होम्योपैथी की तासीर बेजोड़ है

Posted on
  • Thursday, September 22, 2011
  • by
  • DR. ANWER JAMAL
  • in
  • Labels:
  • -डॉ.  ए. के.  अरुण
    एक प्रसिध्द अमेरिकी एलोपैथ डा. सी हेरिंग ने होम्योपैथी को बेकार सिध्द करने के लिए एक शोध प्रबन्ध लिखने की जिम्मेदारी ली। वे गम्भीरता से होम्योपैथी का अध्ययन करने लगे। एक दूषित शव के परीक्षण के दौरान उनकी एक ऊंगली सड़ चुकी थी। होम्योपैथिक उपचार से उनकी अंगुली कटने से बच गई। इस घटना के बाद उन्होंने होम्योपैथी के खिलाफ अपना शोध प्रबन्ध फेंक दिया।
    इस वर्ष 10 अप्रैल को होम्योपैथी के भारत में 200 साल पूरे हो रहे हैं। इस बहाने होम्योपैथी के कुछ महत्वपूर्ण पहलुओं पर चर्चा जरूरी हो जाती है। शुरू से ही आधुनिक चिकित्सा पध्दति एलोपैथी का होम्योपैथी के प्रति तंग नजरिया रहा है। एक सहज एवं सस्ती चिकित्सा प्रणाली होते हुए भी होम्योपैथी को कभी महत्वपूर्ण या प्रमुख चिकित्सा पध्दति नहीं माना गया। कभी जादू की फड़िया, मीठी गोलियां या जादू की झप्पी तो कभी प्लेसिबो कहकर इसे महत्वहीन बताने की कोशिश हुई, लेकिन अपनी क्षमता और वैज्ञानिकता के बलबूते होम्योपैथी विकसित होती रही। होम्योपैथी एलोपैथी के बाद दुनिया में एक दूसरी सबसे बड़ी चिकित्सा पध्दति है। होम्योपैथी एक ऐसी चिकित्सा विधि है जो शुरू से ही चर्चित, रोचक और आशावादी पहलुओं के साथ विकसित हुई है।
    सन् 1810 में इसे जर्मन यात्री और मिशनरीज अपने साथ लेकर भारत आए। इन छोटी मीठी गोलियों ने भारतीयों को लाभ पहुंचा कर, अपना सिक्का जमाना शुरू कर दिया। सन् 1839 में पंजाब के महाराजा रणजीत सिंह की गम्भीर बीमारी के इलाज के लिए प्रफांस के होम्योपैथिक चिकित्सक डा. होनिंगबर्गर भारत आए थे। उनके उपचार से महाराजा को बहुत लाभ मिला था। बाद में सन 1849 में जब पंजाब पर सर हेनरी लारेन्स का कब्जा हुआ, तब डा. होनिंगबर्गर अपने देश लौट गए। सन 1851 में एक अन्य विदेशी चिकित्सक सर जान हंटर लिट्टर ने कलकत्ता में मुफ्त होम्योपैथिक चिकित्सालय की स्थापना की। सन् 1868 में कलकत्ता से ही पहली भारतीय होम्योपैथिक पत्रिका शुरू हुई तथा 1881 में डा. पीसी मुजुमदार एवं डा. डीसी राय ने कलकत्ता में भारत के प्रथम होम्योपैथिक कालेज की स्थापना की।
    होम्योपैथी के आविष्कार की कहानी भी बड़ी रोचक है। जर्मनी के एक विख्यात एलोपैथिक चिकित्सक डा. सैमुएल हैनिमैन ने चिकित्सा क्रम में यह महसूस किया कि एलोपैथिक दवा से रोगी को केवल अस्थाई लाभ ही मिलता है। अपने अध्ययन और अनुसंधान के आधार पर उन्होंने दवा को शक्तिकृत कर प्रयोग किया तो उन्हें अत्यधिक सफलता मिली और उन्होंने सन् 1890 में होम्योपैथी का आविष्कार किया। होम्योपैथी के सिध्दान्तों का उल्लेख हिप्पोक्रेटस एवं उनके शिष्य पैरासेल्सस ने अपने ग्रन्थों में किया था लेकिन इसे व्यावहारिक रूप में सर्वप्रथम प्रस्तुत करने का श्रेय डा. हैनिमैन को जाता है।
    उस दौर में एलोपैथिक चिकित्सकों ने होम्योपैथिक सिध्दान्त को अपनाने का बड़ा जोखिम उठाया, क्योंकि एलोपैथिक चिकित्सकों का एक बड़ा व शक्तिशाली वर्ग इस क्रान्तिकारी सिध्दान्त का घोर विरोधी था। एक प्रसिध्द अमेरिकी एलोपैथ डा. सी हेरिंग ने होम्योपैथी को बेकार सिध्द करने के लिए एक शोध प्रबन्ध लिखने की जिम्मेदारी ली। वे गम्भीरता से होम्योपैथी का अध्ययन करने लगे। एक दूषित शव के परीक्षण के दौरान उनकी एक ऊंगली सड़ चुकी थी। होम्योपैथिक उपचार से उनकी अंगुली कटने से बच गई। इस घटना के बाद उन्होंने होम्योपैथी के खिलाफ अपना शोध प्रबन्ध फेंक दिया।
    बाद में वे होम्योपैथी के एक बड़े स्तम्भ सिध्द हुए। उन्होंने ‘रोग मुक्ति का नियम’ भी प्रतिपादित किया। डा. हेरिंग ने अपनी जान जोखिम में डालकर सांप के घातक विष से होम्योपैथी की एक महत्वपूर्ण दवा ‘लैकेसिस’ तैयार की जो कई गम्भीर रोगों की चिकित्सा में महत्वपूर्ण है।
    होम्योपैथी ने गम्भीर रोगों के सफल उपचार के अनेक दावे किये लेकिन अन्तरराष्ट्रीय चिकित्सा मंच ने इन दावों के प्रमाण प्रस्तुत करने में ज्यादा दिलचस्पी नहीं दिखाई। मसलन यह वैज्ञानिक चिकित्सा विधि महज ‘संयोग’ मानी जाने लगी और समाज में ऐलोपैथी जैसी प्रतिष्ठा हासिल नहीं कर पाई। अन्तरराष्ट्रीय चिकित्सा पत्रिकाओं में भी होम्योपैथी को महज प्लेसिबो (खुश करने की दवा) से ज्यादा और कुछ नहीं माना गया।
    होम्योपैथी को एलोपैथी लाबी द्वारा कमतर आंकने के पीछे जाहिर है कि उनकी व्यावसायिक प्रतिद्वंदिता ज्यादा है। होम्योपैथी को जन सुलभ बनाने की जिम्मेदारी तो समाज और सरकार की है। लेकिन हमारे योजनाकार भी महंगी होती एलोपैथिक चिकित्सा के मोहजाल से बच नहीं पाए हैं। सालाना 22,300 करोड़ रुपये के बजट में से मात्र 964 करोड़ (4.4 प्रतिशतश् रुपये अन्य चिकित्सा विधियों पर खर्च होता है। इसमें होम्योपैथी चिकित्सा के हिस्से केवल 100 करोड़ रुपये आते हैं। इस हिसाब से सवा सौ करोड़ की आबादी वाले देश में होम्योपैथी का विकास होगा, इस बात में संशय ही संशय है। अपने ही दम-खम पर भारत में तेजी से लोकप्रिय होती जा रही होम्योपैथी के मौजूदा विकास का ज्यादा श्रेय तो होम्योपैथी के चिकित्सकों और प्रशंसकों को ही जाता है। लेकिन यह भी सच है कि सरकारी पहल के बिना होम्योपैथी को जन-जन तक पहुंचाने का लक्ष्य पूरा नहीं हो सकता।
    एलोपैथिक चिकित्सा द्वारा बिगड़े एवं लाइलाज घोषित कर दिये गए रोगों में होम्योपैथी उम्मीद की अन्तिम किरण की तरह होती है। कुछ मामले में तो होम्योपैथी वरदान सिध्द हुई है तथा अनेक मामले में तो होम्योपैथी ने रोगी में जीवन की उम्मीद का भरोसा जगाया है। चर्म रोग, जोड़ों के दर्द, कैंसर, टयूमर, पेट रोग, शिशुओं और माताओं के विभिन्न रोगों में होम्योपैथी की प्रभाविता बेजोड़ है। होम्योपैथी की इतनी अच्छी योग्यता के बावजूद स्वास्थ्य विभाग पर हावी आधुनिक चिकित्सकों एवं एलोपैथिक दवा लाबी होम्योपैथी को आगे नहीं आने देना चाहती। कारण स्पष्ट है कि एलोपेथिक दुष्प्रभावों से ऊबकर काफी लोग होम्योपैथी या दूसरी देशी चिकित्सा पध्दतियों को अपनाने लगेंगे। फिर तो सरकार और मंत्रालय में इनका रुतबा बढ़ेगा और एलोपैथी की प्रतिष्ठा धूमिल हो जाएगी। होम्योपैथी के प्रति एलोपैथिक एवं आधुनिक चिकित्सा लाबी की यह दृष्टि इस सरल चिकित्सा पध्दति को आम लोगों के लिये पूर्ण भरोसेमन्द नहीं बनने देती।
    सर्वविदित है कि दुनिया में जनस्वास्थ्य की चुनौतियां बढ़ रही हैं और आधुनिक चिकित्सा पध्दति इन चुनौतियों से निबटने में एक तरह से किल सिध्द हुई है। प्लेग हो या सार्स, मलेरिया हो या टीबी, दस्त हो या लू, एलोपैथिक दवाओं ने उपचार की बात तो दूर, रोगों की जटिलता को और बढ़ा दिया है। मलेरिया और घातक हो गया है। टीबी की दवाएं प्रभावहीन हो गई हैं। शरीर में और ज्यादा एन्टीबायोटिक्स को बर्दाश्त करने की क्षमता नहीं रही। ऐसे में होम्योपैथी एक बेहतर विकल्प हो सकती है। अनेक घातक महामारियों से बचाव के लिये होम्योपैथिक दवाओं की एक पूरी रेंज उपलब्ध है। आवश्यकता है इस पध्दति को मुक्कमल तौर पर आजमाने की।
    भारत ही नहीं, होम्योपैथी के खिलाफ इन दिनों दुनिया भर में मुहिम चलाई जा रही है। अभी पिछले दिनों ब्रिटेन में एक अनुसंधान का हवाला देते हुए एलोपैथी लाबी ने होमियोपैथी के सिध्दांतों को अवैज्ञानिक घोषित कर दिया। इस दुष्प्रचार के बावजूद आम आदमी आज भी होमियोपैथी के प्रति विश्वास रखता है।
    सवाल है कि देश में जहां 70 फीसदी से ज्यादा लोग लगभग 20 रुपये रोज पर गुजारा करते हों वहां होम्योपैथी जैसी सस्ती चिकित्सा पध्दति एक बढ़िया विकल्प हो सकती है? 
    हमारे योजनाकारों को इस मुद्दे पर गम्भीरता से विचार करना होगा।

    4 comments:

    रविकर said...

    अगर आपकी उत्तम रचना, चर्चा में आ जाए |

    शुक्रवार का मंच जीत ले, मानस पर छा जाए ||


    तब भी क्या आनन्द बांटने, इधर नहीं आना है ?

    छोटी ख़ुशी मनाने आ, जो शीघ्र बड़ी पाना है ||

    चर्चा-मंच : 646

    http://charchamanch.blogspot.com/

    Dr. shyam gupta said...

    ----सही कथन है होम्योपेथी भी एक विशिष्ट वैज्ञानिक सिद्धांत व तकनीक है .....और यह सिद्धांत व औषधि बनाने की तकनीक ,भारतीय आयुर्वेद-शास्त्र में पहले से ही वर्णित है व उसे उपयोग में लाया जारहा है |....

    चंद्रमौलेश्वर प्रसाद said...

    आज की सबसे गंभीर समस्या असली होमियो दवाइयों की है। शायद इसीलिए हैनेमन ने कहा था कि एक होमियोपैथ को अपनी दवाई खुद तैयार करनी चाहिए[जो आज के युग में संभव भी नहीं है]।

    Kunwar Kusumesh said...

    I trust in Homeopathy.It is very effective provided you are contacting renowned homeopath
    It is my personal experience.

    Read Qur'an in Hindi

    Read Qur'an in Hindi
    Translation

    Followers

    Wievers

    Gadget

    This content is not yet available over encrypted connections.

    गर्मियों की छुट्टियां

    अनवर भाई आपकी गर्मियों की छुट्टियों की दास्तान पढ़ कर हमें आपकी किस्मत से रश्क हो रहा है...ऐसे बचपन का सपना तो हर बच्चा देखता है लेकिन उसके सच होने का नसीब आप जैसे किसी किसी को ही होता है...बहुत दिलचस्प वाकये बयां किये हैं आपने...मजा आ गया. - नीरज गोस्वामी

    Check Page Rank of your blog

    This page rank checking tool is powered by Page Rank Checker service

    Hindu Rituals and Practices

    Technical Help

    • - कहीं भी अपनी भाषा में टंकण (Typing) करें - Google Input Toolsप्रयोगकर्ता को मात्र अंग्रेजी वर्णों में लिखना है जिसप्रकार से वह शब्द बोला जाता है और गूगल इन...
      4 years ago

    हिन्दी लिखने के लिए

    Transliteration by Microsoft

    Host

    Host
    Prerna Argal, Host : Bloggers' Meet Weekly, प्रत्येक सोमवार
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

    Popular Posts Weekly

    Popular Posts

    हिंदी ब्लॉगिंग गाइड Hindi Blogging Guide

    हिंदी ब्लॉगिंग गाइड Hindi Blogging Guide
    नए ब्लॉगर मैदान में आएंगे तो हिंदी ब्लॉगिंग को एक नई ऊर्जा मिलेगी।
    Powered by Blogger.
     
    Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.