करकरे के हत्यारे कौन ?

Posted on
  • Wednesday, September 21, 2011
  • by
  • DR. ANWER JAMAL
  • in
  • Labels:
  • Hindi translation of bestseller "Who Killed Karkare?"
    Book:
     करकरे के हत्यारे कौन ?

    भारत में आतंकवाद का असली चेहरा

    एस. एम. मुशरिफ़
    by S.M. Mushrif
    [Former, IG Police, Maharashtra]
    368 pages p/b
    Price: Rs 250 / US $15  $20
    ISBN-10: 81-7221-038-8
    ISBN-13: 978-81-7221-038-0
    Year: 2010
    Publishers: Pharos Media Publishing Pvt Ltd

    368 पन्‍नों की यह पुस्तक भारत में “इस्लामी आतंकवाद” की फ़र्ज़ी धारणा को तोड़ती है।

    यह उन शक्‍तियों के बारे में पता लगाती है जिनका महाराष्ट्र ए टी एस के प्रमुख हेमंत करकरे ने पर्दाफ़ाश करने की हिम्मत की और आख़िरकार अपने साहस, और सत्य के प्रति अपनी प्रतिबद्धता की क़ीमत अपनी जान देकर चुकाई।

    एक पुस्तक जो साफ़ तौर पर यह कहती है कि ये “ब्राह्‌मणवादियों” का “ब्राह्‌मणवादी आतंकवाद” है, इस्लामवादियों का “इस्लामी आतंकवाद” नहीं...


    From the back Cover:

    राज्य और राज्यविहीन तत्त्वों द्वारा राजनीतिक हिंसा या आतंकवाद का एक लम्‍बा इतिहास भारत में रहा है। इस आरोप ने कि भारतीय मुसलमान आतंकवाद में लिप्त हैं, 1990 के दशक के मध्य में हिंदुत्ववादी शक्‍तियों के उभार के साथ ज़ोर पकड़ा और केंद्र में भाजपा की सत्ता के ज़माने में राज्य की विचारधारा बन गया। यहाँ तक कि “सेक्यूलर” मीडिया ने सुरक्षा एजेंसियों के स्टेनोग्राफ़र की भूमिका अपना ली और मुसलमानों के आतंकवादी होने का विचार एक स्वीकृत तथ्य बन गया | हद यह कि बहुत-से मुसलमान भी इस झूठे प्रोपेगण्डे पर विश्‍वास करने लगे।

    पूर्व वरिष्ठ पुलिस अधिकारी एस.एम. मुशरिफ़ ने, जिन्होंने तेलगी घोटाले का भंडाफोड़ किया था, इस प्रचार-परदे के पीछे नज़र डाली है, और इसके लिए सार्वजनिक क्षेत्र व अपने लम्बे पुलिस अनुभव से प्राप्त ज़्यादातर जानकारियों (शोध-सामग्री) का उपयोग किया है। उन्होंने कुछ चौंकाने वाले तथ्यों को उजागर किया है, और अपनी तरह का पहला उनका यह विश्‍लेषण तथाकथित “इस्लामी आतंकवाद” के पीछे वास्तविक तत्त्वों को बेनक़ाब करता है। ये वही शक्‍तियां हैं जिन्होंने महाराष्ट्र ए टी एस के प्रमुख हेमंत करकरे की हत्या की, जिसने उन्हें बेनक़ाब करने का साहस किया और अपनी हिम्मत व सत्य के लिए प्रतिबद्धता की क़ीमत अपनी जान देकर चुकाई।
    यह पुस्तक भारत में “इस्लामी आतंकवाद” से जोड़ी गयीं कुछ बड़ी घटनाओं पर एक कड़ी नज़र डालती है और उन्हें आधारहीन पाती है।

    About the author

    एस.एम. मुशरिफ़ महाराष्ट्र के एक पूर्व आई जी पुलिस थे जो सबसे ज़्यादा अब्दुल करीम तेलगी फ़र्ज़ी स्टांप पेपर घोटाले को उजागर करने के लिए याद किये जाते हैं। वह 1975 में महाराष्ट्र के लोक सेवा आयोग द्वारा सीधे पुलिस उपाध्यक्ष नियुक्‍त किये गये थे; और 1981 में भारतीय पुलिस सेवा में ले लिए गए थे।
    श्री मुशरिफ़ को वर्ष 1994 में सराहनीय सेवा के लिए “राष्ट्रपति पुलिस पदक” से सम्मानित किया गया था । शानदार सेवा के लिए उन्हें पुलिस महानिदेशक का प्रतीक चिह्‌न भी दिया गया और बेहतरीन कार्यप्रदर्शन के लिए सीनियर अधिकारियों की तरफ़ से उन्हें बहुत सराहा गया। अक्‍तूबर 2005 में उन्होंने रिटॉयरमेंट लिया। अब वह सूचना अधिकार अधिनियम, 2005 को लागू कराने, भ्रष्टाचार के ख़ात्मे, साम्प्रदायिक सौहार्द्र और किसानों व दलितों के कल्याण के लिए काम कर रहे हैं।
    विषय-सूची / Table of Contents:
    तीसरे अंग्रेज़ी संस्करण का प्राक्‍कथन
    प्राक्‍कथन
    1. हिन्दू-मुस्लिम दंगे
    आम हिन्दुओं (बहुजन) को दबोचे रखने के लिए ब्राह्‌मणवादियों की रणनीति
    2. नई चाल, नया जाल
    साम्प्रदायिकता के बजाय “मुस्लिम-दहशतगर्दी” का हव्वा
    3. बम विस्फोटों की जाँच
    ब्राह्‌मणवादियों को बचाने और मुसलमानों के फंसाने के लिए आई बी की ग़ैर ज़रूरी और सोची-समझी दख़ल अन्दाज़ी
    i) 2006 का मुंबई ट्रेन बम विस्फोट मामला (11 जुलाई 2006)
    ii) मालेगांव बम विस्फोट मामला (8 सितम्बर 2006)
    iii) अहमदाबाद बम विस्फोट और सूरत के बिना फटे बम (26 जुलाई 2008)
    iv) दिल्‍ली बम विस्फोट 2008 (13 सितम्बर 2008)
    v) समझौता एक्सप्रेस बम विस्फोट केस (19 फ़रवरी 2007)
    vi) हैदराबाद मक्‍का मस्जिद विस्फोट (18 मई 2007)
    vii) अजमेर शरीफ़ दरगाह विस्फोट (11 अक्‍तूबर 2007)
    viii) उत्तर प्रदेश की अदालतों में श्रृंखलाबद्‌ध विस्फोटक (23 नवम्बर 2007)
    ix) जयपुर धमाके (13 मई 2008)
    4. नानदेड़ बम धमाका (5 अप्रैल 2006)
    जिसका राज़ संयोग से फ़ाश हो गया
    5. मालेगांव बम धमाका केस : 2008
    (मुंबई पर हमले से पहले की जाँच)
    मामले की ईमानदारी के साथ पहली यथार्थ जाँच, हेमंत करकरे ने राह दिखाई
    6. करकरे के हत्यारे कौन ?
    मुंबई पर आतंकी हमला एक वास्‍तविकता है लेकिन सी एस टी-कामा-
    रंगभवन लेन प्रकरण पर रहस्‍य का पर्दा पड़ा हुआ है
    भाग-1 आई बी और नौसेना ख़ुफ़िया निदेशालय के ब्राह्‌मणवादी तत्त्वों
    ने अमेरिका और रॉ द्वारा दी गयी धमाकेदार ख़ुफ़िया जानकारी को जान-बूझकर रोक दिया
    भाग-2 सी एस टी पर लगे 16 सीसीटीवी कैमरों के साथ छेड़छाड़ हुई थी
    भाग-3 सी एस टी के “आतंकवादियों” ने उन सिम कार्डों का प्रयोग किया था जिनके तार सतारा से जुड़े हुए थे।
    भाग-4 उन 284 फ़ोनों में से कसाब और ईस्माइल ख़ान के पास एक भी फ़ोन नहीं आया जिनपर वाइस ओवर इंटरनेट प्रोटोकॉल टेक्नोलॉजी (वी ओ आई पी) का प्रयोग करके आतंकवादियों ने पाकिस्तान के
    अपने आक़ाओं की कॉल रिसीव की थीं।
    भाग-5 आतंकवादी धारा-प्रवाह मराठी बोल रहे थे
    भाग-6 सी एस टी पर मारे गये 46 लोगों में से 22 मुसलमान थे
    भाग-7 करकरे को फंदे में फंसाया गया
    भाग-8 अजमल कसाब को भारतीय एजेंसियों द्वारा 2006 के पहले काठमांडू (नेपाल) में गिरफ़्तार किया गया था
    भाग-9 अजमल कसाब की बहु-प्रचारित तस्‍वीर
    भाग-10 एक महिला गवाह को पूछताछ और उसके बयान को दर्ज
    करवाने के लिए जबरन अमेरिका ले जाया गया लेकिन वह अडिग रही
    भाग-11 मुंबई अपराध शाखा की कहानी में झोल साफ़ नज़र आता है
    ए) सी एस टी-कामा पर गोलीबारी का समय
    बी) सी एस टी-कामा क्षेत्र पर आतंकवादियों की संख्‍या
    सी) सी एस टी से आतंकवादियों का निकलना
    डी) “स्कॉडा” थ्योरी
    ई) गिरगांव चौपाटी मुठभेड़ में मारे गये आतंकवादियों की संख्‍या
    मुंबई आतंकी हमले का एक वैकल्पिक दृष्टिकोण
    1) विले पार्ले और वाडी बंदर पर टैक्सी धमाकों का राज़
    2) ऑफ़िशियल सीक्रेट एक्ट के तहत एक मामला
    3) प्रधान पैनल की रिपोर्ट को छिपाने के प्रति सरकार (पढ़ें आई बी) की चिंता रिपोर्ट के चुनिंदा हिस्सों का लीक होना गुमराह करने के लिए है
    बाद की घटनाएं दृष्टिकोण की पुष्टि करती हैं
    फिर से जाँच के लिए उपयुक्‍त मामला
    7. मुंबई हमला केस की जाँच
    आई बी और एफ बी आई असल जाँचकर्ता, मुंबई क्राइम ब्रांच महज़ एक कठपुतली
    8. मालेगांव विस्फोट कांड 2008 (मुंबई हमले के बाद जाँच)
    हेमंत करकरे की जाँच पर पानी फेरना
    असल षडयंत्रकारी का चेला ही जाँच टीम का प्रमुख बना
    अनेक भयंकर कोताहियां और कारगुज़ारियां
    9. महाराष्‍ट्र के ब्राह्‌मणों की संदिग्‍ध भूमिका
    10. आई बी के ख़िलाफ़ चार्ज शीट
    11. देश व समाज को बचाने के लिए तुरन्त उपाय ज़रूरी

    संलग्‍नक अ
    संलग्‍नक ब
    नक़्शा : उस स्थान का चित्र जहां पर प्रमुख आतंकवादी हमला हुआ और हेमंत करकरे की हत्या हुई
     

    Pharos Media is pleased to inform about our new book “Who Killed Karkare? — The real face of terrorism in India” written by a former senior police officer. For the first time, it probes deep into the "Islamic terrorism" in India. Of particular interest is the book's detailed study of the 26/11 attack on Mumbai during which Maharashtra ATS chief Hemant Karkare was killed.

    Source :

    0 comments:

    Read Qur'an in Hindi

    Read Qur'an in Hindi
    Translation

    Followers

    Wievers

    Gadget

    This content is not yet available over encrypted connections.

    गर्मियों की छुट्टियां

    अनवर भाई आपकी गर्मियों की छुट्टियों की दास्तान पढ़ कर हमें आपकी किस्मत से रश्क हो रहा है...ऐसे बचपन का सपना तो हर बच्चा देखता है लेकिन उसके सच होने का नसीब आप जैसे किसी किसी को ही होता है...बहुत दिलचस्प वाकये बयां किये हैं आपने...मजा आ गया. - नीरज गोस्वामी

    Check Page Rank of your blog

    This page rank checking tool is powered by Page Rank Checker service

    Hindu Rituals and Practices

    Technical Help

    • - कहीं भी अपनी भाषा में टंकण (Typing) करें - Google Input Toolsप्रयोगकर्ता को मात्र अंग्रेजी वर्णों में लिखना है जिसप्रकार से वह शब्द बोला जाता है और गूगल इन...
      5 years ago

    हिन्दी लिखने के लिए

    Transliteration by Microsoft

    Host

    Host
    Prerna Argal, Host : Bloggers' Meet Weekly, प्रत्येक सोमवार
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

    Popular Posts Weekly

    Popular Posts

    हिंदी ब्लॉगिंग गाइड Hindi Blogging Guide

    हिंदी ब्लॉगिंग गाइड Hindi Blogging Guide
    नए ब्लॉगर मैदान में आएंगे तो हिंदी ब्लॉगिंग को एक नई ऊर्जा मिलेगी।
    Powered by Blogger.
     
    Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.