकते हैं /नए ब्लोगर भी अपनी रचनाएँ इ-मेल के द्वारा भेज सकते हैं उनकी रचनाओं को भी जरुर स्थान मिलेगा /ये सबका साझा मंच है /सबका स्वागत है /आभार/

nilesh mathur said...

आप सभी को जन्माष्टमी की बहुत बधाई।

DR. ANWER JAMAL said...

@ शालिनी जी ! इस विषय में हम एक ईमेल मंच के सभी प्रबुद्ध सदस्यों को भेज चुके हैं कि जो भी लिंक वे ‘वास्ते प्रकाशन ब्लॉगर्स मीट वीकली‘ द्वारा ईमेल भेजें तो उसके शीर्षक में भी यही लिख दें
इससे वह सुरक्षित कर ली जाएंगी और मीट में शामिल भी कर ली जाएंगी।
आशा है कि आपकी ओर से अब लिंक्स नियमित रूप से मिलते रहेंगे।
शुक्रिया !

DR. ANWER JAMAL said...

@ शिल्पा मेहता जी, कुंवर कुसुमेश जी, नीलेश माथुर जी, माहेश्वरी कनेरी जी, सलीम ख़ान साहब, सय्यद मुहम्मद मासूम साहब, प्रदीप जी , दिगंबर नासवा जी और डा. टी. एस. दराल जी , आपकी आमद हमारे लिए बायसे मसर्रत है, हम तहे दिल से आपका इस्तक़बाल करते हैं।
आप आए हमें अच्छा लगा लेकिन अभी बहुत से ऐसे लोग हैं जिन्हें आना चाहिए था और वे नहीं आए , क्यों ?
क्या यह एक सकारात्मक काम या लाभदायक पोस्ट नहीं है जिससे सद्भावना और स्नेह का वातावरण बनता है तो कहां हैं वे लोग जो हिंदी ब्लॉगिंग में स्नेह और प्यार का माहौल देखना चाहते हैं ?
यह सोचने की बात है।

@ प्रेरणा जी ! आपने तो हमें अपना गुरू और मार्गदर्शक ही घोषित कर दिया।
आपने तो बहुत बड़ा दर्जा दे दिया।
मालिक से अब यही दुआ है कि वह मुझे आपकी कल्पना से बेहतर बना दे।

आमीन !

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

संयुक्त प्रयास सराहनीय है ... जन्माष्टमी की शुभकामनायें

DR. ANWER JAMAL said...

@ संगीता स्वरूप जी ! आपको भी जन्म अष्टमी की शुभकामनाएं।


@ दोस्तो ! ब्लॉगर्स मीट वीकली की यह पांचवीं महफ़िल भी हिंदी ब्लॉग जगत द्वारा बहुत पसंद की गई है और इस ब्लॉग की लोकप्रिय पोस्ट में अब इसे भी देखा जा सकता है। इससे पहले की चारों महफ़िलें भी बेहद पसंद की गईं और उन्हें भी आप लोकप्रिय पोस्ट के कॉलम में देख सकते हैं।
इसका मतलब है कि लोग हमारे ब्लॉग तक खिंचे हुए चले आ रहे हैं भले ही आज वे खुलकर अपनी मौजूदगी ज़ाहिर करने से बच रहे हैं लेकिन एक समय आएगा जब वे खुलकर भी साथ आएंगे।
बेहतर माहौल बनाने के लिए संकीर्णताओं से ऊपर उठना ही होगा।
समय की यही मांग है।

Dr. Ayaz Ahmad said...

यह सही कहा है आपने कि तंगनज़री से बुलंद करना ही बेहतरी की बुनियाद है।
आपकी कोशिशें रंग ला रही हैं, अल्-हम्दुलिल्लाह !

हमारे ब्लॉग से भी अगर कुछ लिंक ले लिए होते तो अच्छा था हालांकि इन्हें भेजना हमें ख़ुद ही चाहिए था।

कुमार राधारमण said...

ब्लॉगिंग के राज़ वाले जो लिंक हैं,उनकी बड़ी दरकार थी। न जाने कहां ढूंढते रहते अन्यथा।
कई उपयोगी पोस्टों तक पहुंचाने का भी शुक्रिया।

Minakshi Pant said...

मैं आपकी बहुत आभारी हूँ दोस्त कल जन्माष्टमी के वर्त कि वजह से नहीं आ पाई आज सभी लिंक्स को पड़ने कि कोशिश करुँगी मेरी रचना को सम्मान देने का बहुत - बहुत शुक्रिया दोस्त |

डॉ0 ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ (Dr. Zakir Ali 'Rajnish') said...

सुंदर...

------
लो जी, मैं तो डॉक्‍टर बन गया..
क्‍या साहित्‍यकार आउट ऑफ डेट हो गये हैं ?

DR. ANWER JAMAL said...

@ भाई डा. अयाज़ साहब ! कुछ काम तो आपको ही करना पड़ेगा।
हा हा हा
जबकि आप ख़ुद भी कह रहे हैं।

@ कुमार राधारमण जी ! आपको यह लेख उपयोगी लगे, आपका शुक्रिया !

@ मीनाक्षी जी ! दोस्त कहने के लिए शुक्रिया !

@ रजनीश जी ! आप भी वीरूभाई की तरह लिंक साथ ही लिए घूमते हैं।
चलिए हम तो चाहते हैं कि ब्लॉगर्स लिंक भेजें। अगर सब आपकी तरह करें तो हमारा काम काफ़ी आसान हो जाए।

prerna argal said...

मीनाक्षीजी आपका दोस्त कहना मुझे बहुत अच्छा लगा/आप इस मंच में आईं और हमारे प्रयासों की सराहना की इसके लिए धन्यवाद /आगे भी आपका सहयोग हमें इसी तरह मिलता रहेगा /
संगीता स्वरुपजी,अयाज अहमदजी .राधारमण जी और सभी ब्लोगर्स साथियों को बहुत बहुत धन्यवाद /जो आप सब इस मंच पर पधारे /और हमारे प्रयासों की सराहना की /आशा है आगे भी आप सभी का सहयोग हमें मिलता रहेगा/आभार/

Read Qur'an in Hindi

Read Qur'an in Hindi
Translation

Followers

Wievers

Gadget

This content is not yet available over encrypted connections.

गर्मियों की छुट्टियां

अनवर भाई आपकी गर्मियों की छुट्टियों की दास्तान पढ़ कर हमें आपकी किस्मत से रश्क हो रहा है...ऐसे बचपन का सपना तो हर बच्चा देखता है लेकिन उसके सच होने का नसीब आप जैसे किसी किसी को ही होता है...बहुत दिलचस्प वाकये बयां किये हैं आपने...मजा आ गया. - नीरज गोस्वामी

Check Page Rank of your blog

This page rank checking tool is powered by Page Rank Checker service

Hindu Rituals and Practices

Technical Help

  • - कहीं भी अपनी भाषा में टंकण (Typing) करें - Google Input Toolsप्रयोगकर्ता को मात्र अंग्रेजी वर्णों में लिखना है जिसप्रकार से वह शब्द बोला जाता है और गूगल इन...
    4 years ago

हिन्दी लिखने के लिए

Transliteration by Microsoft

Host

Host
Prerna Argal, Host : Bloggers' Meet Weekly, प्रत्येक सोमवार
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Popular Posts Weekly

Popular Posts

हिंदी ब्लॉगिंग गाइड Hindi Blogging Guide

हिंदी ब्लॉगिंग गाइड Hindi Blogging Guide
नए ब्लॉगर मैदान में आएंगे तो हिंदी ब्लॉगिंग को एक नई ऊर्जा मिलेगी।
Powered by Blogger.
 
Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.