मैं कनफ्यूज्ड हूं, आपकी मदद की दरकार है

Posted on
  • Tuesday, March 22, 2011
  • by
  • HAKEEM YUNUS KHAN
  • in
  • Labels:
  • यह ब्लॉग दलित और मुस्लिम जीवन-मानसिकता आदि को लेकर है लेकिन इस बार इससे थोड़ा हटने की इजाजत चाहता हूं। दरअसल, मैं कनफ्यूज हो गया हूं और आपकी मदद चाहता हूं। मसला ही ऐसा है। गुस्सा भी है, संतोष भी लेकिन सबसे ज्यादा है तो भ्रम। मेरा छोटा बेटा पुणे में सिम्बायसिस का छात्र है। मैं उत्तर भारतीय हूं इसलिए वह भी यही है। उसकी मराठियों ने इसी कारण पिटाई कर दी। उसने रोते हुए फोन किया, ‘पापा, आज तक मुझे किसी ने एक थप्पड़ भी नहीं मारा था। आपने भी नहीं। लेकिन इन लोगों ने मुझे बहुत पीटा है।’ इस कारण मुझे गुस्सा बहुत है। एक पिता के तौर पर मुझे जो करना था, वह मैं कर रहा हूं। उसमें अपने जानते कोई कमी नहीं कर रहा। इस कारण संतोष है। लेकिन असमंजस इस कारण है कि आगे मुझे क्या करना चाहिए। वह फाइनल इयर में है और बस तीन महीने बचे हैं इसलिए उसे वापस जाने से रोकना मुमकिन नहीं है। कॅरियर का सवाल है। उसकी सुरक्षा की कोई गारंटी नहीं है। मैं अदना-सा आदमी। उसके लिए सुरक्षा-चक्र की व्यवस्था नहीं कर सकता। उसे कह भी नहीं सकता कि आगे ऐसी घटना नहीं होगी क्योंकि ऐसी घटनाएं रोज हो रही हैं। मैं जिस पीड़ा से गुजर रहा हूं, उससे संभव है, आपमें से कुछ लोग भी गुजर रहे हों। फिर भी, यह सवाल इसलिए है कि इसका इलाज क्या है। ‘पूरा देश एक है’- जैसी बातें उस आदमी के लिए महत्वपूर्ण नहीं हैं जो ऐसी पीड़ा से गुजर रहे हों। उन्हें ऐसा होता नहीं दिखता।

    जिन लोगों ने मेरे बेटे की पिटाई की है, उनका नेता एनसीपी का था। इसलिए यह मानने में हर्ज नहीं है कि एनसीपी में कम-से-कम बिल्कुल निचले स्तर तक के कार्यकर्ताओं की मानसिकता भी वही है जो शिवसेना और महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) की है। वे मराठियों की अस्मिता के लिए लड़ रहे हैं। ऐसे में बयानबाजियों से काम नहीं चलने वाला। कांग्रेस-भाजपा जैसी कथित राष्ट्रीय पार्टियों के नेताओं के जबानी तीर अपनी जगह हैं। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने एक और काम किया है। उसने कहा है कि संघ के कार्यकर्ता शिवसेना-मनसे के कहर से उत्तर भारतीयों को बचाएंगे। बहुत अच्छा है। जिस दिन यह बयान आया, उसी दिन मेरे बेटे की पिटाई हुई। तब से पांच दिन तो हो ही गए हैं, अब तक तो किसी को बचाए जाने की खबर नहीं आई है। इसलिए यह मानने में हर्ज नहीं है कि यह भी जबानी जमाखर्च ही है। लेकिन यह दो कारणों से ज्यादा खतरनाक है: 1/ संघ का वजूद खुद संकट में है। अपनी पकड़ बनाए रखने से ज्यादा, संघ अपनी वकत बनाने की कोशिश में है। उसे लगता है कि इस तरह के बयानों से उसके आनुषंगिक संगठन भाजपा को मदद मिलेगी जो उत्तर प्रदेश और बिहार में अपनी राजनीतिक जमीन लगातार खो रही है। उसे यह अंदाजा भी नहीं होगा कि महाराष्ट्र में उत्तर भारतीयों की जैसे-जैसे पिटाई होगी, उत्तर भारत में भाजपा की जमीन कमजोर ही होती जाएगी। यह संघ के आश्वासन टूटने का असर होगा और भुगतेगी भाजपा। 2/ डर यह है कि संघ की इस तरह की बयानबाजी से स्थिति बिगड़ सकती है। बाल ठाकरे परिवार की धारा के समर्थक कह रहे हैं कि उन्हें संघ की सलाह की जरूरत नहीं है। हिन्दुत्व के नाम पर समाज में विभेद पैदा करने वाले तत्वों की इस सिरफुटौव्वल में भी आम आदमी को ही मारा जाना है। ठाकरे परिवार समर्थक अब यह कहते हुए किसी की पिटाई कर सकते हैं कि देखें, तुम्हें कौन बचाने आता है। संघ ने काम करने की जगह उत्पाती तत्वों को और मौका दे दिया है। कमजोर अपनी महत्ता साबित करने के लिए इसी तरह की बातें करता है। लेकिन सचमुच बचाने वालों की मुश्किल इस दृष्टि से बढ़ने वाली है।
    दिक्कतें एक-दो नहीं हैं। राष्ट्र-राज्य शक्ति में यकीन करने वालों के लिए इन कथित हिन्दुत्ववादी शक्तियों ने संकट पैदा करने में कभी कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी। यहां तक कि आजादी की लड़ाई के दौरान कांग्रेस में भी निचले स्तर तक कई ऐसे लोग थे जो इन शक्तियों के प्रभाव में थे। हाल के वर्षों में भी कांग्रेस में यह सोच दिखती रही है जिसे राजनीतिक विश्लेषकों ने ‘सॉफ्ट हिन्दुत्व’ का नाम दिया हुआ है। यह दरअसल वोटों की लड़ाई है और दोनों ही पक्ष आमने-सामने हैं। मुश्किल यह है कि अपनी तमाम राष्ट्रीय सोच के बावजूद कोई भी पार्टी इससे रास्ता निकालने में रुचि नहीं रख रही क्योंकि उसे यहां या वहां वोटों की फसल दिख रही। राहुल गांधी, ठाकरे परिवार के खिलाफ बयान दे रहे हैं लेकिन महाराष्ट्र में तो कांग्रेस-एनसीपी सरकार है। अगर इसी तरह की वारदात बिहार-यूपी में अभी हो तो कांग्रेसी कैसे-कैसे क्या-क्या करेंगे, यह देखने लायक हो सकता है। लेकिन महाराष्ट्र में हिंसक घटनाएं और जहरीली बयानबाजी होगी तो उसका फायदा भी क्यों न उठाया जाए!
    यह अजीब बात है कि दुनिया जब ग्लोबल विलेज का शक्ल अख्तियार कर चुकी हो, इस तरह की बातें हो रही है। आस्ट्रेलिया और यहां-वहां भारतीयों पर होने वाले हमलों पर चीख-पुकार मचाने का ऐसे में कोई मायने नहीं। निहित स्वार्थ के चलते घर में खुद ही आग लगाने वाले लोगों को दुनिया के बारे में कहने का अधिकार नहीं है। ऐसा भी नहीं है कि हम-आप इसे नहीं समझते।
    .. .. .. ..
    इस ब्लॉग की शुरुआत दिल्ली से लखनऊ आते वक्त शताब्दी एक्सप्रेस में किया था। बगल में बैठे सज्जन ने दो-तीन वाक्य पढ़ लिए और पूछा, ‘यह सब किसे लिख रहे हैं?’ अपना परिचय देने से कतरा गया और कहा, ‘बस, ऐसे ही’ तो उन्होंने अखबार में छपी कुछ तस्वीरें दिखाते हुए कहा, ‘असली आतंकवादी यही हैं।’ पीछे बैठे दो युवा भी पूरी यात्रा के दौरान नेताओं की बातों का माखौल उड़ाते रहे। राजनीति इतनी बुरी चीज तो नहीं। अपना देश पूरी दुनिया में इसलिए भी सिर उठाए हुए है कि हमने इसी राजनीति के बल पर लोकतंत्र को हर हालत में जिंदा और जीवंत रखा है।
    ऐसे में यह सब..। मैं और कनफ्यूज हो गया हूं।
    साभार 

    0 comments:

    Read Qur'an in Hindi

    Read Qur'an in Hindi
    Translation

    Followers

    Wievers

    Gadget

    This content is not yet available over encrypted connections.

    गर्मियों की छुट्टियां

    अनवर भाई आपकी गर्मियों की छुट्टियों की दास्तान पढ़ कर हमें आपकी किस्मत से रश्क हो रहा है...ऐसे बचपन का सपना तो हर बच्चा देखता है लेकिन उसके सच होने का नसीब आप जैसे किसी किसी को ही होता है...बहुत दिलचस्प वाकये बयां किये हैं आपने...मजा आ गया. - नीरज गोस्वामी

    Check Page Rank of your blog

    This page rank checking tool is powered by Page Rank Checker service

    Hindu Rituals and Practices

    Technical Help

    • - कहीं भी अपनी भाषा में टंकण (Typing) करें - Google Input Toolsप्रयोगकर्ता को मात्र अंग्रेजी वर्णों में लिखना है जिसप्रकार से वह शब्द बोला जाता है और गूगल इन...
      4 years ago

    हिन्दी लिखने के लिए

    Transliteration by Microsoft

    Host

    Host
    Prerna Argal, Host : Bloggers' Meet Weekly, प्रत्येक सोमवार
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

    Popular Posts Weekly

    Popular Posts

    हिंदी ब्लॉगिंग गाइड Hindi Blogging Guide

    हिंदी ब्लॉगिंग गाइड Hindi Blogging Guide
    नए ब्लॉगर मैदान में आएंगे तो हिंदी ब्लॉगिंग को एक नई ऊर्जा मिलेगी।
    Powered by Blogger.
     
    Copyright (c) 2010 प्यारी माँ. All rights reserved.