ब्लॉगर्स मीट वीकली (20) Khwaja Gareeb Nawaz

Posted on
  • Monday, December 5, 2011
  • by
  • Prerna Argal
  • in
  • Labels: ,
  • ब्लॉगर्स मीट वीकली (20)    

    सबसे पहले मेरे सारे ब्लोगर साथियों को प्रेरणा अर्गल का प्रणाम और सलाम /सबसे पहले मैं इस मंच के सभापति आ. शास्त्रीजी का अभिनन्दन  करती हूँ /उसके बाद आप सभी का स्वागत करती हूँ / आप आइये और अपने  विचारों  से हमें  अवगत  करिए और हमारा  उत्साह बढाइये / 
                                                      

    ‘‘सब जगह राम है’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)


    आज सबसे पहले मंच की पोस्ट्स 

     अनवर जमाल जी की रचनाएँ 

    रमेश कुमार जैन उर्फ़ "सिर्फिरा जी "की रचना 



    मद का प्याला-अहंकारअयाज अहमद जी की रचना 
    इंसानियत के सुनहरे उसूल हैं पैग़म्बर मुहम्मद साहब सल्ल. की शिक्षाएंप्यार ही प्यार बरसा हरिद्वार में, आप इसे यूट्यूब पर देख भी सकते हैं http://www.youtube.com/watch?feature=player_embedded&v=thDTEKONqg4
    अजमेर की दरगाह शरीफ , दीदार गरीब नवाज की मज़ार का - श्रुति अग्रवालदेवेन्द्र गौतम जी की रचना 
    अरे भई साधो......: अरबों की दौलत मगर किस काम की 
    ग़ज़लगंगा.dg: ख्वाहिशों के जिस्मो-जां की.....
    प्रेरणा अर्गल  की रचना 

    Disha Verma
    दिशा  वर्मा
     

    मंच के बाहर की पोस्ट   

     सत्यम शिवम जी की रचना 

     मेरे जन्मदिन के दिन "काव्य संग्रह" का विमोचन........[आशीर्वाद दे]

    कुवंर कुसुमेश जी की रचना 



    ध्वनि प्रदूषण पर दोहे


    मार्क राय जी की रचना 
    .
    तेजवानी गिरधर  जी की रचना 
    मीनाक्षी पंत जी की रचना 
    Birds Wallpaper of two birds sitting on a tree

    रश्मि प्रभा जी की रचना 

    दो कप चाय...अदरक वाली.

    .

    प्रतिभा सक्सेना जी की रचना 

    राजेश कुमारी जी की रचना 

    चित्ताकर्षक अंडमान द्वीप समूह



    जे .पी. तिवारी जी की रचना 


    चन्दन कुमार मिश्र जी की रचना 
    अनामिका जी की रचना 


    डॉ.राजेंद्र तेला "निरंतर जी"  की रचना 


    अतुल  श्रीवास्तव जी की रचना 

    जोयाजी की रचना 


    मंगल यादव जी की रचना 

    रविकर जी की रचना 

    देखिए एक बढ़िया गर्मागर्म चर्चा 

    यज्ञ हो तो हिंसा कैसे ।। वेद विशेष ।।

    और इसी ब्लॉग पर 

    वैदिक यज्ञों में पशुबलि---एक भ्रामक दुष्प्रचार

    वैदिक शब्दावली की एक जो सबसे बडी विशेषता है, वो ये कि वैदिक नामपद अपने नामारूप पूर्णत: सार्थक हैं. वेदों में भिन्न-भिन्न वस्तुओं के जो नाम मिलते हैं, वे किसी भी रूप में अपने धात्वर्थों का त्याग नहीं करते.
    मुशायरा ब्लॉग पर 

    "प्यारी-प्यारी बातें" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


    बात-बात में हो जाती हैं, देखो कितनी सारी बातें।
    घर-परिवार, देश-दुनिया की, होतीं सबसे न्यारी बातें।।
    वेद कुर'आन पर

    हिंदू धर्म और इस्लाम में पशु बलि और क़ुरबानी पर एक यादगार संवाद

    भारत में सांस्कृतिक बहुलता पाई जाती है और यह ज़बर्दस्त है।
    यहां एक ही समाज में ऐसे लोग मिलेंगे जो कि एक बात को सही मानते हैं लेकिन यहां ऐसे लोग भी मिलेंगे जो कि उस बात को सही मानते हैं जो कि पहली बात के ठीक विपरीत है। यहां के लोगों ने इसी माहौल में जीना सीख लिया है।
    प्रायः लोग यहां अपनी परंपराओं का पालन करते हैं और दूसरों की परंपराओं पर सरेआम उंगली उठाकर उन्हें ग़लत नहीं कहते।

    प्रेरणा जी के हुनर का क़ायल कर गई ब्लागर्स मीट वीकली 20

    डा. अयाज़ अहमद साहब 
    ब्लागर्स मीट वीकली 20 में हमारी पोस्ट 
    इसके अलावा भी हमारी दीगर पोस्ट वहां देखी जा सकती हैं।
    दूसरे लिंक भी अच्छे हैं।

    18 comments:

    रविकर said...

    बहुत ही चित्ताकर्षक प्रस्तुति ||

    आभार ||

    shreepal chaudhary said...

    very impressive...Main asha karta hoon ki bhavishya mein bhi aap hamen itni mahattvapoorn jaankaariya uplabdh karaatey rahenge....All the best Anwer Jamal Khan saaheb

    DR. ANWER JAMAL said...

    @ जनाब श्रीपाल चौधरी साहब ! आपका आना हमारे लिए एक ख़ुशी की बात है।
    आज ही हमने फ़ेसबुक पर आपकी वॉल पर देखा कि लंका फ़िल्म जल्द ही आ रही है जिसमें आपके गुरू डायरेक्टर जनाब अनिल चौधरी साहब ने संवाद लिखे हैं। इस तरह की पोस्ट्स के लिंक आप हमें भेज सकते हैं। इस मीट में हम ऐसे ही लिंक्स पेश करते हैं, ताकि हिंदी पाठकों को नई जानकारी मिल सके।
    धन्यवाद !

    DR. ANWER JAMAL said...

    @ जनाब रविकर जी ! आज की यह प्रस्तुति पूरी तरह प्रेरणा अर्गल जी की है।
    वाक़ई चित्ताकर्षक है।
    प्रेरणा जी का और आपका आभार !
    अब हम भी देखेंगे कि इस में दो चार लिंक कौन से जोड़े जाएं ?

    Dr. Ayaz Ahmad said...

    आपके भेजे गए लिंक पर आकर देखा तो
    प्रेरणा जी के हुनर का क़ायल कर गई ब्लागर्स मीट वीकली 20
    ब्लागर्स मीट वीकली 20 में हमारी पोस्ट (भारत की ताक़त, प्यार ही प्यार बरसा हरिद्वार में) को शामिल किया गया है।
    इसके अलावा भी हमारी दीगर पोस्ट वहां देखी जा सकती हैं।
    दूसरे लिंक भी अच्छे हैं।
    शुक्रिया बहुत बहुत ...

    संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

    अच्छी प्रस्तुति ...

    संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

    प्रेरणा अर्गल जी की रचना का लिंक शायद गलत लगा है ... अनोखी बेटी की जगह कुछ और खुल रहा है ... कृपया देखिएगा ..

    Sadhana Vaid said...

    सदा की तरह बेहतरीन लिंक्स और खूबसूरत साप्ताहिक मीट ! हार्दिक शुभकामनायें व बधाई !

    डा.राजेंद्र तेला"निरंतर" Dr.Rajendra Tela,Nirantar" said...

    badhiya links ,bahut badhaayee

    चंदन कुमार मिश्र said...

    मेरे लेख की कड़ी के लिए धन्यवाद।

    Atul Shrivastava said...

    बढिया लिंक्स।
    मेरी पोस्‍ट को शामिल करने के लिए आभार....

    prerna argal said...

    आप सबका बहुत बहुत आभार की आप सब मंच पर पधारे और हमारे द्वारा चयन किये गए लिंक पसंद किये /प्रत्येक सोमवार को इस मीट में शामिल होते रहिये और अपने अनमोल विचारों से हमारा उत्साह बढ़ाते रहिये /धन्यवाद /संगीताजी आपका बहुत आभार की आपने मुझे सूचित किया की मेरी पोस्ट का लिंक गलत खुल रहा है /अब मैंने उसे ठीक कर दिया है /आप आइये और अपनी राय जरुर दीजिये /शुक्रिया /

    Rajesh Kumari said...

    bahut achchi prastuti.aabhari hoon aapki jo meri post ko sthan diya.

    Kunwar Kusumesh said...

    बढिया लिंक्स.
    मेरी पोस्‍ट को शामिल करने के लिए आभार.

    चंद्रमौलेश्वर प्रसाद said...

    सार्थक चर्चा और रोचक भी॥

    अनामिका की सदायें ...... said...

    bahut sunder links se susajjit lagi ye bloggers meet.

    meri rachna ko yaha sthan dene k liye aabhar.

    दिलबाग विर्क said...

    सुंदर चर्चा

    डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

    ख्वाज़ा गरीब नवाज़ हमारी कौमी एकता के सम्बल हैं। आपने ब्लॉगर मीट के 20वें अंक में एक स्तरीय चर्चा को अन्ज़ाम दिया है।
    बहुत सारे अच्छे लिंक इस मीट में मुहैय्या कराये गये हैं। इससे नये-पुराने सभी चिट्ठाकारों को निश्चितरूप से बल मिलेगा। आप आयोजकों की भावनाओं का आदर करते हुए निवेदन करता हूँ कि लगातार 20 अंकों तक आपने मुझे इसके सभापति के रूप में झेला है। अतः अब आगामी 20 अंकों के लिए किसी अन्य विद्वान को ब्लॉगर मीट वीकली की सदारत के लिए मनोनीत करने की कृपा करें।
    इसका कारण यह है कि मैं अपनी व्यस्तताओं के चलते हुए समय पर अपना अध्यक्षीय कमेंट देने में अक्सर लेट हो जाता हूँ।
    मैं तो आपके साथ दिल से जुड़ा ही हूँ और आगे भी जुड़ा रहूँगा।
    शुभकामनाओं के साथ- आपका अपना ही।

    Read Qur'an in Hindi

    Read Qur'an in Hindi
    Translation

    Followers

    Wievers

    Gadget

    This content is not yet available over encrypted connections.

    गर्मियों की छुट्टियां

    अनवर भाई आपकी गर्मियों की छुट्टियों की दास्तान पढ़ कर हमें आपकी किस्मत से रश्क हो रहा है...ऐसे बचपन का सपना तो हर बच्चा देखता है लेकिन उसके सच होने का नसीब आप जैसे किसी किसी को ही होता है...बहुत दिलचस्प वाकये बयां किये हैं आपने...मजा आ गया. - नीरज गोस्वामी

    Check Page Rank of your blog

    This page rank checking tool is powered by Page Rank Checker service

    Hindu Rituals and Practices

    Technical Help

    • - कहीं भी अपनी भाषा में टंकण (Typing) करें - Google Input Toolsप्रयोगकर्ता को मात्र अंग्रेजी वर्णों में लिखना है जिसप्रकार से वह शब्द बोला जाता है और गूगल इन...
      4 years ago

    हिन्दी लिखने के लिए

    Transliteration by Microsoft

    Host

    Host
    Prerna Argal, Host : Bloggers' Meet Weekly, प्रत्येक सोमवार
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

    Popular Posts Weekly

    Popular Posts

    हिंदी ब्लॉगिंग गाइड Hindi Blogging Guide

    हिंदी ब्लॉगिंग गाइड Hindi Blogging Guide
    नए ब्लॉगर मैदान में आएंगे तो हिंदी ब्लॉगिंग को एक नई ऊर्जा मिलेगी।
    Powered by Blogger.
     
    Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.