ब्लॉगर्स मीट वीकली (11) 2 October

Posted on
  • Monday, October 3, 2011
  • by
  • DR. ANWER JAMAL
  • in
  • Labels:
  •  ब्लॉगर्स मीट वीकली (11)
    -----------------------------
    आदरणीय श्री रूपचंद शास्त्री मंयक जी का इस 11वीं महफ़िल में  अपने सभापति  के रूप  में स्वागत करते हैं और आप सभी हिंदी ब्लॉगर्स का भी  दिल से स्वागत है .
    और सभी  ब्लॉगर्स  को  प्रेरणा अर्गल का प्रणाम और सलाम .



    आज सबसे पहले मंच की पोस्ट्स 

     अनवर जमाल जी की रचनाएँ 

    आज अपने गिरेबान में झांक कर देखें- अज़ीज़ बर्नी

    ऐसे काम कीजिए, जिससे आपको दुआ मिले

      अख्तर  खान  "अकेलाजी "   की रचनाएँ

    रमेश कुमार जैन उर्फ़ "  सिरफिरा "  जी  की रचना 

    हाइकू    सुमन दुबेजी की रचना 
    साधना वैद जी की रचना 

    खोटे सिक्के

    दर्सन कौरजी की रचना 


    मेरे गुरु की नगरी~श्री हजूर साहेब--पार्ट -1.

    तख़्त श्री सचखंड साहेब  'नांदेड ' 
    वंदना जी की रचना 
    खुशखबरी आपके लिये……दिवाली की सौगात


    दीप्ती शर्मा जी की रचना  


    तेरे लाज के घूँघट से





    मीनाक्षी पन्त जी की रचना 

    फूल


    सुनील कुमार जी की रचना 

    रिश्तों का  सोफ्टवेयर












     रश्मि प्रभा जी की रचना 

    कभी घर से बाहर निकलकर तो देखो


    विवेक जैन जी की रचना 

    कनुप्रिया - तुम मेरे कौन हो


    रविकर जी  की रचना 

    पत्नी पग-पग पर परे, पल-पल पति पतियाय-
    Rakhi Sawant and Elesh Parujanwala
    नीलकमल वार्ष्णेय जी की रचना 



    दिव्या जी की रचना 


    कैलाश सी.शर्माजी की रचना 

    बेटी


    संगीता स्वरूप जी की रचना 

    तुम यहीं कहीं हो


    अब मेरी प्रस्तुति 

    मेरे सारे ब्लोगर साथियों को नवरात्रि की शुभकामनायें /

    माँ सबका कल्याण करे /



    ब्लॉग की ख़बरें 

    "गांधी एक विचार" {चर्चा मंच - 655}

    ब्लॉगप्रहरी नेटवर्क : मुबारक हो जन्मदिन

    मृदुला जी की एक ख़ास पेशकश

    आपके अंदर के अपराधी को मार सकती है शादी

    महिलाओं के लिए अघोषित आरक्षण ?

    अहसास की परतें 

    जो लोग खाना पेट में उतारना जानते हैं उन्हें यह भी जानना चाहिए कि उसे पेट में उतारने लायक कैसे बनाया जाए ?

    मुशायरा::: नॉन-स्टॉप

    एक क़तआ ....ड़ा श्याम गुप्त....

    वो आएंगे तो हड़काएंगे ही


    आज़ाद फिलिस्तीन की संभावना कितनी है ?

    नारी को आगे बढ़ने में मदद करते हैं पुरूष भी

    पाकिस्तान नफ़रत में अंधा हो गया है

     झोला छाप ही नहीं , सड़क छाप डॉक्टर भी होते हैं ---

    -डॉ. टी. एस. दराल  

    भूतों की भूतनी - R. S. Shekhawat 

     जब सब लोग महल से निकल गए तो ताऊ ने महल में जाकर अपनी धोती के पायचे टांगे अपनी कमीज व बनियान फाड़कर चीथड़े चीथड़े कर लिए और अपनी जूतियाँ हाथ में ले कुंवर की तरफ बेतहासा भागते हुए कहने लगा - " अरे भूत ! भाग ,ताई आ गयी है |"

    एक अच्छा लेख जो दिल को छू गया 

    आओ भारत को बनाएं ‘यंगिस्तान’! 

    भारत में मुर्दे बोलने लगे हैं

    कश्मीर भारत के दो युद्ध क्षेत्रों में से एक है, जहां से कोई खबर बाहर नहीं निकल सकती. लेकिन गुमनाम कब्रों में दबी लाशें खामोश नहीं रहेंगी . - अरुंधति राय

    •  यदि आप भी ब्लॉग पोस्टों की चोरी से परेशान हैं तो आज अपनाइए "ब्लॉग सुरक्षा करने तरीका" जो सभी ब्राउज़रों (इंटरनेट एक्सप्लोरर, फ़ायरफ़ॉक्स, गूगल क्रोम, ओपेरा) पर काम करता है। 

    16 comments:

    Suman said...

    nice

    रविकर said...

    आभार ||

    संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

    सराहनीय प्रयास .. जो लिंक्स छूट जाते हैं वो यहाँ मिल जाते हैं ... आभार मेरी रचना को स्थान देने के लिए

    HAKEEM YUNUS KHAN said...

    निष्पक्ष होकर लिंक चुने गए हैं और हरेक विचाराधारा और हरेक मत के लोगों को सम्मान दिया गया है, इस मीट ११ को देखकर यह बिल्कुल साफ हो जाता है।

    शुक्रिया आप दोनों का और आपके मुआविनीन का.

    Dr. Ayaz Ahmad said...

    एक उम्दा कोशिश है आप लोगों की यह मेहनत जो आप लोगों को करीब लाने के लिए कर रहे हैं और आपकी मेहनतों का असर भी दिखने लगा है।
    ब्लॉग जगत में संजीदगी पहले के मुकाबले अब कुछ ज्यादा दिखाई देती है लेकिन अभी और ज्यादा हो, ऐसी कोशिश करने की जरूरत है।

    लाजवाब और शानदार पेशकश के लिए प्रेरणा जी को मुबारकबाद और अनवर भाई को भी।
    शास्त्री जी का सहयोग भी काबिले तारीफ है।

    Kunwar Kusumesh said...

    Very nice. Thank you.

    Sadhana Vaid said...

    बहुत सुन्दर व सराहनीय मीट है आज की ! मेरी रचनाओं को आपने इसमें स्थान दिया आभारी हूँ ! अन्य सभी लिंक्स भी बहुत ही बेहतरीन हैं ! सुन्दर आयोजन के लिये बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनायें !

    prerna argal said...

    आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद की आप सब इस मंच पर पधारे / और आपने हमारे चुने हुए लिनक्स पसंद किये /आशा है आगे भी आप सबका सहयोग इस मंच को मिलता रहेगा /आभार /

    ana said...

    sabhi links ek se badhkar ek hai....padhane ke liye dhanyavad

    Aslam Qasmi said...

    आपने हिंदी ब्लॉगिंग से बहुत सी बेजा बातों को दूर किया है और ब्लॉगिंग में सरगर्म नेक और बद ताकतों को खूब पहचाना है, इसके लिए आपका शुक्रिया।

    इसी के साथ आपने नेक और साफ दिल के लोगों को एक मंच पर जमा करने में भी कामयाबी पाई है, यह बडी बात है।

    अच्छे काम वक्त के साथ अपनी अच्छाई जाहिर करते ही हैं, किसी की मुखालिफत इसके आडे न आ पाएगी,
    आपके लिंक भी अच्छे हैं और आपके साथियों में भी लगन और मुहब्बत है।

    सभी लायके मुबारकबाद हैं।

    Maheshwari kaneri said...

    Very nice. Thank you.

    Suman Dubey said...

    प्रेरणा जी बहुत -बहुत धन्यवाद आपका मेरे हाइकू शमिल करने के लिये सादर आभार आपका मंच से जुड़ कर मै बहुत खुश हूं ।

    इंजी० महेश बारमाटे "माही" said...

    hmmmm

    nice links... :)

    डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

    ब्लॉगर मीट वीकली-11 का अंक भी मेरी आशा के अनुरूप ही रहा! इसमें हफ्ते भर की हिन्दी ब्लॉगिंग के साथ-साथ बहुत सी अद्यतन पोस्टों को भी शामिल करके इसके संयोंजकों ने यह साबित कर दिया है कि ब्लॉगर मीट का यह सिलसिला अनवरत चलता रहेगा।
    सच तो यह है कि अब लोगों को सोमवार का इन्तजार रहता है, क्योंकि लत लग गई है पढ़ने की और नये विषयों को जानने की।
    अन्त में उन सभी का हार्दिक स्वागत जिन्होंने यहाँ आकर अपनी राय दी और उनका आभार जिन्होंने इसको पढ़ा और चुपचाप बिना कुछ कहे चले गये!
    धन्यवाद आप सबका!

    DR. ANWER JAMAL said...

    @ आदरणीय शास्त्री जी ! आपने यह सही कहा है कि अनवरत चलेगा यह सिलसिला ।
    हमारी तरफ से तो यह कोशिश यकीनन ही की जाएगी बस मालिक का करम और उसकी दया बनी रहे, आमीन !
    आज दो शेर 'मुशायरा' ब्लॉग पर डाले हैं , उनमें से एक आपको भेंट करता हूं-
    जब से छुआ है तुझको महकने लगा बदन
    फ़ुरक़त ने तेरी मुझको संदल बना दिया


    उसी पोस्ट का दूसरा शेर हिंदी ब्लॉग जगत में विचरते प्राणियों की भेंट है-
    ज़ुबां से कहूं तो है तौहीन उनकी
    वो ख़ुद जानते हैं मैं क्या चाहता हूं


    आपका स्पेशल शुक्रिया ...
    और इस महफिल में शामिल होने वाले सभी सुधि जनों का भी शुक्रिया !

    आपका सहयोग न होता तो यह ब्लॉगर्स मीट वीकली भी न होती, इस ब्लॉग के लोकप्रियता कॉलम में इस मीट की पोस्ट्‌स की भरमार यह बताती है कि इसे कितना पसंद किया जा रहा है और इसी के साथ इसके फालोअर्स की तादाद भी ११५ हो गई है जो कि इससे पहले ४८ थी।

    इस ब्लॉग का मकसद मात्र मनोरंजन नहीं है बल्कि लोगों को वह संतुलिक वैचारिक पोषण मुहैया कराना है जिसकी कमी के चलते आपस में दूरियां और आशंकाएं पैदा जाया करती हैं।
    हमारी कोशिश है कि दिलों के दरम्यान अब कोई दीवार न रहे,
    दिलों की दीवार गिरते ही बाहर की हरेक दीवार अपना आधार खो देगी और वह भरभरा कर खुद ही गिर जाएगी।
    इस पुनीत कर्तव्य में आपकी ओर से मिल रहे सहयोग के लिए हम वाकई शुक्रगुजार हैं।

    http://mushayera.blogspot.com/2011/10/blog-post_04.html

    Kailash C Sharma said...

    बहुत सुन्दर लिंक्स...आभार

    Read Qur'an in Hindi

    Read Qur'an in Hindi
    Translation

    Followers

    Wievers

    Gadget

    This content is not yet available over encrypted connections.

    गर्मियों की छुट्टियां

    अनवर भाई आपकी गर्मियों की छुट्टियों की दास्तान पढ़ कर हमें आपकी किस्मत से रश्क हो रहा है...ऐसे बचपन का सपना तो हर बच्चा देखता है लेकिन उसके सच होने का नसीब आप जैसे किसी किसी को ही होता है...बहुत दिलचस्प वाकये बयां किये हैं आपने...मजा आ गया. - नीरज गोस्वामी

    Check Page Rank of your blog

    This page rank checking tool is powered by Page Rank Checker service

    Hindu Rituals and Practices

    Technical Help

    • - कहीं भी अपनी भाषा में टंकण (Typing) करें - Google Input Toolsप्रयोगकर्ता को मात्र अंग्रेजी वर्णों में लिखना है जिसप्रकार से वह शब्द बोला जाता है और गूगल इन...
      4 years ago

    हिन्दी लिखने के लिए

    Transliteration by Microsoft

    Host

    Host
    Prerna Argal, Host : Bloggers' Meet Weekly, प्रत्येक सोमवार
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

    Popular Posts Weekly

    Popular Posts

    हिंदी ब्लॉगिंग गाइड Hindi Blogging Guide

    हिंदी ब्लॉगिंग गाइड Hindi Blogging Guide
    नए ब्लॉगर मैदान में आएंगे तो हिंदी ब्लॉगिंग को एक नई ऊर्जा मिलेगी।
    Powered by Blogger.
     
    Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.